Breaking News

मंदसौर शहर कागज में बना ओडीएफ, शहर की पुरानी बस्तियो में गंदगी का अंबार- श्री हनिफ शेख

हितग्राहियो को शौचालय निर्माण की शेष राशि अब तक नही मिली

मंदसौर।  नगर पालिका परिषद मंदसौर द्वारा स्वच्छता अभियान एवं शहर को खुले में शौच मुक्त बनाने के लिये मोटी राशि खर्च की, इस भारी भरकम राशि को खर्च करने के बावजुद शहर की पडताल करने पर जो परिणाम दिखायी देते है वे मंदसौर शहर की साख को खराब करने वाले है। शहर के पुराने क्षेत्रो मदारपुरा, नरसिंहपुरा, भैसा पहाह, पशुपतिनाथ. चंद्रपुरा मार्ग, अयोध्या बस्ती, इंदिरा कॉलोनी ( इंडस्ट्रीयल ऐरिया) आदी अनेक स्थानो पर बसरी गंदगी मंदसौर नपा परिषद के पदाधिकारियो के शहर को ओडीएफ बनाने के दावे की पोल खोलन के लिये पर्याप्त है। कागज में मंदसौर को ओडीएफ बनाने के बाद इसके पदाधिकारियो की निष्क्रियता का प्रतिफल है कि वापस गंदगी दिखायी दे रही है और जो नागरिक  शहर को ओडीएफ बनाना चाहते है उनके द्वारा शौचालय निर्माण के बावजुद कई माह बीत जाने पर भी शेष राषि खातो में नही डाली गयी है।
           यह बात शहर ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष व पार्षद  मो हनिफ शेख ने कहीं, उन्होनें कहा कि मंदसौर शहर ओडीएफ बने इसके लिये न केवल भाजपा पार्षदो बल्कि विपक्षी कांग्रेस पार्षदो ने भी पूर्ण रूप से नपा पदाधिकारियो का सहयोग किया लेकिन भारत के सौ शहरो में स्वच्छता सर्वेक्षण का कार्य पूर्ण हो जाने के बाद मंदसौर नपा के पदाधिकारी न केवल उदासीन हो गये बल्कि नपा स्वास्थ्य शाखा के कर्मचारी और अधिकारी भी स्वच्छता अभियान में मनोयोग से  कार्य करना छोड दिया जिसका परिणाम यह है कि सुबह और रात्री के दौरान मंदसौर शहर के मदारपुरा, नरसिंहपुरा, पशुपतिनाथ. चंद्रपुरा मार्ग, अयोध्या बस्ती, इंदिरा कॉलोनी ( इंडस्ट्रीयल ऐरिया) शहर क्षेत्र भैसापहाड व अन्य दुरस्थ कॉलोनियो में गंदगी देखी जा सकती है। श्री शेख ने इसके लिये संबंधित क्षेत्र के नागरिको के अलावा नपा कर्मचारियो को भी जिम्मेदार बताते हुये कहा कि चलित मोबाईल टायलेट की पर्याप्त सफाई नही होने के कारण आम नागरिक इन मोबाईल टायलेटो का उपयोग नही कर रहे है जिसकी पुरी जानकारी नपा को है।
          श्री शेख ने इसके अतिरिक्त मंदसौर नगर पालिका द्वारा शौचालय बनाने के लिये भोपाल के ठेकेदार को दिये गये कार्य के मामले में नपा पर आरोप लगाते हुये कहा कि नपा कर्मचारियो की मिलीभगत के चलते ठेकेदार की ओर से हितग्राहियो से 1300-1300 रूपये प्राप्त करते हुये कुछ स्थानो पर गड्डे खोदे गये और कुछ सामान डालकर ठेकेदार द्वारा कार्य बंद चला गया जिसके कारण कई माह बीत जाने के बावजुद न तो हितग्राही का शौचालय बना और नही रूपये वापस आये।
         श्री शेख ने नपा परिषद की बैठक में वार्ड क्रमांक तीस के मामले में उठाये गये मामले का हवाला देते हुये कहा कि उनके द्वारा एक नही बल्कि कई बार हितग्राहियो को द्वितीय चरण के कार्य का रूपया खाते में आने का मामला उठाया लेकिन अब तक नपा ने इस मामले में ठोस कार्यवाही नही की है,  वार्ड पार्षद के आश्वासन पर कार्य पुरा तो हो गया लेकिन शेष राशि के लिये वार्ड क्रमांक 30 के अलावा अन्य कई वार्डो के नागरिक नपा के चक्ककर काट रहे है। श्री शेख ने इस मामले में संबंधित ठेकेदार की धरोहर राशि जब्त कर कार्यवाही करने के अलावा कार्य पूर्ण करने वाले हितग्राहियो को जल्द राशि दिलवाये जाने की मांग की है अन्यथा आगामी दिनो में जनता के साथ इस मामले में नपा का घेराव होगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts