Breaking News

मालवा की वेष्‍णोदेवी के मंदिर का अब होगा जिर्णोउद्भार

भादवामाता मंदिर परिसर के विकास की योजना करीब 15 वर्षों से कागजों में चल रही थी। इस बीच मास्टर प्लान भी बनाया गया।इसके बाद वर्ष 2011 में तत्कालीन कलेक्टर लोकेशकुमार जाटव द्वारा भादवामाता मंदिर के विकास का प्रोजेक्ट तैयार कर शासन को भेजा गया।जिसे संभाग के पायलेटप्रोजेक्टके रूप में स्वीकृति मिली।इसके तहत पांच चरणों में मंदिर के जीर्णोद्धार से लगाकर विकास कार्यों एवं नव निर्माण किए जाने थे।यह प्रोजेक्ट तब करीब 3 करोड़ का बना था।
अब तक हुए यह निर्माण-
भादवामाता मंदिर परिसर के पायलेट प्रोजेक्टके तहत अब तक मंदिर तक सड़क निर्माण, मेला स्थल पर मंच, बगीचा, स्नानागार, मंदिर परिसर में फर्शीकरण, श्रद्धालुओं को धूप और बारिश से बचाने के लिए शेड तथा संस्थान की धर्मशाला बनाने का कार्य किया गया है। हालांकि शासन से इस प्रोजेक्ट की राशि किश्तों में मंजूर की गई इस कारण काम में गति नहीं आ सकी। मंदिर में दूसरे चरण के कार्य भी अभी अधूरे हैं।
अब मंदिर परिसर से धर्मशालाओं को हटाने की तैयारी-
मंदिर परिसर में विभिन्न जाति-समुदायों की पुरानी धर्मशालाएं मौजूद हैं।इन धर्मशालाओं में नवरात्रि मेले के दौरान संबंधित समाज या अन्य श्रद्धालू बड़ी सं?या में ठहरते रहे हैं। प्रोजेक्टमें मंदिर परिसर में स्थापित धर्मशालाओं को विस्थापित करने की योजना है।हाल ही में मंदिर संस्थान के अध्यक्ष एवं कलेक्टर रजनीश श्रीवास्तव द्वारा ली गई विभिन्न समाज के प्रतिनिधियों की बैठक में धर्मशालाओं को विस्थापित करने पर सहमति बनी है।इन धर्मशालाओं को हटाकर मंदिर परिसर का चौड़ीकरण एवं सौंदर्यीकरण किया जाएगा। परिसर से अन्यत्र मटेरियल ले जाने और निर्माण तक में प्रशासन सहयोग करेगा।
मंदिर के लिए विधायक ने मांगे एक करोड़ रुपए-
विधायक दिलीपसिंह परिहार ने मंगलवार को भोपाल में प्रदेश की खेल एवं युवा कल्याण तथा धर्मस्व मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया से भेंट की।परिहार ने मंत्री को भादवामाता मंदिर विकास के प्रस्ताव की प्रति सौंपकर एक करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत करने की मांग की। विधायक ने बताया कि भादवामाता मंदिर मालवा और मेवाड़ के श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र है। लकवा रोगियों के लिए भी यह आरोग्य स्थल के रूप में वि?यात है।श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए वर्षों से लंबित मंदिर विकास की योजना को मूर्तरूप दिया जाना चाहिए। मंत्री ने जल्द इस बारे में सकारात्मक निर्णय का आश्वासन दिया है।
फैक्ट फाइल-
भादवामाता मंदिर का पायलेट प्रोजेक्ट-2011 में बना
प्रस्तावित कार्य-चार चरणों में
कार्य की गति-दूसरा चरण अंतिम दौर में
प्रोजेक्ट की लागत-करीब 5 करोड़ रुपए
नई मांग-एक करोड़ रुपए से विकास कार्य
मेले लगते हैं-चैत्र नवरात्रि, शारदीय नवरात्रि
हवन की पूर्णाहुति में पहुंचते हैं-लगभग 1 लाख श्रद्धालू

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts