Breaking News

मंदसौर शहर से रेलवे सुविधाओ को छिनने का एक बड़ा प्रयास

कुछ भूमाफियाओ के कहने पर रची जा रही पूरी कहानी

मन्दसौर। वर्तमान में चुनाव नजदीक आते ही सभी प्रतिनिधि जनता को लोक लुभावन वादे कर रहे है कई योजनाओ के लिए पैसे भी मंजूर कर रहे है  लेकिन जनता को नहीं पता की योजनाए भी किसी ना किसी मतलब और स्वार्थ के लिए मंजूर की जाती है।
उक्त आरोप लगाते हुए ’दशपुर सृष्टि समाज विकास समिति’ एवं ’अभिनंदन विकास समिति के सचिव संदीप सलोद ने कहा कि मंदसौर रेलवे स्टेशन के पास अंडर ब्रिज बनने को लेकर भी यही भर्म जनता के बिच फेलाया जा रहा है। विगत 15 नवम्बर 2016 को डीआरएम, लोक निर्माण विभाग, नगरपालिका के अधिकारियों, वेस्टन रेलवे के रतलाम व जावरा के सेक्शन इन्जीनर की सामूहिक टीम ने निरिक्षण कर अपनी रिपोर्ट में इस जगह (रेलवे फाटक 151- सी) किसी भी तरह के ब्रिज की संभावनाओ से स्पष्ट रूप से इंकार किया था। जिनमें निम्न कारणों का उल्लेख किया गया था कि इस जगह अंडर ब्रिज बनने पर भविष्य में ये मंदसौर के स्टेशन के विकास को पूरी तरह रोक देगा, रेलवे स्टेशन के दक्षिण में शिवना नदी होने के कारण उस और प्लेटफार्म का विकास असंभव है , जबकि रेलवे सभी ट्रेनों में 22 से 24 कोच करने की तयारी कर रहा है ऐसी दशा में विकास उत्तर दिशा में ही संभव है जो अंडर ब्रिज बनने पर नहीं हो सकेगा। रेलवे लाईन के दोहरीकरण भी अंडर ब्रिज बनने के बाद  नहीं हो सकेगा क्योकि अंडर ब्रिज के बाद चोडाई समाप्त हो जाएगी, दोहरीकरण नहीं होने की दशा में लम्बी दुरी की और ट्रेने मंदसौर को मिलना मुश्किल होगा। रेलवे फाटक 151- सी की लोकेशन बीजी ट्रेक  के स्टार्टर व एडवांस स्टार्टर सिग्नल के बिच है इस जगह अंडर ब्रिज बनने से भविष्य की विस्तार योजनाए प्रभावित होगी।
  श्री सलोद ने कहा कि अब सवाल ये उठता है की इतनी समस्या के बाद भी इस अंडर ब्रिज को बनाने की मंजूरी केसे मिल गई और क्यों मिल गई ?? ये पूरा खेल हुआ शहर के भूमाफियाओ और परिवार खास को फायदा पहुचाने के लिए हुआ ? इस ब्रिज के बनने के बाद इस परिवार विशेष की सेकड़ो बीघा जमींन,मेरिज गार्डन, फेक्टरी,कालोनियों की फायदा पहुचाने के लिए हुआ ? इस काम को अंजाम देने के लिए पूरी कहानी तैयार की गई चंद मुट्ठी भर लोगो को एकत्र कर एक आन्दोलन अंडर ब्रिज बनाने के लिए छेड़ा गया व आनन फानन में रेलवे द्वारा एक कमिटी बनाकर स्टेशन से 30 से 40 फिट दूर स्थित जगह पर अंडर ब्रिज बनाने की अनुशंसा कर दी गई और पूर्व की कमेटी की किसी भी आपति व समस्या का इस अनुसशा में जिक्र भी नहीं किया गया।
श्री सलोद ने कहा कि जहा छोटे से सरकारी काम को करवाने में आदमी का आधा जीवन निकल जाता है वही 10 करोड़ के सरकारी काम को इतनी समस्या और शहर के भविष्य से खिलवाड़ कर एक परिवार विशेष को फायदा देने के लिए मुख्यमंत्री से घोषणा करवा दी गई।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts