Breaking News

शिवना सौंदर्यीकरण एवं संरक्षण अभियान का समापन 15 को दीपदान महोत्सव मनेगा

Hello MDS Android App

कलेक्टर व एसडीएम ने किया गहरीकरण कार्य का अवलोकन, दिशा-निर्देश जारी

मंदसौर। 45 दिनों तक श्रमदान के बाद 15 जून को शिवना सौंदर्यीकरण एवं संरक्षण अभियान भगवान पशुपतिनाथ महादेव की आरती एवं दीपदान महोत्सव के साथ विश्राम लेगा। इस दिन 2100 दीपक से मां शिवना का आंचल जगमगाएगा। दीपदान महोत्सव मनेगा और महाआरती होगी।

मप्र जनअभियान परिषद ने जल संसद अभियान के तहत शिवना नदी का सौंदर्यीकरण एवं संरक्षण अभियान करने की ठानी थी, जनअभियान परिषद ने मंदसौर जिले के 200 सामाजिक संगठनों के साथ लगातार 45 दिन तक प्रतिदिन सुबह 7 से 8 तक 1 घंटा श्रमदान किया। इसके अलावा मशीनों से भी जनसहयोग से नदी का गहरीकरण कराया। परिषद की जिला समन्वयक तृप्ति बैरागी, कोर कमेटी सदस्य डॉ. क्षितिज पुरोहित, प्रकाश सिसोदिया, मनीष भावसार, जितेंद्र गेहलोत ने बताया 15 जून को विश्रांति पर 2100 दीपक का शिवना में दीपदान किया जाएगा। दीपदान के पूर्व भगवान श्री पशुपतिनाथ महादेव की महाआरती होगी।

दृष्टि गार्डन में विकसित करेंगे नक्षत्र वाटिका

कोर कमेटी ने बताया शिवना तट पर बन रहे नवीन दृष्टि गार्डन में नक्षत्र वाटिका को विकसित किया जाएगा। वास्तु के अनुसार नक्षत्र वाटिका में पीपल, पलाश, गुलर, आंवला, बरगद, केला, हल्दी, शमी, अशोक, खेर, आंकड़ा, बांस, शीशम, खेर, जामुन, कुचिला, महुआ, नीम, आम, कदंब, मंदार, जल वेतस, चीड़, शाल, मोलश्री, कटाई, अर्जुन, अरीठा, बेलपत्र, पाकड़ के पौधे लगाए जाएंगे।

शिवना तट के नालों की सफाई की जाए

शिवना सौंदर्यींकरण एवं गहरीकरण अभियान के तहत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने गंदे नालों को तुरंत साफ करने को कहा। नपा स्वास्थ्य सभापति श्रवण रजवानिया, सीएमओ सविता प्रधान गौड़, उपयंत्री बीबी गुप्ता, स्वास्थ्य अधिकारी केजी उपाध्याय उपस्थित थे। सीएमओ प्रधान ने कहा दृष्टि पर्वत की मिट्टी बहकर नालों में नहीं मिले, इसलिए तुरंत दृष्टि पर्वत की पिचिंग करने के निर्देश उपयंत्री बीबी गुप्ता को दे दिए है। 2-3 दिवस में समस्त कार्यों को पूर्ण कर लिया जाएगा।

नदी क्षेत्र का किया अवलोकन

कलेक्टर श्रीवास्तव ने पूरे नदी क्षेत्र में चल रहे कार्य का अवलोकन किया। उन्होंने कहा 13-14 मीटर हिस्सा छोड़कर मिट्टी हटाई जाए। भविष्य में नदी किनारे खानपुरा तरफ जाने वाले नए मार्ग निर्माण में बाधा नहीं आए। शिवना किनारे खुली सरकारी भूमि की फेंसिंग करने को कहा। इन स्थानों का उपयोग पौधे लगाने में किया जाएगा।

शिवना तट पर स्थित है कई मंदिर

शिवना तट पर खानपुरा में प्राचीन मंदिरों में रामानुज कोट, बद्रीविशाल मंदिर, बलराम मंदिर, वराह मंदिर, रावण प्रतिमा, तीन छत्री बालाजी मंदिर, शीतलामाता मंदिर, प्राचीन जैन दादावाड़ी, चारभुजानाथ मंदिर सहित कई प्राचीन मंदिर है। नया रास्ता बनने से शहर के लोग व बाहर से आए पर्यटक आसानी से इन मंदिरों में पहुंच सकेंगे।

वर्षाकाल के पूर्व नालों की सफाई शुरू : शिवना तट पर बहने वाले नाले होंगे साफ

वर्षाकाल के पूर्व शहर के अन्य नालों के साथ प्रमुख रुप से शिवना नदी के पास से बहने वाले नगर पालिका के नालों को प्राथमिकता से साफ किया जा रहा है। स्वास्थ सभापति श्रवण रजवानिया अपनी टीम के साथ शिवना तट पहुंचे व नदी के निकट बहने वाले नालों से जलकुंभी, पॉलीथिन एवं गंदगी निकालने के निर्देश दिए। इस अवसर पर उपस्थित नपा स्वास्थ अधिकारी केजी उपाध्याय, जाकिर एवं स्वास्थ अमले की टीम को कहा एक-दो दिन में गंदे नाले साफ कर दिए जाए। वर्षाकाल में शिवना में नालों का पानी नहीं जाए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *