Breaking News

मंदसौर शहरवासियो को नाममात्र के शुल्क पर मांगलिक भवन की सुविधा मिलेगी

नगरवासियों को अगले महीने सर्वसुविधायुक्त मांगलिक भवन मिल जाएगा। इसका काम 90 फीसदी पूरा हो चुका है। जल्दी ही बाकी भी पूरा कर दिया जाएगा। इसके बाद यह आमजन के लिए उपलब्ध होगा। देर से ही सही लेकिन नगरवासियों को मिलने वाला यह एकमात्र मांगलिक भवन होगा जिसे भी उपयोग में ले सकेगा।

टंकी परिसर में तैयार हो रहा यह मांगलिक भवन 50 लाख रुपए से बना है। इसे नाममात्र का शुल्क देकर नगर का कोई भी व्यक्ति उपयोग कर सकेगा। खास बात यह कि इस मांगलिक भवन के पास ही नगर परिषद का कार्यालय भी है। ऐसे में किसी भी प्रकार की असुविधा होने संभावना भी कम है और फायदा यह कि नगर परिषद कार्यालय परिसर में ही काफी खाली जमीन है। इसे भविष्य में नगर परिषद बगीचे के रूप में विकसित करने की योजना बना रही है। ऐसे में यह बगीचा भी किसी मांगलिक आयोजन में लोगों के काम का आ सकेगा। इसी भवन के पास में नप का फिल्टर प्लांट है। मांगलिक आयोजन में पानी सबसे बड़ी जरूरत होती है। यहां वह जरूरत भी खत्म हो जाएगी और लोगों को पानी के लिए इधर-उधर भटकने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कुल मिलाकर एक ही स्थान पर लोगों को सारी सुविधाएं मिल सकेंगी।

अगले महीने तक फाइनल टच भी हो जाएगा
भवन का करीब 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है। फाइनल टच देना बाकी है। उस पर काम चल रहा है। अगले महीने तक वह भी पूरा हो जाएगा। इसके बाद यह जनता के उपयोग के लिए पूरी तरह से तैयार होगा। बी.एस. सोलंकी, सीएमओ

तीन साल तक अटका रहा भवन , अब जाकर पूरा हुआ काम
यह भवन करीब तीन साल तक अटका रहा। इसका निर्माण नहीं हो सका। इसे बनाने के लिए पूरी प्रोसेस पिछली नगर परिषद ने ही कर दी थी। बाद में जब इसकी टैंडर प्रक्रिया पूरी हो गई और काम शुरू ही होने वाला था कि टाउन एंड कंट्री प्लानिंग विभाग ने ड्राइंग और डिजाइन के अभाव में इसे रोक दिया। इसके बाद से यह 2016 के आखिर तक रुका रहा। नवंबर 2016 में इसका वर्क आॅर्डर जारी हुआ और पांच महीने में काम पूरा हो चुका है।

शहर में सार्वजनिक मांगलिक भवन एक भी नहीं है। कुछ समाजों के निजी नोहरे हैं। इनमें पोरवाल समाज, खाती समाज, अग्रवाल समाज, ब्राह्मण समाज के नोहरे हैं। इसके अलावा निजी मैरिज गार्डन हैं। जहां लाेगों को बड़ी रकम अदा करनी पड़ती है। कई बार हालात यह कि मांगलिक कार्यक्रमों के लिए लोगों को नगर के मैदानों पर तंबू लगाने पड़ते हैं। ऐसे में नगरवासियों के लिए यह एक बड़ी सुविधा के रूप में सामने आएगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts