Breaking News

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के अंतर्गत जून में करे जगन्नाथपुरी, रामेश्वरम, वैष्णोदेवी की तीर्थयात्रा

मंदसौर। मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के लिए हितग्राही आवेदन कर सकते हैं। प्रभारी कलेक्टर अर्जुनसिंह डाबर ने बताया वैष्णोदेवी यात्रा के लिए 22 अप्रैल रामेश्वर तीर्थ के लिए 10 मई जगन्नाथपुरी के लिए 31 मई तक आवेदन किए जा सकते हैं। हर व्यक्ति के मन की अभिलाषा होती है कि जीवन में वह कम से कम एक बार तीर्थ-यात्रा में जरूर जाय, लेकिन कुछ मजबूरियों के कारण वह तीर्थ-यात्रा में नहीं जा पाता है। इसमें से एक सबसे बड़ी मजबूरी रहती है, आर्थिक कमजोरी। प्रदेश सरकार के मुखिया श्री शिवराजसिंह चौहान ने मध्यप्रदेश की स्थापना के छप्पनवे वर्ष में आम आदमी की इस मजबूरी को न केवल शिद्दत से महशूस किया बल्कि इस मजबूरी को दूर करने का “मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना” के रूप में रास्ता भी निकाला।

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के तहत 21 से 26 जून तक श्री जगन्नाथपुरी तीर्थयात्रा के लिये 31 मई तक करें आवेदन
मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना के अंतर्गत विशेष ट्रेन से मंदसौर जिले से 190 तीर्थयात्री श्री जगन्नाथपुरी तीर्थदर्शन के लिए जायेंगे। श्री जगन्नाथपुरी की यात्रा हेतु तीर्थयात्री 21 जून को विशेष ट्रेन से जगन्नाथपुरी के लिये रवाना होकर 26 जून को वापस मंदसौर आयेंगे। श्री जगन्नाथपुरी की तीर्थयात्रा में जिले की आठों तहसीलों क्रमशः मंदसौर से 50 तीर्थयात्री तथा दलोदा, मल्हारगढ, सीतामउ, सुवासरा, शामगढ, गरोठ एवं भानपुरा से 20-20 तीर्थयात्री, इस प्रकार कुल 190 तीर्थयात्री जगन्नाथपुरी जायेंगे। इस संदर्भ में प्रभारी कलेक्टर श्री अर्जुनसिंह डाबर ने जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारियों (राजस्व) को निर्देशित किया है कि वे श्री जगन्नाथपुरी तीर्थयात्रा हेतु 31 मई की शाम 6 बजे तक आवेदन प्राप्त कर चयनित यात्रियों की सूची निर्धारित प्रारूप प्रतीक्षा सूची सहित तैयार करें।

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के तहत 5 से 10 जून तक की श्री रामेश्वरम् तीर्थयात्रा के लिये 10 मई तक करें आवेदन
मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना के अंतर्गत विशेष ट्रेन से मंदसौर जिले से 240 तीर्थयात्री श्री रामेश्वरम् तीर्थदर्शन के लिए जायेंगे। श्री रामेश्वरम् की यात्रा हेतु तीर्थयात्री 5 जून को विशेष ट्रेन से रामेश्वरम् के लिये रवाना होकर 10 जून को वापस मंदसौर आयेंगे। श्री रामेश्वरम् की तीर्थयात्रा में जिले की आठों तहसीलों क्रमशः मंदसौर से 65 तीर्थयात्री तथा दलोदा, मल्हारगढ, सीतामउ, सुवासरा, शामगढ, गरोठ एवं भानपुरा से 25-25 तीर्थयात्री, इस प्रकार कुल 240 तीर्थयात्री रामेश्वरम् जायेंगे। इस संदर्भ में प्रभारी कलेक्टर श्री अर्जुनसिंह डाबर ने जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारियों (राजस्व) को निर्देशित किया है कि वे श्री रामेश्वरम् तीर्थयात्रा हेतु 10 मई की शाम 6 बजे तक आवेदन प्राप्त कर चयनित यात्रियों की सूची निर्धारित प्रारूप प्रतीक्षा सूची सहित तैयार करें।

मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना के तहत 3 से 8 जून तक की वैष्णोदेवी तीर्थयात्रा के लिये 10 मई तक करें आवेदन
मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना के अंतर्गत विशेष ट्रेन से मंदसौर जिले से 125 तीर्थयात्री वैष्णोदेवी तीर्थदर्शन के लिए जायेंगे। वैष्णोदेवी की यात्रा हेतु तीर्थयात्री 3 जून को विशेष ट्रेन से वैष्णोदेवी के लिये रवाना होकर 8 जून को वापस मंदसौर आयेंगे। वैष्णोदेवी की तीर्थयात्रा में जिले की आठों तहसीलों क्रमशः मंदसौर से 20 तीर्थयात्री तथा दलोदा, सुवासरा मल्हारगढ, सीतामउ, शामगढ, गरोठ एवं भानपुरा से 15-15, इस प्रकार कुल 125 तीर्थयात्री वैष्णोदेवी जायेंगे। इस संदर्भ में प्रभारी कलेक्टर श्री अर्जुनसिंह डाबर ने जिले के सभी अनुविभागीय अधिकारियों (राजस्व) को निर्देशित किया है कि वे वैष्णोदेवी तीर्थयात्रा हेतु 10 मई की शाम 6 बजे तक आवेदन प्राप्त कर चयनित यात्रियों की सूची निर्धारित प्रारूप प्रतीक्षा सूची सहित तैयार करें।

मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना
धार्मिक न्यास और धर्मस्व विभाग द्वारा बनायी गयी मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना के अनुसार प्रदेश के 60 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को उनके जीवन काल में एक बार प्रदेश के बाहर के निर्धारित तीर्थ-स्थानों में से किसी एक स्थान की यात्रा के लिए राज्य सरकार सहायता देगी। प्रथमत: आई.आर.सी.टी.सी. (रेलवे) के पैकेज के अनुसार यात्रियों को भेजा जाएगा।

पात्रता
तीर्थ यात्री 60 वर्ष से अधिक आयु का एवं मध्यप्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए। वह आयकर दाता नहीं होना चाहिए। साथ ही उसने तीर्थ-दर्शन योजना का पूर्व में लाभ नहीं लिया हो। तीर्थ यात्री को यात्रा के लिए शारीरिक एवं मानसिक रूप से सक्षम होना चाहिए। तीर्थ यात्री को किसी भी संक्रामक रोग जैसे टी.बी., ह्रदय रोग, श्वास में अवरोध एवं संक्रामक कुष्ठ आदि से पीड़ित नहीं होना चाहिए। आवेदन में सही जानकारी नहीं देने एवं तथ्यों को छिपाने पर किसी भी समय तीर्थ यात्री को योजना के लाभ से वंचित किया जा सकेगा।

आवेदन प्रक्रिया
तीर्थ-दर्शन योजना का लाभ लेने के इच्छुक वरिष्ठ नागरिकों को अपना आवेदन दो प्रतियों में निर्धारित प्रपत्र में भरकर निकटतम तहसील या उप तहसील में निर्धारित समय-सीमा के पहले जमा करना होगा। आवेदक को आवेदन के साथ फोटो और निवास का साक्ष्य भी लगाना होगा। निवास के साक्ष्य के रूप में राशन कार्ड, ड्रायविंग लाइसेंस, बिजली बिल, मतदाता पहचान-पत्र या राज्य सरकार द्वारा स्वीकार्य कोई अन्य साक्ष्य लगाना होगा।
योजना में 65 वर्ष से अधिक उम्र के यात्री के साथ एक सहायक भी जा सकेगा। सहायक की उम्र 18 से 50 वर्ष के बीच होनी चाहिए। पति-पत्नी के साथ यात्रा करने पर सहायक ले जाने की सुविधा नहीं रहेगी। आवेदक पति-पत्नी में से किसी एक का नाम चुना जाता है, तो उसका जीवन साथी भी यात्रा पर जा सकेगा। जीवन साथी की आयु 60 वर्ष से कम होने पर भी वह यात्रा कर सकेगा। जीवन साथी का आवेदन भी साथ में ही देना होगा। इसी प्रकार सहायक का आवेदन भी आवेदक के साथ ही जमा किया जाएगा।
योजना का लाभ लेने के लिए यदि वरिष्ठ नागरिक समूह में आवेदन करते हैं, तो संपूर्ण समूह को एक आवेदन मानते हुए लाटरी में सम्मिलित किया जाएगा। एक समूह में अधिक से अधिक 25 आवेदक हो सकते हैं। इनमें सहायक भी शामिल होगा।

चयन-प्रक्रिया
तीर्थ यात्रियों का चयन कलेक्टर द्वारा किया जाता है। सबसे पहले प्राप्त आवेदनों को स्थानवार छाँटा जाता है। यदि निर्धारित कोटे से अधिक संख्या में आवेदन प्राप्त होते हैं, तो लाटरी द्वारा तीर्थ यात्रियों का चयन किया जाता है। कोटे से 10 प्रतिशत अतिरिक्त व्यक्तियों की प्रतीक्षा सूची भी बनायी जाती है।
ऐसे तीर्थ यात्री जो यात्रा के दौरान शासन द्वारा निर्धारित सुविधाओं के अतिरिक्त सुविधाएँ प्राप्त करना चाहते हैं, उसका भुगतान उन्हें स्वयं करना होगा। यात्रा के दौरान किसी तरह के ज्वलनशील पदार्थ एवं मादक पदार्थ और आभूषण ले जाने की अनुमति नहीं रहेगी। यात्रा के दौरान किसी दुर्घटना के लिए राज्य शासन उत्तरदायी नहीं होगा।

 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts