Breaking News

श्री गुर्जर ने किसानों से शांतिपूर्ण और अहिंसक आंदोलन की अपील की

Story Highlights

  • श्री गुर्जर ने किसानो की न्यायोचित मांगो को तत्काल हल करने को लेकर सरकार की किसान विरोधी नीतियों पर सवाल उठाये

मन्दसौर। जिला कांग्रेस उपाध्यक्ष महेंद्रसिंह गुर्जर ने किसान आंदोलनकारियो से  अपनी न्यायोचित मांगो को केंद्र और राज्य की सरकार,और जनप्रतिनिधियों  तक पहुँचाने के लिए किसानों से शांतिपूर्वक और अहिंसक, आंदोलन करने का आह्वान किया।
श्री गुर्जर ने कहा कि किसानों की प्रमुख मांगो मंडी में शत प्रतिशत नगद भुगतान, केसीसी सहित अन्य सभी कर्ज माफी, फसलो के वाजिब मूल्य, सब्जीमंडी में किसानों से वसूले जाने वाले टैक्स सहित अन्य सभी फसलो के वाजिब मूल्य देने की किसानों की उचित मांगो का समर्थन करते हुए श्री गुर्जर ने किसानों से अपील कि किसान आंदोलन से  व्यापारियों, फुटपाथ के दुकानदारों, नागरिको, छोटे दुकानदारों, सहित जनसामान्य को किसी भी प्रकार से कोई असुविधा नही हो।
 श्री गुर्जर ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा खेती को लाभ का धंधा बनाने तथा किसानों की आय को दुगुना करने का  किसानों से वादा किया गया था। जो की आज तक सरकार ने पूरा नही किया।
प्रेदश सरकार को लगातार 5 वर्ष भी किसानों की कड़ी मेहनत और परिश्रम के बल पर ही राज्य सरकार को कृषि अवार्ड मिला है।
ओर देश की जीडीपी दर में किसानों की महत्वपूर्ण भूमिका होने के बाद भी किसानों को अपनी फसलो का वाजिब मूल्य नही मिल रहा है।
श्री गुर्जर ने कहा कि भाजपा सरकार की किसान विरोधी नीतियों से किसानों को अपनी फसलों के उचित दाम मिलना तो दूर की बात है, लागत मूल्य भी किसानों को नही मिल रहे है।
देश के अन्नदाता किसान जो फसले बहुताय मात्रा में पैदा करते है जैसेै गेंहू, सोयाबीन, चना, अरहर, प्याज़, लहसुन, मैथी,  कलौंजी, इसबगुल, सरसो, धनिया आदि फसलो को सरकार ने अन्य देशों से मंगवाकर देश के किसानों के साथ घोर अन्याय किया है।
श्री गुर्जर ने कहा कि इस प्रकार सरकार किसानों की आय को दुगना ओर खेती को लाभ का धंधा कैसे बना सकती है।
श्री गुर्जर ने किसानों से आह्वान किया कि किसान अपनी न्यायोचित मांगो को सरकार तक पहुचाने के लिए शांतिपूर्ण और अहिंसक, गांधीवाद मार्ग पर आंदोलन को चलावे।
किसान आंदोलन से अन्य नागरिको, व्यापारियों, दुकानदारों को किसी भी प्रकार से परेशानी नही हो, इसका विशेष ख्याल रखने की अपील श्री गुर्जर ने किसानों से की है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts