Breaking News

 महाशिवरात्रि के अवसर पर शिवभक्ति में डूबी भूतभावन की नगरी

श्री पशुपतिनाथ महादेव मंदिर पहुंचे करीब एक लाख श्रद्धालु

-शहर के सभी शिवालयों पर हुए विभिन्न आयोजन

मंदसौर। भगवान शिव की नगरी कहा जाने वाला दशपुर धाम (मंदसौर) महाशिवरात्रि के अवसर पर पूरी तरह भगवान शिव के रंग में रंग गया। शिवालयों पर बाहर भक्तों की कतारे थी, तो अंदर शिव के जयकारे कानों में शिव भक्ति का रस घोल रहे थे। कहीं महाभिशेक तो कहीं रूद्राभिशेक का दौर चलता रहा। शिवना तट पर विराजित भूतभावन भगवान श्रीपशुपतिनाथ महादेव मंदिर पर शहर ही नहीं अपितु देश के विभिन्न अंचलों से आये लगभग एक लाख भक्तों ने पहुंचकर बाबा की अश्टमुखी प्रतिमा के दर्शन वंदन कर धर्मलाभ लिया। एक अनुमान के अनुसार महाशिवरात्रि पर पशुपतिनाथ मंदिर पर करीब एक लाख भक्तों ने अपने आराध्य देव के दरबार में शिश नवाया। पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में आने वाले भक्तों के लिये श्रृद्धालुओ के लिये फलिहारी नाश्ते निशुल्क व्यवस्था की महाघंटा अभियान समिति की ओर से की गई थी। यहॉ पर भक्तों के लिये ठण्डाई भी पिलाई जा रही थी। प्रातः 4 बजे से ही भूतभावन के दरबार में भक्तों का तांता लगना षुरू हो गया था और यह क्र्रम निरंतर चल रहा था। षाम होते ही भगवान पशुपतिनाथ का आकर्शक श्रंृगार किया गया। विशेश श्रृंगार के दर्शनों का क्रम देर रात तक चला। इसके पश्चात मंदिर प्रबंध समिति, प्रातः कालिन आरती मंडल, सहित अन्य आरती मंडलों द्वारा पशुपतिनाथ के महारूद्राभिशेक का आयोजन प्रारंभ हुआ। रातभर चले इस आयोजन में चार अलग-अलग रूद्राभिशेक व महाआरतियां हुई।

 

दिनभर शहर के अन्य शिवलयों पर भी अनेक आयोजन हुए। शहर के सभी मोहल्लों के शिवालय शिव के जयकारों से गूंज रहे थे। दिनभर चहुं ओर शिव की तरंग छाई रही। इसके चलते शिव की नगरी पूरी तरह शिवमय हो गई। पशुपतिनाथ मंदिर सहित शहर के धनेश्वर महादेव, जलेश्वर महादेेव, नीलकंठ महादेेव, विश्वपति शिवालय, मंछापूर्ण महादेव, घुम्टेशवर महादेव, जागेश्वर महादेव, भूरिया महादेव, अम्लेश्वर महादेव, भुतेश्वर महादेव, रामटेकरी व अभिनंदन नगर स्थित शिव मंदिर आदि मंदिरों पर महाशिवरात्रि पर्व पर अनेक धार्मिक आयोजन हुए।

 

सुरक्षा के थे पुख्ता इंतजाम
महाशिवरात्रि पर्व पर कहीं भी कोई अप्रिय घटना ना हो इसके लिए पुलिस प्रशासन ने भी सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए थे। शहर के प्रमुख शिवालयों पर एक चार की गार्ड तैनात की गई। इनमें महिला आरक्षक भी शामिल थी। पशुपतिनाथ मंदिर सहित शहरभर के शिवलायों पर करीब 300 जवान तैनात किए गए। इसके अलावा शहर के संवेदनशील चौक-चौराहों पर भी पुलिस बल तैनात किया गया। आला अधिकारी दिनभर अपने वाहनों से विभिन्न शिवालयों का दौरा करते रहे।

 

महाशिवरात्रि के पर्व पर सर्वधर्म सद्भावना रैली एवं समारोह सम्पन्न
महाशिवरात्रि के पावन महोत्सव पर “त्रिमूर्ति शिव“ के 82वे अवतरण दिवस पर “प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय“ आत्मकल्याण भवन से प्रातः सद्भावना रैली, कलशयात्रा एवं सुन्दर आर्कषक झाँकियाँ एवं चल समारोह निकाला गया। रैली का शुभारम्भ श्री मदलनलाल राठोर अध्यक्ष जिला सहकारी बैकं, द्वारा हरी झॅडी दिखाकर किया गया। यह रेली आत्मकल्याण भवन से प्रारम्भ हुई जिसमें आगे वाहन रैली में वाहनों पर सफेदवस्त्रधारी भाई बहने शिवध्वज फहराते हुए चल रहे थे, इसके पीछे माताऐं अपने सिर पर कलश धारण कर पंक्तियों में चल रही थी, पीछे बग्गी पर धवल वस्त्रों में सुसज्जित, ध्यानमुद्रा एवं वरदानमुद्रा में राजयोगिनी तपस्विनी ब्रह्माकुमारी बहने विराजित थी जो नगरवासियों को आशीर्वाद एवं शुभकामना संदेश फैलाती चल रही थी, इसी के पीछे सर्वआत्माओं के परमपिता निराकार परमात्मा “शिव“ की आर्कषक झाँकी निकाली गई जिसमें शिवलिंग तथा शंकर का स्वान रचे हुए थे दोनों सुन्दर दृश्य उपस्थित कर रहे थे। इसी के पीछे भविष्य की स्वर्णिम दुनिया की छटा का विहंगम दृश्य, सतयुगी सृष्टि के नजारे दर्शाती श्री लक्ष्मी – नारायण की सुन्दर झाँकी में स्वांगधारी राजयोगिनी बहने विराजित थी। रैली का मुख्य आर्कषण रंगबिरंगे बैलुन थे जिसमें परमात्मा शिव का संदेश का पर्चा बांधकर नगर भ्रमण के दौरान उड़ाया जा रहा था, इसका उद्देश्य परमपिता परमात्मा के दिव्य अवतरण का संदेश जन-जन तक पहुंचाना था। रैली को नगर के मुख्य चौराहों नई आबादी बंटी चौराहा, गुप्ता कचौरी चौराहा, गणेश मंदिर, बी.पी.एल चौराहा, रेडक्रास, जिला चिकित्सालय, गांधी चौराहा, बस स्टेण्ड, भारतमाता चौराहा, घण्टाघर, शुक्ला चौक, वरूणदेव मंदिर, गोल चौराहा, कंबलकेन्द्र पर स्वागतकर्ताओं ने पुष्पवर्षा तथा पुष्पहार से स्वागत किया, विभिन्न स्थानों पर रैली में सम्मिलित लगभग 1500 भाई-बहनों को शरबत, फल एवं ड्रायफू्रटस का वितरण किया गया। रैली का समापन पुनः आत्मकल्याण भवन पर दोपहर 12 बजे हुआ जहाँ सर्वधर्म सद्भावना समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह में मुख्य अतिथि नगरपालिका अध्यक्ष श्री प्रहलाद बंधवार, विशेष अतिथि योगगुरू श्री सुरेन्द्र जैन, दशपुर जागृति मंच के डा. देवेन्द्र पुराणिक, गायत्री परिवार से श्री सत्येन्द्र सिंह, विष्व हिन्दु परिशद की महिला संयोजिका विद्या उपाध्याय बहन उपस्थित थे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts