Breaking News

लोकतंत्र को बचाने के लिये पं. नेहरू की सेवाओं का स्मरण जरूरी-पंडित

मन्दसौर। लोकतंत्र की परीक्षा हर समय हर शासन में होगी। लोकतंत्र को बचाने के लिये देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं. जवाहरलाल नेहरू की सेवाओं का स्मरण जरूरी है। यह बात जिला इंटक अध्यक्ष श्री राधेश्याम पंडित ने कही। वे श्रम शिविर में पं. नेहरू की पुण्यतिथि पर आयोजित समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि पं. नेहरू ने 17 वर्षों तक इस पद पर रहकर देश की सेवाएं की। विकास को गांव-गांव तक योजना आयोग के जरिए पहुंचाया। श्री पंडित ने कहा कि पं. नेहरू की आलोचना अप्रासंगिक है। उन पर कीचड़ उछालना निंदनीय है। उनका त्याग भुलाया नहीं जा सकता। श्री पंडित ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में निराश होने की जरूरत नहीं है। अंधकार के बाद उजियारा आता है। लोकतंत्र को बचाने के लिये देशवासी तत्पर रहें। श्री पंडित ने कहा कि जनता की हर बात शासन को सुनना होगी अन्यथा दुर्दशा से बचाया नहीं जा सकेगा। वोट पाने के लिये जनता को गुमराह नहीं किया जाये। उन्होंने कहा कि इंटक का गरीबों की सेवा का लक्ष्य जारी रहेगा।

गांधी स्मारक श्रमिक ट्रस्ट अध्यक्ष श्री त्रिदेव पाटीदार ने कहा कि पं. नेहरू आधुनिक भारत के निर्माता थे। उन पर दोषारोपण उचित नहीं है।

आयोजन में जिला इंटक उपाध्यक्ष विक्रम विद्यार्थी, वीरेन्द्र पंडित, शरद पारिक, झमक सांखला, सुरेन्द्र कुमावत, लक्ष्मीनारायण भावसार, तरूण शर्मा, भंवरलाल बरानिया, रामचन्द्र गुप्ता, दशरथसिंह राठौर, सुनील गुप्ता, मनोज भटनागर, कन्हैयालाल भदानिया, मोहनलाल गुड़भेली, जगदीश पुचेरिया, बाबूलाल जेठानिया ने पं. नेहरू को श्रद्धांजलि अर्पित की। संचालन श्री सौभाग्यमल जैन ने किया। आभार मनोज व्यास ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts