Breaking News

शुभ मुहुर्त में हुई लक्ष्मी पूजा : दीपावली के पावन पर्व पर बिखरी दीपों की रोशनी, चेहरों पर झलका उत्साह और उमंग का उजास

रंगबिरंगी आतिशबाजी से पट गया आसमान, मंदिरों में उमड़ै श्रद्धालु

मंदसौर निप्र। भारतीय सनातन परंपरा के अनुसार भगवान श्रीराम के वनवास पूर्ण कर व लंका विजय कर अयोध्या लौटने की खुशी में मनाए जाने वाला दीपों का उत्सव शहरभर में पूरे उत्साह व उमंग के साथ मनाया गया। दीपों की रोशनी चारों तरफ दीपोत्सव के रंग बिखेर रही थी। दीपोत्सव के इस महापर्व पर चहूं ओर खुशियों का उजियारा फैला रहा, तो वहीं सारा आसमान रंगबिरंगी आतिशबाजी से सराबोर हो उठा। प्रातः से शुभ मुहुर्त में घर-घर और प्रतिष्ठानों पर धन व यश की देवी मॉ लक्ष्मी पूजन की परंपरा पूर्ण की गई, तो शाम होते ही सारा शहर दीपों और झिलमिलाती विद्युत सज्जा में नहा लिया।

19 अक्टूबर 2017 गुरूवार को सुबह से ही शहर में धुमधाम से मनना शुरू हो गया था। पहले महूर्त से शुरू हुआ पूजन का सिलसिला देर रात तक चलता रहा। इस दौरान लोगों ने अपने औजारों, धन, गल्लों आदि की पूजा करने के साथ ही नए बहीखातों एवं लेख पुस्तकों पर स्वास्तिक अंकित कर उनकी शुरूआत की। लक्ष्मी पूजन होते ही लोगों ने पटाखे छोड़ने का सिलसिला शुरू कर दिया। दोपहर से घर-आंगन में रांगोली बनाने के लिए बालिकाएं और युवतियां जुटी शाम तक शहर के लगभग हर घर आंगन में एक मनमोहक रांगोली देखने को मिली। शाम होते ही जहां दीपोत्सव का आकर्शण अपने पूरे यौवन पर आ गया, वहीं युवाओं ने विभिन्न चौक-चौराहों पर डीजे लगाकर फिल्मी गानों की धुन पर खुब डांस किया। हर आम और खास दीपावली के त्योहार पर नए कपड़ों में सजा हुआ था, तो वहीं शहर के लगभग हर घर व प्रतिष्ठान पर आकर्शक विद्युत साज-सज्जा थी। इसी तरह दिनभर शहर के बाजारों में भी खासी भीड़ रही। लोगों ने दिनभर बाजार में घुमकर लक्ष्मी पूजन से संबंधित सामग्रियों की खरीददारी की।

मंदिरों में लगी भीड़
दीपोत्सव का पर्व दीपदान की दृश्टि से भी काफी शुभ माना जाता है, इसी के चलते शहर के लगभग सभी मंदिरों में शाम होते ही दीपदान करने वाली महिलाओं की भीड़ उमड़ी। महिलाएं परंपरागत तरीके से अपने क्षेत्र के मंदिरों पर पहुंची और वहां दीप प्रज्जवलित किए। मंदिरों में दीप दान करने के बाद ही लोगों ने लक्ष्मी पूजन की। इस दौरान अश्टमुखी भुतभावन भगवान पशुपतिनाथ के दरबार में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे, जिनके लगाए हुए दीपों से सारा गर्भगृह जगमगा उठा।

आज होगी गोवर्धन पूजा
जिलेभर में दीपोत्सव के चौथे दिवस परंपरागत गोवर्धन पूजा का आयोजन होगा। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में गोवर्धन पूजा का विषेश महत्व होता है। इस दौरान जिले में कई आयोजन भी होना है, वहीं सुबह से ही महिलाएं गौवर्धन के रूप में गौवंश की पूजा-आराधना करेगी। इस दौरान गौवंश को सजाया जाएगा। गौवर्धन पूजा का ग्वाला समाज में खासा महत्व है। वहीं नगर के कई विश्णु मंदिरों में अन्नकूट के आयोजन भी होंगे।

आज चढेंगे निर्वाण के लड्डू
दीपावली का पावन पर्व भगवान महावीर स्वामी के निर्वाण महोत्सव के भी मनाया जाता हैं। इस अवसर पर आज षुक्रवार को प्रातः से ही नगर के विभिन्न जैन मंदिरों में निर्वाण लड्डू चढाये जायेंगे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts