Breaking News

शहर को असामाजिक तत्वों से बचाइये – नाहटा

मंदसौर शहर के नागरिको, राजनैतिक कार्यकर्ताओं का दायित्व है कि श्री बंधवार की हत्या में जिन व्यक्तियों पर संदेह है उनके नाम पुलिस को उपलब्ध कराये। पूर्व मंत्री नरेन्द्र नाहटा ने एक वक्तव्य में कहा है कि शहर में भारतीय जनता पार्टी और उसके जनप्रतिनिधि इस आधार पर जॉच को सी.बी.आई को सौंपने की मांग कर रहे है कि इस हत्या के षडयंत्र में मनीष बैरागी के साथ अन्य प्रभावषाली व्यक्तियों का भी हाथ है।

श्री नाहटा ने कहा कि जिला पुलिस की इस बात के लिए प्रषंसा की जानी चाहिए कि मनीष बैरागी जिसके विरूद्ध नामजद रिपोर्ट बंधवार जी के पुत्र ने कराई थी, 24 घंटे में पकड लिया गया। श्री नाहटा ने कहा कि वे इस बात से सहमत है कि उसमें अन्य व्यक्तियों का हाथ हो सकता है, परन्तु ये वही व्यक्ति हो सकते है जिनका संरक्षण मनीष बैरागी को रहा तथा वे उसका इस्तेमाल अपने राजनैतिक एवं व्यवसायिक हितों के लिए करते रहे । ऐसे व्यक्तियों को निष्चित ही स्थानीय जनप्रतिनिधि जानते है एवं उन्हें यह जानकारी पुलिस को देना चाहिए।

श्री नाहटा ने कहा विगत 10 वर्षों में व्यावसायिक कारणों से मंदसौर में जितनी हत्यायें हुई उतनी मंदसौर के इतिहास में कभी नहीं हुई । मुकेष त्रिवेदी , वीरेन्द्र ठन्ना, नरेष डोषी के पुत्र, कमलेष जैन पत्रकार, मो. हनीफ, गबरू पठान, सोनी गोस्वामी इत्यादि की हत्याऐ हुई। अजय सोनी, कोमल बाफना जैसे अनेक व्यक्त्यिों पर गोलियां चली। पडोस के प्रांत केे अपराधी मंदसौर में सम्पत्ति पर कब्जे करते रहे। गौतस्करों ने 300 गायों की हत्या कर दी। यदि इन घटनाओं को गंभीरता से लिया जाता तो शायद श्री प्रहलाद बंधवार की हत्या तक स्थिति नहीं पहुंचती।

श्री नाहटा ने कहा कि वे निरंतर वक्तव्य देकर जनप्रतिनिधियों और सरकार को आगाह करते रहे है। सुधाकर राव मराठा को जिस पर इंदौर हत्याकांड का आरोप है, शहर की पुरानी तहसील क्षेत्र से पुलिस संरक्षण में चुपचाप निकाला गया, तब भी उनने वकत्वय दिया था।

जनप्रतिनिधियों ने कभी अपने दायित्व का निर्वहन नहीं किया। उसके विपरीत भारतीय जनता पार्टी ऐसे असामाजिक तत्वों, डोडाचूरा व्याापारियों और भूमाफियाओं को संरक्षण देकर अपने विरोधियों के खिलाफ इस्तेमाल करती रही। उन्हें भाजपा कार्यकर्ता बना लिया गया। मनीष बैरागी, अजय जाट इसके उदाहरण है। मनीष बैरागी से ही नगर पालिका चुनाव में पर्चा छपवाया गया जिसमें कहा गया कि श्री नाहटा ने परिवार के साथ इस्लाम धर्म ग्रहण कर लिया है।

श्री नाहटा ने कहा बंधवार जी की हत्या सारे शहर को एक चेतावनी है। राजनीति से उपर उठकर ऐसे तत्वों से शहर को बचाये जिनने शहर को असुरक्षित बना दिया है। गुमटियों , सरकारी जमीनों पर कब्जा शासकीय ठेके के लालच देकर धन और पद प्राप्त किये जा सकते है पर यह शहर की शांति की कीमत पर ही होगा। शहर के नागरिकों को चाहिए कि वे जागे और इस स्थिति से शहर को निकालने की पहल करें।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts