Breaking News

राजीव गांधी क्रीड़ा परिसर पर लगने वाली पटाखों की दुकान की जगह बदली जाए

मंदसौर। मंदसौर शहर के एकमात्र खेल मैदान राजीव गांधी क्रीड़ा परिसर पर अभी कुछ दिन बाद नगरपालिका हर वर्ष की तरह इस बार भी पटाखों की दुकान लगवाने जा रही है, खेल मैदान की जगह पटाखा व्यवसाय के आवंटित कर दी जाएगी। लाख विरोध के बावजूद भी नगर पालिका प्रशासन और पटाखा व्यवसाई की आपसी मिलीभगत आपसी मिलीभगत के कारण शहर के एकमात्र खेल मैदान पर प्रदूषण फैलाने ओर गंदगी फैलाने के लिए यहां पटाखा व्यवसायियों के किये जगह का आवंटन करना गलत ओर शासन के निर्देशों की अवहेलना है। मार्निंग क्रिकेट क्लब के संरक्षक ओर वरिष्ठ पत्रकार नरेंद्र धनोतिया ने बताया कि राजीव गांधी क्रीड़ा परिसर पर सुबह सूर्योदय से पहले से लगाकर देर रात तक लोग शुद्ध ताजी ताजी हवा और प्रदूषण से मुक्त वातावरण में जीने के लिए यहां पर घूमने आते हैं और विभिन्न प्रकार के खेलों का आनंद लेते हैं। करीब यहां पर प्रतिदिन 5,000 से ज्यादा लोग अपने अच्छे स्वास्थ्य के लिए इस मैदान पर आते हैं,लेकिन विडंबना है कि इस मैदान को खेल मैदान होने के बावजूद नगर पालिका प्रशासन इसे प्रदूषण फैलाने वाले और गंदगी फैलाने वाले पटाखा व्यवसाइयों को अपना व्यवसाय करने के लिए आवंटित कर देती है। करीब 200 पटाखा विक्रेता यहां पर अपना व्यवसाय करते हैं और इन पटाखा की खरीदी के लिए प्रतिदिन लगभग हजारों लोग अपने वाहनों के साथ यहां पर खरीदी के लिए आते हैं ओर जो पटाखा मार्केट का नक्शा बनाया जाता है वो ऐसा बनाया जाता है कि अचानक अगर आग लग जाए तो उसमें कई वाहन पटाखों के साथ जलेंगे और कई व्यक्तियों की वहां पर पर वहां पर पर वहां पर जान भी जा सकती है। इससे महत्वपूर्ण तो तो यह है की मध्य प्रदेश शासन के खेल एवं युवा कल्याण विभाग के आदेश क्रमांक एफ-16/2015/नो/भोपाल दिनांक 19.10.15 के अनुसार स्पष्ट निर्देश हैं कि खेल मैदान का उपयोग सिर्फ खेलकूद की गतिविधियों के लिए इस्तेमाल हो। मॉर्निंग क्रिकेट क्लब के संरक्षक और वरिष्ठ पत्रकार नरेंद्र धनोतिया ने जिला कलेक्टर श्री ओपी श्रीवास्तव को मध्यप्रदेश शासन के खेल एवं युवा कल्याण विभाग के सचिव शिवशेखर शुक्ला के निर्देशों के पत्र की छाया प्रति के साथ एक पत्र सौंपकर मांग की है कि राजीव गाँधी क्रीड़ा परिसर पर लगने वाली पटाखों की दुकानों को अन्यंत्र स्थानांतरित किया जाए, धनोतिया ने कलेक्टर श्री ओपी श्रीवास्तव को पशुपतिनाथ मेलाप्रांगण का सुझाव भी दिया,क्योंकि वहाँ नगरपालिका दीपावली बाद उस स्थान का मेले के लिए उपयोग करेगी ही। पटाखा दुकानें अन्यंत्र स्थानांतरित होने से खेल मैदान भी सुरक्षित रहेगा और पटाखा व्यवसाइयों तथा खरीददारों को भी कोई परेशानी नहीं होगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts