Breaking News

मंदसौर शहर पर रहेगी अब 24 घंटे ‘तीसरी आंख’ की नज़र

मंदसौर। शहरी क्षेत्रों की सुरक्षा को मुस्तैद करने और अपराधों पर नियंत्रण के लिए पुलिस मुख्यालय द्वारा शहर के चप्पे-चप्पे को तीसरी आंख की जद में लाया जा रहा है। इसके तहत शहर में 36 पाइंट चिन्हित किए गए थे। अब यहां लगभग 150 से अधिक कैमरे लगाए जाएंगे। अगले दो माह में शहर के सभी प्रमुख मार्गों, चौराहों, स्कूल, कॉलेज, संवेदनशील जगहों व प्रमुख धार्मिक स्थानों के आस-पास कैमरों की पैनी नजर भी रहेगी। लगभग डेढ़ साल पहले हुए सर्वें में इन 36 स्थानों का चयन किया गया था। अब यहां कैमरे लगाने की कार्रवाई शुरू की जा रही है। इन सभी कैमरों पर नजर रखने के लिए कंट्रोल रूम में ही एक दीवार के बराबर स्क्रीन भी बनाई जाएगी।

अपराधियों की शहर में हो रही आमद के साथ ही वाहन चोरी, संदिग्ध लोगों की आवाजाही पर अब लगभग 150 सीसीटीवी कैमरों की नजरें रहेंगी। सीसीटीवी कैमरों के माध्यम से शहर में घटित होने वाले अपराधों पर नजर रखने के साथ ही उनकी पहचान में भी मदद मिलेगी। शहर में कैमरे लगाने के लिए बेस बनाने व केबल डालने का कार्य प्रारंभ हो चुका है। एएसआई अजय शर्मा ने बताया कि शहर के सभी चौराहों सहित कलेक्टर बंगले के समीप तेलिया तालाब पिकनिक स्पॉट के पास हनुमान मंदिर के चौराहे, राजीव गांधी स्नातकोत्तर महाविद्यालय के सामने, प्रतापगढ़ रोड नाका नंबर 10, नयाखेड़ा तिराहा, गुराड़िया फंटे सहित शहर के सभी प्रमुख बाजारों व भीड़ वाले इलाकों में कैमरे लगाए जा रहे हैं। पुलिस मुख्यालय भोपाल से पूरे प्रदेश के लिए हनीवेल कंपनी को ठेका दिया गया। कैमरे उच्च क्वालिटी के रहेंगे, जिनके फुटेज में लोगों के चेहरों की पहचान हो सकेगी। भोपाल मुख्यालय की टीम भी भ्रमण कर स्थान चयनित कर चुकी है। मंदसौर पुलिस को गड्ढे खुदवाने और कंपनी के साथ रहकर कार्य देखना है।

यहां तैयार हो चुकी स्लेब

कलेक्टर बंगले के समीप तेलिया तालाब बालाजी मंदिर के सामने एवं पीजी कॉलेज के बाहर, महाराणा प्रताप तिराहा, बीपीएल चौराहा सहित अनेक जगह कैमरे लगाने के लिए स्लैब तैयार भी हो चुकी है। अब चौराहों व अन्य स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने की कार्य होगा। दो माह में कैमरे लगाने का कार्य पूर्ण हो जाएगा।

यातायात नियम तोड़ा तो घर पहुंचेगा चालान

बीपीएल चौराहे पर सिग्नल तोड़ने सहित यातायात के नियमों की अवहेलना करने वाले वाहन चालकों को हाईटेक सीसीटीवी कैमरे लगने के बाद झटका लग सकता है। सिग्नल या किसी भी तरह से यातायात का नियम तोड़ने वाले वाहन के नंबर रिकॉड हो जाएंगे। नंबर के आधार पर पुलिस वाहन मालिक का पता लगाकर चालान उसके घर भेजेगी। अन्य क्षेत्रों में यातायात नियम तोड़ने पर भी यह कार्रवाई होगी। पुलिस का मानना है कि इससे चोरी के वाहनों का भी पता लगेगा।

पूरे शहर पर नजर रहेगी

शहर में 36 स्थानों पर 150 सीसीटीवी कैमरे लग रहे हैं, यह सर्विलेंस सिस्टम से चलेंगे। पुलिस कंट्रोल रूम पर बैठकर पूरे शहर को देख सकेगी। संदिग्ध वाहन, व्यक्ति या अपराध घटित होने पर आरोपी जल्द पकड़ने में सहायता मिलेगी। यातायात नियमों का भी पालन कराया जाएगा।

-सुंदरसिंह कनेश, एएसपी,

शहर में सीसीटीवी कैमरे लगने से यह होगा

– आपराधिक घटना करने वाले आरोपी जल्द पकड़े जा सकेंगे।

– संदिग्ध वाहनों और लोगों की गतिविधि भी ट्रेस होगी।

– वाहनों के कांच तोड़ने या रात में चोरी की घटनाएं भी थमेंगी।

– वाहन चालक यातायात नियमों का पालन करना सीखेंगे।

– शहर में आने और जाने वाले वाहनों की जानकारी भी पुलिस को रहेगी।

– चौराहों पर होने वाली गतिविधियो परं भी नजरें बनी रहेंगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts