Breaking News

शुभ मुहूर्त में घर – घर विराजें गौरपूत्र

दस दिनों तक मनेगा उत्सव होगे, 200 से अधिक सार्वजनिक स्थानों पर लगे गणपति के पाण्डाल

मंदसौर। सोमवार को नगर सहित जिलेभर में बड़ी ही धूमधाम के साथ गणेश चतुर्थी का पर्व मनाया गया। श्रद्धालुओं ने घरों और सार्वजनिक पंडालों में गणपति की प्रतिमा की स्थापना की। उल्लेखनीय है कि भाद्रपद की शुक्लपक्ष की चतुर्थी को भगवान गणेश का जन्म हुआ था इस दिन से देश भर में दस दिवसीय गणेशोत्सव मनाया जाता है। इस बार भक्तों ने पर्यावरण संरक्षण के लिए इको फ्रैंडली बप्पा अपने हाथों से ही बनाए। पर्यावरण को बचाने के लिए इस बार नगर में कई स्थानों पर मिट्टी के गणेश बनाने का प्रशिक्षण समाजसेवी संस्थाओं ने दिया था। अन्य भक्तों ने भी इस बार बाजार से मिट्टी की गणेश प्रतिमा ही ज्यादा खरीदी।

सुबह से ही लगी भक्तो की भीड़

गणपति बप्पा को अपने घर ले जानेे के लिए सुबह से भक्तों की भीड़ बाजारों में दिखने लगी थी। कोई अपने बप्पा को बाईक पर ले जा रहा था तो कोई लोडिंग वाहन में। डीजे की थाप युवा नृत्य करते हुए गणेश प्रतिमाओं को पांडाल तक उत्साह से ले जा रहे थे।

200 से अधिक सार्वजनिक पांडाल

मंदसौर में गणेशोत्सव के लिए छोटे बड़े 200 से अधिक गणेश पांडाल बनाए गए है। जहॉ पर गुरूवार को विधि विधान के साथ विध्नहर्ता को विराजित किया गया। अब 10 दिनों तक भक्त भगवान गणेश की पूजा अर्चना करेगे।

सुख समृद्धि का होता है वास

रिद्धि सिद्धि के दाता भगवान श्रीगणेश की स्थापना करने से घर में सुख समृद्धि का वास होता है। हिन्दू धर्म में भगवान गणेश का विशेष स्थान है। कोई भी पूजा, हवन या मांगलिक कार्य उनकी स्तुति के बिना अधूरा है। हिन्दुओं में गणेश वंदना के साथ ही किसी नए काम की शुरुआत होती है।  नगर सहित जिले में सिर्फ चतुर्थी के दिन ही नहीं बल्कि भगवान गणेश का जन्म उत्सव पूरे 10 दिन यानी कि अनंत चतुर्दशी तक मनाया जाता है और इस दिन मंदसौर में एक भव्य चल समारोह भी निकाला जाता है। जिसमें विभिन्न प्रकार की आर्कषक झांकिया भी सम्मिलित होती है।

51 गणेश प्रतिमा का वितरण किया गया

गणेश उत्सव के पावन पर्व पर जिला धार्मिक उत्सव समिति द्वारा 51 गणेश प्रतिमाओं का वितरण किया गया। अब तक शहर में नव दुर्गा प्रतिमाओं का वितरण किया जाता रहा है यह पहला अवसर है जिसमें जिला धार्मिक उत्सव समिति द्वारा गणेश चतुर्थी पर भगवान श्री गणपति की प्रतिमाओं का वितरण किया गया। कार्यक्रम प्रतिमाओं का वितरण रेलवे स्टेशन रोड़ पर पशुचिकित्सालय के सामने किया गया, जिसमें मूर्ति दानदाताओं द्वारा बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सौमिल नाहटा, कन्हैयालाल सोनगरा, बृजेश जोशी, डिकपाल भाटी आदि अतिथियों ने धार्मिक उत्सव समिति के कार्यक्रम की खूब सराहना की कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों से शहर में धार्मिक और आपसी भाईचारा बढ़ता है और धार्मिक उत्सव समिति द्वारा शहर के प्रबुद्ध नागरिकों को इसमें शामिल कर जो आपसी सद्भाव बढ़ाने का कार्य किया है वह काफी सराहनीय है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply