Breaking News

मदसौर में अपर कलेक्टर की गाड़ी के सामने लेटा व्यक्ति

जिले के गरोठ में कृषि उपज मंडी परिसर में मंगलवार को ग्राम पंचायतों में शौचालय निर्माण की समीक्षा बैठक में अपर कलेक्टर के वाहन के सामने एक व्यक्ति लेट गया। व्यक्ति की मांग थी कि दो वर्ष पूर्व उसने शौचालय निर्माण के लिए आवेदन दिया था, अब तक उस पर निर्णय नहीं हुआ है। ये अलग बात है कि अधिकारी का वाहन साइड से रास्ता बनाकर निकल गया।
जिले के गरोठ नगर के कृषि उपज मंडी परिसर में मंगलवार को जनपद पंचायत गरोठ की विभिन्न ग्राम पंचायतों में शौचालय सहित विभिन्न निर्माण कार्यों को लेकर अपर कलेक्टर रानी बाटड़ ने समीक्षा बैठक आयोजित की। जिसमें जनपद पंचायत गरोठ क्षेत्र अंतर्गत आने वाली विभिन्न ग्राम पंचायतों में चल रहे निर्माण कार्य सहित शौचालयों की समीक्षा की गई। साथ ही जिन ग्राम पंचायतों में दिए गए लक्ष्य से कम कार्य होने पर सचिवों को फटकार भी लगाई गई। साथ ही शासन की योजनाओं लाभ हितग्राहियों तक पहुंचाने के सख्त निर्देश भी दिए।
10 दिन में 80 शौचालयों का लक्ष्य ग्राम पंचायतों को
अपर कलेक्टर बाटड़ ने उन ग्राम पंचायतों सचिवों को सख्त निर्देश दिए। जिन ग्राम पंचायतों में 50 से कम शौचालयों का निर्माण हुआ है। साथ ही उन्हे 5 फरवरी तक 80 शौचालय बनाने के लक्ष्य दिए। और दिए गए समय में लक्ष्य पूरा नहीं होने की स्थिती में अगली बैठक मेें कार्रवाई करने के बारे में भी कहा। इसके अलावा अपनी पंचायतों में चल रहे निर्माण कार्यों को गति देने के बारे में कहा।

गाड़ी के सामने व्यक्ति को लेटा देखा
बैठक समाप्त होने के बाद जब अपर कलेक्टर भानपुरा की बैठक के लिए निकले तो कृषि उपज मंडी परिसर में खड़ी उनकी गाड़ी के सामने दोलतराम धाकड़ निवासी देथली खुर्द लेट गया। दोलतराम को गाड़ी के सामने लेटा देख अपर कलेक्टर के ड्रायवर ने गाड़ी पीछे ली और दौलतराम के साईड में गाड़ी निकाल भानपुरा की ओर चले गए। दौलतराम धाकड़ ने बताया कि दो साल पूर्व शौचालय बनाने के लिए आवेदन दिया था, लेकिन आज तक नहीं बना। जिसकी शिकायत 181 पर भी की जा चुकी है। लेकिन सरपंच सचिव पर कार्रवाई के लिए भेजे गए प्रस्ताव पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसका कारण पुछने के लिए मैं वहां लेटा था। लेकिन मेरी बात नहीं सुनी गई।

भानपुरा में सीईओ को लगाई डांट
गरोठ के बाद अपर कलेक्टर ने भानपुरा में भी समीक्षा बैठक ली। जिसमें भानपुरा जनपद क्षेत्र की ग्राम पंचायतों में शौचालय निर्माण की स्थिती ठीक नहीं मिलने पर सीईओ रविकांत उईके को अपर कलेक्टर ने डांट लगाई। साथ ही सभी सचिवों और रोजगार सहायकों को दिए गए तय समय में लक्ष्य प्राप्त करने के सख्त निर्देश दिए। साथ ही चल रहे निर्माण कार्यों को गति देने के लिए निर्देशित किया।

जांच कर प्रस्ताव भेज चुके हैं
दौलतराम द्वारा शौचालय नहीं बनने की शिकायत पर हमारे द्वारा जांच की जा चुकी है। साथ ही इसके प्रस्ताव हम उच्चाधिकारियों को भेज चुके हैं। प्रतिवेदन पर उच्चाधिकारी ही निर्णय लेंगे।
– रविकांत उईके, सीईओ, जनपद पंचायत गरोठ

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts