Breaking News

रसूखदार ने उड़ाया नियमों का मजाक, व्यस्तम् मार्ग को दिनभर रखा बंद

जिम्मेदारों ने नहीं कि कोई कार्यवाही, स्वयं विधायक भी नहीं हटा पाये अतिक्रमण को, राहगीर व क्षेत्रवासी होते रहे परेशान

मंदसौर। नगर में इन दिनों रसूखदारों द्वारा जैसे नियमों को तोड़नो अपना स्टेटस सिम्बल बना लिया है। नियमों को तोड़ने से जैसे इनकी शान और बढ़ जाती हो इस मान से नगर के रसूखदार लगातार नियमों को तोड़कर जिम्मेदारों को चिढ़ा रहे है।

आजकल दुकान के मुहुर्त में व्यवस्तम् मार्ग को बंद करने का ट्रेन्ड सा बन गया है। रविवार को नगर के कंट्रोल रूम के सामने नवनिर्मित पार्श्व कॉम्प्लेक्स् में एक इलेक्ट्रॉनिक सामानों के शोरूम का उद्घाटन था। आयोजनकर्ताओं ने नई आबादी के मुख्य मार्ग को पूरी तरह से घेरकर टेन्ट लगातर आवाजाही को बंद कर दिया। ऐसा करते हुए आयोजनकर्ताओं को थोड़ी सी भी शर्म नहीं आई। रास्ते पूरी तरह बंद किये जाने से राहगिरों और क्षेत्र में रहने वाले क्षेत्रवासियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा।

व्यस्तम् है मार्ग
जिस मार्ग को एक शुभारंभ के नाम पर बंद कर दिया गया वह मार्ग शहर के व्यस्तम् मार्गो में गिना जाता है। आयोजनकर्ताओं ने रास्ते से एक दो पहिया वाहन निकला जाये इतनी भी जगह नहीं छोड़ी।

आखिरकार क्या जताना चाहते है रसूखदार
बताया जाता है कि जिस व्यक्ति का यह शोरूम है वह काफी रसूखदार है। पुलिस महकमा हो या जनप्रतिनिधि हर जगह इसकी अच्छी पैठ है। लेकिन क्या अपने रसूख के बल पर आम लोगों को तकलीफ देना उचित है। लेकिन इन रखूखदारों को नाम आदमी की तकलीफ से क्या मतलब। इन्हें तो अपने रसूख का इस्तेमाल कर नियमों का उल्लघंन करना है।

नपा है कार्यवाही के लिये सक्षम, लेकिन डंडा सिर्फ गरीबों के लिये
इस तरह के कृत्य के नगर पालिका सक्षम है जो जिम्मेदारो ंपर कार्यवाही कर सकती है। इस तरह रास्ता रोकना यातायात के नियमों का उल्लघंन भी है लेकिन नपा को तो सिर्फ अतिक्रमण के नाम पर गरीबों की गुमटियॉ ही नजर आती है उल्ट ऐसे कई जिम्मेदार अधिकारी तो ऐसे कार्यक्रमों की शोभा बढ़ाते हुए भी नजर आ जाते है।

सीएमओं ने कहा आज छुट्टी है मै नहीं जा सकती, लेकिन गरीब की गुमटी हटाने छुट्टी के दिन ही गई थी
जब इस मामले को लेकर दोपहर 12.02 बजे सीएमओं सविता प्रधान गौड़ से सम्पर्क किया गया तो उनका कहना था कि आपके द्वारा मामला संज्ञान में लाया गया में दिखवाती हूॅ। इस तरह रास्ता रोकना पूरी तहर से गलत है आज छुट्टी है मैं नहीं जा सकती फिर भी मैं दिखवाती हूूॅ।
लेकिन यहॉ यह उल्लेखनीय है कि एक रसूखदार द्वारा किये मार्ग को बंद करने में तो मेडम को छुट्टी का दिन याद आ गया लेकिन 5 अक्टूबर वाल्मिकी जयंति के दिन भी छुट्टी होने के बावजूद भी मेडम अपने लाव लश्कर के साथ गरीब की गुमटी हटाने पहुॅची थी। इस तहर का दोगलापन क्यों ………………?

यातायात की श्रीमती चौहान को तो सिर्फ गरीब और ग्रामीणों से मतलब
इस तरह से मुख्य मार्ग को रोकने के लिये यातायात विभाग भी कार्यवाही कर सकता है लेकिन यातायात विभाग की प्रभारी श्रीमती पुष्पा चौहान को तो सिर्फ गरीब और ग्रामीणों के चालान बनाने में ही मजा आता है। इस तरह के रसूखदार के आगे शायद उनका गुस्सा और जज्बा ठंडा पड़ जाता है। उल्लेखनीय है विगत् यातायात विभाग का एक विडियो सोशल मिडिया पर वायरल हुआ था जिससे यातायात विभाग और श्रीमती चौहान की खूब फजीहत हुई थी।

स्वयं विधायक भी पहुॅचे बधाई देने लेकिन उन्हे भी नहीं दिखा रास्ते पर अतिक्रमण
अतिक्रमण नहीं हो सुन्दर शहर बने जैसी बातों की वकाालत करने वाले क्षेत्रीय विधायक यशपालसिंह सिसोदिया भी उक्त शोरूम के उद्घाटन पर आयोजनकर्ताओं को बधाई देने पहुॅचे लेकिन उन्हें भी व्यस्तम् मार्ग अवरूध होता नजर नहीं आया। शायद कोई चुनावी मजबूरी रही होगी।

 

 

 

 


दो दिन पूर्व बालागंज में भी किया गया था मार्ग बंद

दो दिन पूर्व भी बालागंज में पंजीयक कार्यालय के सामने एक सुपर बाजार का उद्घाटन किया गया जहॉ पर भी पूरे मार्ग को टेन्ट लगाकर आवाजाही बंद कर दी गई जिसकी सोशल मिडिया पर भी खूब आलोचना हुई लेकिन फिर भी जिम्मेदार वर्ग ने उक्त पर कोई कार्यवाही आजतक नहीं की।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts