Breaking News

मालवा क्षेत्र से अन्य राज्यो में मादक पदार्थ की तस्करी होती है

मंदसौर। मालवा क्षेत्र में नीमच व मंदसौर मादक पदार्थ तस्करी का देश में सबसे बड़ा सेंटर है। यहां से अफीम पैदावार के बाद देशभर के अन्य क्षेत्र में अफीम और उससे बनने वाले अन्य मादक पदार्थ की तस्करी होती है। ध्यान दे तो सुशांत सुसाइड मिस्ट्री में भी ड्रग्स पार्टी का उजागर हुआ है और मुंबई नारकोटिक्स विभाग सतर्क होकर कार्रवाई कर रहा है। लेकिन इसी विभाग की कमजोरी है कि मध्यप्रदेश से मादक पदार्थ की तस्करी मुंबई तक होती है।

हाल ही में इंदौर नारकोटिक्स विंग ने मुखबिर सूचना परइंदौर गांधी हॉल एवं फायर ब्रिगेड के ऑफिस के बीच पत्थर गोदाम समीप एक काले रंग की स्कूटी एमपी 09 यूवी 5326 की तलाशी कर उसकी डिक्की में रखी करीब दो किलोग्राम ब्राउन शुगर जब्त की है। वहीं तस्करी में आरोपी इंदौर भंवरकुआ निवासी अजय पिता शिवकुमार जैन उम्र 51 वर्ष और इंदौर तेजाजी नगर निवासी सुशांत तिपा दुलाल मंडल उम्र 49 वर्ष को दो करोड़ की ब्राउन शुगर के साथ एनडीपीएस एक्ट में गिरफ्तार किया है।

कलकत्ता तक हो रही थी सप्लाई
पुलिस की पूछताछ में तस्करों ने बताया कि मंदसौर नई आबादी निवासी लालसिंह पिता कालू सिंह चौहान उम्र 53 वर्ष के पास से ब्राउन शुगर खरीद की है। वह नीमच और मंदसौर से माल खरीद कर ट्रेन के रास्ते कलकत्ता तक माल सप्लाई करते हैं। फिलहाल पुलिस ने मंदसौर निवासी लालसिंह को भी गिरफ्तार कर लिया है और अंतर्राज्यीय तस्करों की चेन खोलने में पुलिस जुट गई है।

नीमच में तीन वर्ष में मादक पदार्थ तस्करी पर कार्रवाई
वर्ष—————एनडीपीएस प्रकरण————–आरोपी गिरफ्तार
2018————–82—————————221
2019————–98————————–133
2020————–73————————–113 (जनवरी से सितंबर माह तक की कार्रवाई )

तस्करी बड़े स्तर पर है
नीमच, मंदसौर और रतलाम के कुछ भाग में अफीम का उत्पादन होने से यहां से अन्य राज्यों में तस्करी भी होती है। खासकर पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, दिल्ली, मुंबई और कलकत्ता तक भी तस्कर सक्रिय है। लेकिन पुलिस लगातार सतर्क होकर इनके प्रति कार्रवाई करती है। वहीं नारकोटिक्स विभाग भी पूरा इन्हीं पर कार्रवाई करता है। – राकेश गुप्ता, आईजी उज्जैन रेंज।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts