Breaking News

मन्दसौर से श्री नरेन्द्र नाहटा और यशपालसिंह सिसौदिया ने भरा नामांकन

मंदसौर। मंदसौर विधानसभा में इस बार मुकाबला कांटे की टक्कर का माना जा रहा हैै एक और दो बार के विधायक यशपालसिंह सिसौदिया है तो दूसरी तरफ पूर्व मंत्री नरेन्द्र नाहटा। श्री नाहटा दो बार विधायक रह चुके है लेकिन अब तक उन्होने नीमच जिले के मनासा विधानसभा से चुनाव लड़ा था। इस बार वे पहली बार मंदसौर विधानसभा से अपनी किस्मत को अजमा रहे है। श्री नाहटा ने गुरूवार को अपना नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किया था वहीं श्री सिसौदिया ने धनतेरस याने 5 नवम्बर को मुहूर्त का नामांकन भर चुके थे। शुक्रवार को उन्होने रैली के साथ नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत किया। एक विशाल रैली के साथ श्री सिसौदिया जिला चिकित्सालय से रैली के साथ एसडीएम कार्यालय पहुंचे। रैली के साथ चुनावी रण में कुदे उम्मीदवार

मंदसौर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के प्रत्याशी यशपालसिंह सिसौदिया ने रैली के साथ अपना नाम निर्देशन पत्र निर्वाचन अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत किया। नाम निर्देशन पत्र दाखिल करने से पूर्व पं. दिनदयाल उपाध्याय मैदान से रैली प्रारंभ हुई जो शहर के प्रमुख मार्गो से होती हुई निर्वाचन कार्यालय पहुंची जहां सिसौदिया नाम निर्देशन पत्र दाखिल किया।

सुबह करीब 11.15 बजे पं. दिनदयाल उपाध्याय उद्यान से सिसौदिया की नामाकंन रैली प्रारंभ हुई जिसमें शहर के अलावा विधानसभा क्षेत्र के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने शिरकत की, ढोल-ढमाकों के साथ नामाकंन रैली कालीदास मार्ग, घंटाघर, सदर बाजार, मण्डीगेट, सराफा बाजार, किला रोड़ होते हुए निर्वाचन कार्यालय पहुंची जहां भाजपा प्रत्याशी यशपालसिंह सिसौदिया ने भाजपा जिला महामंत्री महेन्द्र चौरडि़या और अनिल कियावत, मंदसौर ग्रामीण मण्डल अध्यक्ष नरेन्द्र पाटीदार, दलौदा मण्डल अध्यक्ष चन्द्रशेखर मंडलोई की मौजुदगी में निर्वाचन अधिकारी के समक्ष अपना नाम निर्देशन पत्र दाखिल किया। नामाकंन रैली के दौरान पुरे रास्ते भर जगह-जगह भाजपा कार्यकर्ताओं और आम जन ने प्रत्याशी यशपालसिंह सिसौदिया का स्वागत सत्कार किया, आम जनता ने कहीं पुष्पमाला पहनाकर तो कहीं तिलक लगाकर तो कहीं साफा बांधकर तो कहीं आरती उतारकर सिसौदिया का स्वागत किया।

नामाकंन रैली के दौरान घंटाघर पर नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए केन्द्रीय मंत्री मुख्त्यार नकवी ने कहा कि कांग्रेस नेता पूर्व में भ्रष्टाचार एवं घोटाला करके सरकार चलाते थे तथा तानाशाह रवैया अपनाकर यह सोचते थे कि सत्ता तो इनकी बपोती है उनके अलावा कोई अन्य पार्टी या नेता सत्ता पा ही नही सकते लेकिन जनता ने प्रदेश में 15 वर्षो से तथा केन्द्र में पांच वर्षो से कांग्रेसी नेताओं को आईना दिखा दिया है। सत्ता के अभाव में आज कांग्रेसी नेता ऐसे तड़प रहे है जैसे कि बिन पानी मछली तड़पती है। केन्द्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा प्रदेश में शिवराजसिंह चौहान के खिलाफ अनगर्ल एवं मिथ्या प्रपोगण्डा करके अपनी राजनीति को कांग्रेसी एक बार फिर चमकाना चाहते है, लेकिन जनता है कि उन्हें हर चुनाव में वास्तविक आईना दिखा रही है। मंदसौर विधानसभा प्रत्याशी यशपालसिंह सिसौदिया ने क्षेत्र की जनता के लिए विकास कार्य की सौगाते लाने के लिए कई प्रयास एवं सफल कार्य किए है। आज केन्द्र में नरेन्द्र मोदी शासन और विकास का एक मॉडल बन चुके है जिसे पुरी दुनिया में जाना जा रहा है, उसी प्रकार प्रदेश शिवराजसिंह चौहान के नेतृत्व में विकास के नए आयाम लिख चुका है एवं आगे और प्रदेश को समृध्द बनाने के लिए एक बार फिर प्रदेश में कमल को खिलाना है।

जानकार बात रहे कांटे की टक्कर
मंदसौर सीट से नरेन्द्र नाहटा का नाम घोषित होने के बाद राजनीति के जानकार इस बार कांटे की टक्कर बता रहे है। एक तरफ जहां श्री सिसौदिया का 10 वर्ष कार्यकाल है तो दूसरी तरफ श्री नाहटा का लम्बा राजनीति अनुभव अब देखना होगा कि जनता किसे जीत का ताज पहनाती है।

सपॉक्स, शिवसेना हिन्दुस्तान और निर्दलीय भी मैदान में
इस बार मंदसौर विधानसभा से कांग्रेस व भाजपा के प्रत्याशियों के अलावा सपॉक्स से मधुसूदन भारद्वाज, शिवसेना हिन्दुस्तान से अनिल सोनी और दिनेश शर्मा ने भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप मेें नामांकन पत्र दाखिल किया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts