मन्दसौर बैंकों में जमा हुए 1147 करोड़ के पुराने नोट, नए मिले 258 करोड़

Hello MDS Android App

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर की रात से 500 और 1000 के पुराने नोट बंद करने की घोषणा की थी। तब से लेकर शुक्रवार शाम तक बैंकों में पुराने नोट जमा करने का कार्य चलता रहा। इस दौरान कुछ नोट बदले भी गए तो बचत खातें से प्रति सप्ताह 24 हजार रुपए और चालू खातों में 50 हजार रुपए प्रति सप्ताह निकालने की छूट दी गई। पर सेंट्रल मप्र ग्रामीण बैंक की शाखाओं और ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद बैंक शाखाओं में लोगों को अभी भी परेशानी हो रही है। अभी भी एटीएम से केवल 2 हजार के नोट निकल रहे हैं। उनमें छोटे नोट डाले ही नहीं जा रहे हैं।

जनधन के खातों में उम्मीद से ज्यादा
प्रधानमंत्री ने पिछले साल देश भर में हर व्यक्ति को शून्य बैलेंस पर जनधन के खाते खुलवाए थे। जिले में 2.40 लाख खाते खुले थे। 8 नवंबर के पहले तक इनमें से अधिकांश में लेन-देन नहीं के बराबर हो रहा था। इनमें भी 50 हजार से ज्यादा जमा करने पर केवायसी की औपचारिकताएं पूरी कराना पड़ती हैं। पर 8 नवंबर से शुक्रवार तक जिले के 2.40 लाख जनधन खातों में अभी तक 159 करोड़ रुपए जमा कराए गए।

स्थिति सामान्य होगी
नोटबंदी के बाद से सभी बैंक शाखाओं में कुल 1147 करोड़ रुपए जमा हुए हैं। 258 करोड़ रुपए के नए नोट जिले को मिले हैं। रुपए कम मिलने से लोगों को परेशानी हुई। लेकिन अब स्थिति सामान्य होने की उम्मीद है।
-सुधीर कुमार, प्रबंधक, जिला अग्रणी बैंक

नियमानुसार जमा
जनधन खातों में 50 हजार से ज्यादा भी जमा कराए गए। इसके लिए नियमानुसार औपचारिकता ली गई। इसके बाद ही रुपए जमा किए गए।
-राजेंद्र गेहलोत, शाखा प्रबंधक, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *