Breaking News

वर्तमान ट्रामा सेन्टर की प्रक्रिया से तो चार वर्ष और नहीं बना पायेंगा ट्रामा कुमावत मिले सीएमएचओ और पीआईयू अधिकारी से

मंदसौर। ट्रामा सेन्टर स्वीकृति के 10 वर्षो बाद भी जिले को नहीं मिल पाया है। वास्तव में भाजपा के जनप्रतिनिधियों ने कभी भी ट्रामा सेन्टर को बनवाने में गंभीरता नहीं दिखाई। जिसका खामियाजा आज मंदसौर की जनता को भुगतना पड़ रहा है।

उक्त बात कहते हुए प्रदेश कांग्रेस के सचिव सुरेन्द्र कुमावत ने कहा कि वर्तमान में ट्रामा सेन्टर जिस स्थिति मंे खड़ा वहां से मंदसौर में ट्रामा सेन्टर बनने में तीन से चार वर्षो का समय लग सकता है। अर्थात् निकट भविष्य में जिले में ट्रामा सेन्टर की कोई उम्मीद नहीं है।

गुरूवार को कांग्रेस नेता सुरेन्द्र कुमावत ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ महेश मालवीय और निर्माण एजेन्सी के अधिकारी जी एस भूरिया से मुलाकात की और ट्रामा सेन्टर को लेकर गंभीरता से चर्चा की। श्री मालवीय ने श्री कुमावत को बताया कि ट्रामा सेन्टर को लेेकर वे स्थान बता चुके है अब सब निर्माण एजेन्सी पीआईयू के हाथ में है। जिसके बाद श्री कुमावत ने निर्माण एजेन्सी के अधिकारी श्री भूरिया से चर्चा की जिस पर श्री भूरिया ने बताया कि जिला चिकित्सालय में जहां पर वर्तमान में मातृत्व विभाग है उसे तोड़कर उस स्थान का चयन ट्रामा सेन्टर के लिए किया गया है। मातृत्व विभाग का भवन बनने के बाद पुराने भवन को तोड़कर वहां पर ट्रामा सेन्टर बनाने की प्रक्रिया को प्रारंभ किया जाएगा। वर्तमान में इस पूरी प्रक्रिया को लेकर कोई टेण्डर भी नहीं हुआ है।

श्री कुमावत ने प्रेस नोट के माध्यम से बताया कि जिस स्थिति में ट्रामा सेन्टर की प्रक्रिया है वह अत्यंत लम्बी है उसमें काफी समय लग सकता है। जबकि आज जिले को ट्रामा सेन्टर की अत्यंत आवश्यकता है। श्री कुमावत ने अब ट्रामा सेन्टर को लेकर पीडब्लयूडी मंत्री सज्जनसिंह वर्मा और स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट से चर्चा करेंगे और ट्रामा सेन्टर की स्थिति से वाकिफ करवाकर जल्द से जल्द ट्रामा सेन्टर जिलेवासियों को मिले इसका प्रयास करेंगे। श्री कुमावत ने कहा कि समीपस्थ जिले नीमच में ट्रामा सेन्टर है और रतलाम में तो मेडिकल कॉलेज ही खुल चुका है अब समझा जा सकता हैं कि मंदसौर के स्थानीय भाजपा जनप्रतिनिधियों का रवैया कितना उदासिन रहा होगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts