Breaking News

राष्ट्र धर्म से बडा कोई धर्म नही , इंसान को देश के प्रति श्रद्धा व निष्ठा रखनी चाहिए – पं भीमाशंकर शास्त्री

सीतामऊ निप्र। मां के दोष से बालक मुर्ख पिता के दोषो से चरित्रहीन व वंश के दोष से संतान कायर होती है इसलिए हर व्यक्ति को अपने अंदर सुधार लाना चाहिए। राष्ट्र धर्म से बडा कोई धर्म नही है हर इंसान को अपने देश के प्रति पुरी श्रद्धा व निष्ठा रखनी चाहिए। इंसान को ईश्वर कितना भी दे दे तो इंसान का मन कभी भरता ही नही वह और पाने के चक्कर में ईश्वर से ही दुर हो जाता है लेकिन व्यक्ति यह नही जानता है कि धर्म घट जाने से धन अपने आप घट जाता है और धर्म बढने से धन में वद्धी होने लगती है।  उक्त आध्यात्मकी प्रवचन क्षत्रिय खाती पंचायत भवन में प्रख्यात भागवताचार्य भीमाशंकर जी शास्त्री ने चैथे दिन जारी भागवत ज्ञान गंगा महोत्सव में कह रहे थे। श्री शास्त्री ने कहा कि व्यक्ति को अपने आचरण व उच्यारण  में एक रूपता रखनी चाहिए दोनो में भिन्नता रखने से व्यक्ति की प्रगती कभी नही होती है। जो व्यक्ति मंदीरा का सेवन करता है वह राक्षस होता है भगवान व राक्षसो ने जब समुद्र मंथन किया जो मंदीरा का सेवन राक्षसो ने ही किया था। हर व्यक्ति को यह संकल्प लेना चाहिए कि चाहे किसी भी तरह का नशा हो हम उसका परित्याग करेगे और व्यसन मुक्त समाज का निमार्ण करेगे। क्योकि नशे का सेवन व्यक्ति के मानवीय गुणो को दबा देती है। कथा में नगर सहित अंचल क्षैत्र के बडी संख्या में भक्तसमुदाय धर्मलाभ ले रही है। अंत में प्रसादी वितरण रामचंद्र दलाल की और से रखी गई।  आज होगा कृष्ण जन्मोत्सव- कथा में आज कृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा। पुरे समिति द्वारा पाण्डलो को भगवान बाल गोपाल के लिए सजाया गया। नगर व आसपास की धर्मप्रेमी जनता अधिक से अधिक संख्या में पधारकर इस ज्ञान गंगा महोत्सव का धर्म लाभ ले।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply