Breaking News

महामांगलिक का आयोजन, हजारों धर्मालुजनों ने की महामांगलिक श्रवण मेहता परिवार ने लिया महामांगलिक का लाभ

आचार्य श्री विश्वरत्न सागर सूरिश्वरजी की पावन निश्रा में हुआ

मन्दसौर। शुक्रवार को कार्तिक सुदी एकम पर कृषि उपज मण्डी प्रांगण में महामांगलिक का आयोजन किया गया। आचार्य श्री विश्वरत्नसागरजी म.सा. व अन्य जैन संत व साध्वियों ने मंदसौर चातुर्मास के अंतर्गत आयोजित चतुर्थ महामांगलिक व नूतन वर्ष की पहली महामांगलिक में लगभग 15 हजार से अधिक श्रद्धालुगण शामिल हुए और उन्होंने पुरे मनोभाव से आचार्य श्री विश्वरत्नसागरजी के मुखारविन्द से महामांगलिक श्रवण की। इस महामांगलिक में श्रमणसंघीय उपाध्याय श्री मूलमुनिजी म.सा. व उनके शिष्य श्री राकेशमुनिजी सहित स्थानकवासी जैन परम्पराओं की कई साध्वियां भी महामांगलिक में शामिल हुई। इस महामांगलिक में जैन श्वेताम्बर मूर्तिपुजक व स्थानकवासी जैन आमनाओं को मानने वाले संतों के एक ही पाठ पर विराजित होने से मंदसौर नगर में जैन एकता का नया सूत्रपात हुआ। इस महामांगलिक में सकल जैन समाज की गौतमप्रसादी का भी आयोजन किया गया। जिसमें सभी जैन पंथों को मानने वाले धर्मालुजन शामिल हुए। प.पू. तप सम्राट आचार्य श्री नवरत्नसागरसूरिश्वरजी म.सा. द्वारा रचित मंत्रों से मंत्रित आधि व्याधि उपाधि निवारक महामांगलिक को श्रवण करने मंदसौर नगर व जिले के ही नहीं  अपितु पूरे मालवांचल, अहमदाबाद, सूरत, पूणे, मुम्बई के धर्मालुजन कृषि उपज मण्डी, मंदसौर पहुंचे। आचार्य श्री विश्वरत्नसागरजी ने लगभग ढाई घण्टे तक आयोजित इस महामांगलिक के अनुष्ठान में आत्मकल्याण, चित्त की स्थिरता, शरीर की स्वस्थता एवं रक्षा के लिये कई मंत्र श्रवण कराये।

इस महामांगलिक का लाभ स्व. श्री सज्जनलालजी मदनबाई मेहता की स्मृति में नरेन्द्र मेहता परिवार ने लिया है। महामांगलिक के अवसर पर महामांगलिक की तैयारियों में जुटे राजीव मेहता, डॉ. संजीव मेहता, डॉ. विमल मेहता, हेमन्त मेहता का आराधना भवन श्री संघ व नवरत्न परिवार के पदाधिकारियों के द्वारा शाल, श्रीफल भेंटकर बहुमान किया गया। महामांगलिक में गुरूपूजा का लाभ श्री बापूलाल मन्नालालजी गर्ग केडिया परिवार ने प्राप्त किया। लाभार्थी परिवार का आराधना भवन श्री संघ, नवरत्न परिवार ने शाल, श्रीफल भेंटकर बहुमान किया। इस महामांगलिक के कार्यक्रम में नवरत्न परिवार के पदाधिकारियों व सदस्यों ने भी बड़ी संख्या में सहभागिता की व आचार्य श्री की उपस्थिति में इन सभी का शपथ विधि समारोह भी आयोजित हुआ इसमें नवरत्न परिवार के सभी पदाधिकारियों ने पूर्ण निष्ठा से नवरत्न परिवार का काम करने की वचनबद्धता दोहरायी।  धर्मसभा में किर्तीरत्नसागरजी, उत्तमरत्नसागरजी, तीर्थरत्नसागरजी म.सा. ने भी अपने विचार रखे। कार्यक्रम का संचालन आराधना भवन श्रीसंघ अध्यक्ष महेन्द्र चौरडि़या ने किया। आभार सचिव दिलीप रांका ने माना।

संगीतकार के सुमधुर संगीत पर झूमे श्रद्धालुजन- महामांगलिक के अवसर पर नरेन्द्र भाई वाणी गोता ने अपने सुमधुर संगीत की प्रस्तुति भी दी। आराधना भवन श्री संघ व नवरत्न परिवार के आमंत्रण पर मंदसौर पधारे देश के इस प्रसिद्ध संगीतकार ने एक के बाद एक सुमधुर गीतों से समां बांध दिया। उन्होंने नवरत्नसुरिजी भक्तों के भगवान है ………. गीत की प्रस्तुति दी इसके साथ ही गुरू आपकी कृपा से सब काम हो रहा है………….., हर जन्म में गुरू तेरा साथ चाहिये, सिलसिला यह टूटना नहीं चाहिये ………. इस गीत की प्रस्तुति से भक्तजनों को नृत्य करने पर विवश कर दिया। नरेन्द्र भाई वाणीगोता ने चिट्ठी न कोई संदेश…. जाने कौनसा देश तुम चले गये व हर पल गुरू याद आ रहे है…………… गीत की प्रस्तुति दी।

श्री गुर्जर सहित कई जनप्रतिनिधियों ने की सहभागिता- महामांगलिक के कार्यक्रम में  भाजपा प्रदेश महामंत्री श्री बंशीलाल गुर्जर ने विशेष रूप से सहभागिता की। उन्होंने महामांगलिक के पूर्व मण्डी परिसर में रहकर महामांगलिक में आये धर्मालुजनों का अभिवादन किया और महामांगलिक की व्यवस्थाओं में पूर्ण सहयोग प्रदान किया। महामांगलिक में सांसद श्री सुधीर गुप्ता, जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष श्री मदनलाल राठौर, उज्जैन के समाजसेवी श्री नेमीचंद जैन, मंदसौर के समाजसेवी श्री विनोद गर्ग, श्री प्रहलाद काबरा, सांवरे के मांगीलाल कोठारी, मंदसौर गौशाला अध्यक्ष श्री अनिल संचेती सहित सभी जनप्रतिनिधियों ने महामांगलिक को श्रवण करने के साथ ही आचार्य श्री आशीर्वाद भी प्राप्त किया।

आगामी महामांगलिक 19 नवम्बर को मंदसौर मण्डी में होगी- आचार्य श्री के श्रीमुख से आगामी महामांगलिक दिनांक 19 नवम्बर को मंदसौर कृषि उपज मण्डी में आयोजित होगी। इस महामांगलिक का लाभ श्री विनोद गर्ग परिवार ने लिया है।

पारस चैनल पर हजारों धर्मालुजनों ने महामांगलिक श्रवण की-इस महामांगलिक का विश्व के 152 देशों में प्रसारित पारस चेनल पर सीधा प्रसारण किया गया। इसे लगभग 83 लाख लोगों ने देखा और महामांगलिक श्रवण की।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts