Breaking News

शिवना ने किया शिव का सप्ताह में दूसरी बार जलाभिषेक

अलावदाखेड़ी में घरों में घुसा पानी, गाँधी सागर बांध के देर रात सभी 19 गेट खुलने की संभावना

मन्दसौर। सावन माह सूखा बीतने और लंबी खींच के बाद प्रदेश सहित मंदसौर जिले में भी वर्षा का दौर लगातार जारी है। जिले सहित आसपास के जिलेां में लगातार बारिश हो रही है। तेज बारिश के कारण शिवना नदी उफान पर है। भगवान पशुपतिनाथ के आठों मुख जलमग्न हो गए है। वहीं दूसरी ओर गांधीसागर बांध में पानी की आवक लगातार बढ़ रही है। कहीं रिमझिम तो कहीं तेज वर्षा जिले में पिछले 3 दिनों से जारी है, इसके चलते मंदसौर की शिवना नदी व जिले की चंबल नदी सहित नदी नाले उफान पर रहे। शिवना ने शिव का सप्ताह में दूसरी बार जलाभिषेक किया। पहली बार श्री पशुपतिनाथ के चार मुख का जलाअभिषेक हो पाया था लेकिन इस बार शिवना मंदिर के गर्भ गृह में पहुंची और श्री पशुपतिनाथ के आठ ही मुख जलमग्न करते हुए जलाभिषेक किया। नजारा देखने के लिए पुलिया पर भारी भीड़ जमा हो गई, यह लोगों की बहुत बड़ी लापरवाही है। नजारा देखने के चक्कर में हादसे घटित होते रहे हैं, इसे देखते हुए नदी उफान पर होने पर ब्रिज पर खड़े नहीं होना चाहिए। पिछले साल ही प्रोफ़ेसर गुप्ता की पत्नी व बेटी पुलिया बह जाने से उसके साथ बह गई थी और दोनों की मौत हुई थी। इसके बावजूद न सिर्फ शिवना नदी के ब्रिज पर बल्कि कालाभाटा डेम के वहां जाकर सेल्फी लेने परिवार सहित लोग पहुंचे। इस दौरान हाईवे से ट्रकों का लगातार आना-जाना जारी था। लोगों ने अपने वाहन सड़क पर ही पार्क करके सेल्फी लेना शुरू कर दी, लोग अपनी जान के साथ खुद ही खिलवाड़ करते हैं और दोष फिर प्रशासन को दिया जाता है। इसी तरह सुवासरा थाना क्षेत्र के बसई की चंबल नदी के ब्रिज पर भी लोगों का जमावड़ा लग गया था। बाद में सुवासरा पुलिस ने मौके पर पहुंचकर लोगों को हटाया। यह दुर्घटना का कारण बन सकता है, लोगों को लापरवाही नहीं बरतना चाहिए और प्रशासन को भी सतर्क रहना जरूरी है। उधर कालाभाटा बांध के भी गेट खोले गए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts