Breaking News

शांतनु विहार में दहशत का माहौल : लकड़बग्घा दिखने के बाद लोग रात भर नहीं सोए

मंदसौर। शांतनु विहार के समीप झाड़ियों में बुधवार रात जंगली जानवर लकड़बग्घा(जरक) दिखने के बाद से ही दहशत का माहौल है। सूचना के बाद वन विभाग के अमले ने रात 2 बजे तक ऑपरेशन चलाया। शांतनु विहार के समीप झोपड़ी में रहने वाले 10 परिवारों के लगभग 57 लोग दहशत के कारण रात भर नहीं सो पाए। एक ही स्थान पर एकत्र होकर जागते रहे। सुबह होने के बाद इन लोगों ने स्वयं लकड़ियां उठाई और झाडियों में लकड़बग्घे की खोज भी की।

बुधवार रात करीब 11 बजे शांतनु विहार के समीप झोपड़ियों में रहने वाले नटवर बागरी एवं बंशीलाल बागरी घर के बाहर बैठे थे। तभी नाले के समीप झाड़ियों में लकड़बग्घा दिखाा। तुुरंत परिजनों एवं आसपास के लोगों को सूचना देकर बकरियों एवं मुर्गा-मुर्गियों को झोपड़ी में बंद कर दिया और खुद बाहर आ गए। सूचना के बाद वन विभाग की टीम एवं पुलिस मौके पर पहुुंची। रात 2 बजे तक सर्चिंग कर विभाग की टीम वापस लौट गई। लकड़बग्घा आस पास ही होने के डर से 10 परिवार के लोग रात भर अपने बच्चों को लेकर एक जगह बैठकर जागते रहे। शांतनु विहार के रहवासी भी घरों के अंदर दुबके रहे। गुरुवार सुबह काफी देर तक भी लोग घरों से बाहर आने-जाने में डरते रहे। बागरी परिवार के लोग सुबह लकड़बग्घे की खोज झाड़ियों में करते रहे। नटवर बागरी, बंशीलाल बागरी ने बताया कि लकड़बग्घा चार-पांच दिनों से हमारे मुर्गे-मुर्गियां खा रहा है। 7-8 माह पहले भी दिखा था। उस समय नहीं पकड़ा गया। डीएफओ उपेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि लकड़बग्घा लोगों को दिखाई दिया था। कुत्ते पीछे लगने से वह जंगल की तरफ भाग गया है। रात 2 बजे तक सर्चिंग भी की थी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts