Breaking News

मजदूरों को लेकर जा रही पीकअप पलटी, एक महिला की मौत, तीस घायल डॉक्टर की लापरवाही फिर हुई उजागर, निजी चिकित्सकों ने किया उपचार 

सीतामऊ निप्र। फसल कटाई की मजदुरी करने आ रहे मजदुरो से भरे पिकअप पलटी खा जाने से 30 मजदुर घायल हो गए जिनमें से एक महिला की मौत हो गई। इस दर्दनाक हादसे में सामुदायिक स्वास्थ्य के बीएमओ डॉ एस जी सुर्यवंशी ने अनुउपस्थित होकर मानवता को शर्मसार किया किया वही निजी चिकित्सको ने त्वरित उपचार कर मानव धर्म के निर्वहरण में अग्रणी भुमिका निर्वाह की। 23 घायलो का उपचार जिला चिकित्सालय में जारी है।  प्राप्त जानकारी के अनुसार ग्राम दलावदा से 30 मजदुरो को लेकर पिकअब एमपी 14 जीसी 0605 यहां आ रही थी प्रातः 10 बजे सीतामऊ चौमहला रोड पर ग्राम ढण्ढेडा के निकट संतुलन बिगड जाने से पिकअप पलटी खा गई। इस हादसे के तुरंत बाद पिकअप चालक फरार हो गया। घटना स्थल पर बडी संख्या में ग्रामीणो की भीड एकत्र हो गई थी बाद में ग्रामीणो ने ट्रेक्टर का प्रबंध कर घायलो को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुचाया गया। घायलो में महिला मजदुर भी शामिल थी।

फिर उजागर हुई लापरहवाही- हादसे के शिकार घायलो को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लाया गया जो कि दर्द से कहार रहे थे। सामुदायिक स्वास्थ्य  केन्द्र में लापरवाही फिर उजागर हुई। जहां एक मात्र चिकित्सक डॉ अरविंद चौहान उपलब्ध थे अन्य स्वास्थ्यकर्मी की मौजुदगी भी कम थी फलस्वरूप स्वास्थ्य केन्द्र के बाहर त्वरित उपचार के अभाव में कहारते रहे। श्री चौहान के आग्रह पर ग्रामीणो ने डॉ गोर्धनलाल दानगढ, डॉ राजमल सेठिया, डॉ नीतिन सेठिया, नारायण हरगोड आदि को सुचित किया जिन्होने मानवता के चलते सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचे एवं घायलो के उपचार में जुट गए। उपचार के दौरान 30 वर्षीय महिला मंजु पति ओमप्रकाश राठौर ने दम तोड दिया। प्राथमिक उपचार उपरांत गम्भीर घायलो को जिला चिकित्सालय में रेफर कर दिया। सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में एम्बुलेंस भी उपलब्ध नही थी अन्य वाहनो का प्रबंध कर घायलो को मंदसौर भेजा गया। घायलो को लाने एवं उपचार प्रक्रिया सम्पादित करने में कारूलाल राठौर, मांगीलाल कुशवाह, बद्रीलाल कुशवाह, देवीलाल, दिलीप, राधेश्याम जोशी, ललीत शर्मा, सहित कई नागरिको ने सक्रीय योगदान दिया।

मानवता हुई शर्मसार- नगर में चर्चा है कि हादसे के शिकार घायलो को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में उतारा जा रहा था तब बीएमओ डॉ एसजी सुर्यवंशी अपने निवास पर थे एवं गाडी भी बाहर खडी थी भीड देखकर गुपचुप तरिके से डॉ सुर्यवंशी अपनी गाडी लेकर चले गए। उनकी अनुउपस्थिति से मानवता शर्मसार हुई। दिनभर यह चर्चा जारी रही व सोशल मीडिया पर भी चर्चा छाई रही। डॉ चौहान व नीजि चिकित्सको ने मानवता को प्रोत्साहित किया। सुचना मिलने पर एसडीएम साधुलाल प्रजापति,एसडीओपी धर्मवीरसिंह चौहान,टीआई केएल दांगी, उपनिरीक्षक एसएल मिश्रा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचा एवं उपचार प्रक्रिया में अपना योगदान दिया।

ये हुए घायल- रिद्धीसिद्धी काछी, कचरी बाई काछी, किशोर रामनिवास तेली, कारूलाल काछी,राहुल मोतीलाल, सत्यनारायण कछावा,रीयाबाई माली, नंदुबाई काछी, रीना काछी, कारीबाई काछी, भगवतीबाई काछी, नीतेश तेली, उर्मीलाबाई, पुजा काछी, उषा राठौर, संजुबाई, कैलाश बाई, नानकी बाई, पेपाबाई, अशोक राठौर, देवेन्द्र कुशवाह, लक्ष्मण कुशवाह, बालमुकुन्द काछी, कलाबाई दर्जी, देवकन्या काछी,कन्हैयालाल प्रजापत, मंागीलाल काछी, पायल काछी, ओमप्रकाश राठौर आदि घायल हुए।  प्रकरण दर्ज – पुलिस ने फरीयादी अशोक राठौर की रिर्पोट पर पिकअप (लोडींग वाहन) आरोपी चालक के खिलाफ धारा 279, 337,304 ए आईपीसी के तहत प्रकरण दर्ज किया। रिर्पोट में आरोप लगाया गया कि लोडींग वाहन के चालक द्वारा तेजगती से लापरवाही पुर्वक वाहन चलाया जा रहा था जिसकी वजह से यह हादसा हुआ।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts