Breaking News

मनोरंजन के नाम पर मंदसौर अब तक फिसड्डी

Hello MDS Android App

एक सर्वसुविधायुक्त पिकनिक स्पॉट को लम्बे समय से तरसते नगरवासी

माता पिता स्वयं बैठे अब अपने बच्चों को भी बैठा रहें उसी खटारा रेलगाड़ी में

मंदसौर। चुनावी वर्ष में क्षेत्र के जनप्रतिनिधि अपनी अपनी उपलब्धियों को गिनाने में लगे हुए है। लेकिन सच तो यह हैं कि नगर में मनोरंजन के नाम पर या घुमने फिरने के लिए एक सर्व सुविधायुक्त पिकनिक स्पॉट तक नहीं है। नगर वासियों के पास पिकनिक स्पॉट के नाम पर मात्र एक स्थान तैलिया तालाब है जो वो भी उपेक्षा का शिकार हो रहा है। इसके लिए अलावा क्षेत्र के जनप्रतिनिधि क्षेत्रवासियो के लिए कोई खास घूमने फिरने का स्थान नहीं दे पाए है। नगर में विगत् 40 वर्षो से लम्बे समय से भाजपा की नगर पालिका परिषद् बनती आ रही है। लेकिन मनोरंजन के नाम पर नपा शहरवासियो को ज्यादा कुछ नहीं दे पाई।

संभावनाएॅ अपार लेकिन नहीं हुए प्रयास
ऐसा नहीं हैं कि मदंसौर नगर में पिकनिक स्पॉट को लेकर संभावनाएॅ नहीं है या फिर स्थान नहीं है। नगर में कई स्थान ऐसे है जहॉ सर्व सुविधायुक्त पिकनिक स्पॉट मनोरंजन का केन्द्र बनाया जा सकता है। लेकिन जिम्मेदारों के उदासीन रवैये से मंदसौर नगर आज तक इस सुविधा से वंचित ही रहा है। नगर में तीन छत्री बालाजी मंदिर के आस पास का क्षेत्र ऋषियानंद कुटिया व समीपस्थ स्थित बगीचा, न्यायालय परिसर के पीछे शिवना तट के समीप स्थल, कालाभाटा बांध आदि ऐसे अनेक स्थान है जहॉ संभावनाएॅ तो अनेक हैं लेकिन ध्यान नहीं देने की वजह से यह विकसित नहीं हो पाए।

कालाभाटा बांध के लिए बनी थी योजना लेकिन कुछ नहीं हुआ
नगर पालिका द्वारा कहा गया था कि कालाभाटा बांध पर एक अच्छे पारिवारिक माहौल के साथ पिकनिक स्पॉट बनाया जाएगा। लेकिन लम्बे समय हो गया अभी तक इसके लिए नपा द्वारा कोई प्रयास नहीं किये गये है।

माता-पिता बैठे अब बच्चे कर रहे है सवारी
मनोरंजन के साधनों के बारे में नगर की क्या स्थिति हैं इस बात का अंदाजा इसी बात से लगया जा सकता हैं कि दशपुर कुंज बगीचे में जो रेलगाड़ी बच्चों के मनोरंजन के लिए चलाई जाती है वह इतनी पुरानी हैं कि जिसमें आज के माता पिता तो उस रेल की सवारी कर ही चुके है वे अब अपने बच्चों को इसकी सवारी करवा रहे है। नपा द्वारा रेलगाड़ी को बदलने व अपडेट करने का भी कोई प्रयास नहीं किया गया। रेलगाड़ी इतनी खटारा हो चुकी हैं कि आए दिन बंद पड़ी रहती है। स्मरण रहें कि तत्कालिन नगर सुधार न्यास ने इस एकमात्र बगीचे में बच्चों के मनोरंजन के लिए 1992 में बच्चों की रेलगाड़ी की शुरूआत की थी।

अप्पू घर की जमीन पर तो कलेक्टर भवन बन गया
नगर में बच्चों के मनोरंजन के लिए अप्पू घर बनाया तय हुआ था। नपा ने तीन बार के बजट मंे भी अप्पू घर का जिक्र भी किया था लेकिन अब तो अप्पू घर की जमीन पर कलेक्टर भवन बनकर तैयार हो चुका है।

तैलिया तालाब रहा उपेक्षा का शिकार
वर्तमान नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार के पहले कार्यकाल में तैलिया तालाब के आस पास के क्षेत्र को विकसित कर एक पिकनिक स्पॉट नगरवासियों को देने की कोशिश की गई थी। शुरूआत में तो यहा प्रबंधन अच्छा रहा। गीत संगीत की ध्वनि के साथ प्रकाश पानी की व्यवस्था थी। लेकिन धीरे धीरे नपा की उदासीनता के कारण इसका भी पतन होने लगा। यहॉ पर झूले चकरी सभी वर्षो पुराने है तो जीर्ण झीर्ण अवस्था में है। तालाब के एक दूसरे छोर पर नपा द्वारा घूमने के लिए पाल का निर्माण किया गया था लेकिन वहां आज तक लाईटंे नहीं लग पाई और मुख्य स्पॉट और पाल को जोडने वाले पुल के निर्माण का कार्य भी अब प्रारंभ हुआ है। दादा दादी पार्क भी यहॉ बनाया जाना है जो कब पूर्ण होगा किसी को पता नहीं। चूॅकि विकल्प नहीं है इसलिए अनमने मन से ही नगरवासी तैलिया तालाब पर ही अपने परिजनों को लेकर घुमा फिराकर मन को समझा लेते है।

नौ वर्ष पूर्व जिला बना प्रतापगढ़ मंदसौर से कौसो आगे
मंदसौर से लगभग 30 किमी की दूरी पर स्थित राजस्थान के प्रतापगढ़ को जिला बने अभी नौ वर्ष ही हुए है। लेकिन प्रतापगढ़ मनोरंजन व पिकनिक स्पॉट के मामले में मंदसौर से कौसो आगे है। यहॉ पर तालाब के समीप सर्वसुविधायुक्त बगीचा विशाल परिसर में निर्मित किया गया है जहॉ पर साफ सफाई तो उन्नत है हि बच्चें अपने माता पिता के साथ पूरे बगीचें की सैर कर सके ऐसी मोनोरेल की व्यवस्था भी नगर परिषद् द्वारा कि गई है जिसके लिए पूरे गार्डन में तीन प्लेटफार्म भी बनाए गए है। बगीचे के बाहर खाने पीने की वस्तुओं के लिए एक चौपाटी भी परिषद् द्वारा बनाई गई है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *