Breaking News

श्री नाहटा के नाम निर्देशन पत्र पर लगायी आपत्तियां खारिज, रिटनिंग अधिकारी ने नामांकन वैध माना

मंदसौर। कांग्रेस प्रत्याशी श्री नरेन्द्र नाहटा के नाम निर्देशन पत्र के संबंध में भाजपा की ओर से लगायी गयी तीनो आपत्तियां रिटरिंग अधिकारी ने खारिज करते हुये मंदसौर से श्री नाहटा का नाम निदेशन पत्र को वैध घोषित किया है।
      भाजपा की ओर से विजय प्रकाश शर्मा, बादल शर्मा एवं अजय आसेरी ने आपत्तियां प्रस्तुत की गयी थी। भाजपा के चुनाव अभिकर्ता नरेश चंदवानी एवं पार्षद प्रतिनिधि आशीष गौड ने इन आपत्तियो के संबंध में अपना समर्थन करने के लिये निर्वाचन अधिकारी श्री शाक्य के समक्ष उपस्थित हुये जबकी कांग्रेस उम्मीदवारी श्री नरेन्द्र नाहटा की ओर से उनके प्रस्तावक एवं जिला कांग्रेस अध्यक्ष श्री प्रकाश रातडिया निर्वाचन अधिकारी के समक्ष श्री नाहटा के साथ पैरवी हेतु उपस्थित हुये।
       श्री नाहटा के नाम निदेशन पत्र पर लगायी गयी आपत्तियो में कहा गया था कि श्री नरेन्द्र नाहटा मंदसौर यूनिवसटी के कुलपति है, यह लाभ का पद है एवं संवैधानिक पद है, इस आपत्ति के कहा गया कि वे हरकचंद्र चौरडिया महाविद्यालय के अध्यक्ष है तथा वहां से लाभ प्राप्त कर रहे है। एक अन्य आपत्ति में यह कहा गया कि श्री नाहटा एमआईटी के चेयरमेन है। इन संस्थाओ मे राज्य सरकार से अनुदान मिलता है इसलिये श्री नाहटा लाभ के पद पर हैं। आपत्ति में यह भी कहा गया कि भानपुरा कॉलेज के अध्यक्ष पद पर रहते हुये उनके द्वारा कई अनिमितताये की गयी एवं उनके उपर आपराधिक प्रकरण बनता है इसलिये उनका नामांकन खारिज किया जाये।
         श्री नाहटा की ओर से जिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं अभिभाषक श्री प्रकाश रातडिया ने कहा कि आरोपो के संबंध में प्रमाण नही हैं कि वे लाभ के पद पर है। उन्हे कोई वेतन एवं परिलब्धियां नही मिलती हैं। श्री नाहटा पर कोई आपराधिक प्रकरण दर्ज नही है। शपथ पत्र में जो जानकारियां मांगी गयी है वे सब दी गयी हैं। शपथ पत्र में वर्णित तथ्यो की जांच कर निर्णय देने का रिटनिंग अधिकारी का कार्य क्षेत्र नही हैं। श्री रातडिया ने लिखित आपत्तियां को लिखित उत्तर प्रस्तुत किया। दोपहर 12.30 बजे दोनो पक्षो की बहस सुनने के बाद रिटनिंग अधिकारी श्री शाक्य ने निर्णय के लिये चार बजे का समय निर्धारित किया। निर्धारित समय पर रिटनिंग अधिकारी श्री शाक्य ने प्रस्तु आपत्तियांे को खारिज करते हुये श्री नाहटा का नामांकन वैध घोषित किया। श्री शाक्य ने आदेश में कहा कि श्री नाहटा लाभ के पद पर है ऐसा  कोई प्रमाण प्रस्तुत नही है। आपत्तिकर्ताओ ने कोई शपथ पत्र एवं ठोस प्रमाण प्रस्तुत नही किये है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts