Breaking News

शिवना नदी की बड़ी पुलिया के पास बनेगा नया बड़ा पुल

शिवना नदी पर पुल का निर्माण 1972 में हुआ था। 6 मीटर चाैड़े पुल पर उस समय यातायात दबाव कम था। 44 साल के दरमियान मंदसौर शहर की आबादी के साथ औद्योगिक और रहवासी क्षेत्र का विकास हुआ। अब सीतामऊ फाटक क्षेत्र में नया शहर विकसित होने लगा है। इसके चलते इस पुल पर वाहनों का दबाव भी लगातार बढ़ा है। पुराना होने से यह पुल कई जगह से जर्जर हो गया है। रेलिंग टूटने लगी है। वर्तमान में यातायात व्यवस्था के लिए पुल को एकांकी किया हुआ है। शहर से जाने वाले वाहन शिवना नदी के छोटी पुलिया से गुजरते हैं जबकि शहरी क्षेत्र में आने वाले इस पुराने पुल से आते हैं। बारिश में नदी में बाढ़ आने पर छोटा पुल डूबने पर इस बड़ी पुलिया पर यातायात दबाव से जाम की स्थिति बनती है। इसको लेकर बड़े पुल की साइज का ही नया पुल बनाना प्रस्तावित किया है।

विभाग कर रहा है तैयारी

सेतु विकास निगम एसडीओ आर.के. कटारिया का कहना है कि फोरलेन से जुड़ने और सीतामऊ फाटक रेलवे ओवरब्रिज बनने के बाद इस पुल की उपयोगिता बढ़ेगी। बढ़ते शहर की जरूरत काे वर्तमान पुल पूरा नहीं कर पाएगा। योजना आयाेग की बैठक में प्रोजेक्ट के प्रजेंटेशन के बाद विभागीयस्तर पर भी हमने तैयारी शुरू कर दी है। इसे लेकर सर्वे, प्लानिंग को लेकर जल्द ही काम शुरू होगा।

अब तक यह भी हुआ

मिली चौड़ी सड़क :भुनियाखेड़ी से शिवना पुलिया तक की टू लेन सड़क को लाेक निर्माण विभाग की योजना में चौड़ा कर दिया है। अब यह 22.5 मीटर चौड़ी है। 7 किमी सड़क के निर्माण में लोक निर्माण विभाग ने 8 करोड़ 48 लाख रुपए खर्च किए हैं। सेंट्रल डिवाइडर वाला रोड बनाया और 14 छोटी बड़ी पुल-पुलियाओं का चौड़ीकरण हुआ।

सिंहस्थ योजना में बनी सड़क: सीतामऊ फाटक से हाईवे ट्रीट बायपास नई फाेरलेन सड़क का सिंहस्थ योजना में जुलाई में पूरा हुआ। इस सड़क के निर्माण पर लोक निर्माण विभाग ने 11 करोड़ रुपए खर्च हुए। ऐसे में अब हाईवे ट्रीट से भुनियाखेडी तक का पूरा रोड फोरलेन में बदल गया है।

सुिवधाजनक ब्रिज

शिवना नदी से जुड़े तीन बड़े प्रोजेक्ट शहर की लाइफ लाइन बन गए हैं। इसमें दो बड़े प्रोजेक्ट पर काम पूरा हो गया है और सीतामऊ फाटक रेलवे ओवरब्रिज निर्माणाधीन है। ऐसे में अब शिवना नदी पर अच्छे और सुविधाजनक ब्रिज की दरकार रहेगी।

यहां हो रहा है काम

सेतु विकास निगम ने 52 करोड़ से सीतामऊ रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज का काम शुरू किया है। नवंबर 2015 में शुरू हुआ निर्माण नवंबर 2017 तक पूरा करने का लक्ष्य है। हालांकि बाधाएं आने से काम करीब 9 माह लेट चल रहा है। शिवना नदी पर आवागमन के लिए वर्तमान में इन दोनों पुलों का इस्तेमाल किया जा रहा है। नए पुल के निर्माण से पुराने पुलों पर बढ़ा यातायात का दबाव कम होगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts