Breaking News

संभागीय संगठन मंत्री की गोपनीय बेठक से मंदसौर नगर पालिका मे रही राजनीतिक हलचल

मंदसौर. भाजपा की बहुमत वाली नगर सरकार में वर्तमान सभापतियों को बदलने की कवायद के बीच शनिवार की रात को भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के यहां संभागीय संगठन मंत्री ने गोपनीय रुप से कोर कमेटी की बैठक ली। इसके साथ ही इसमें हलचल तेज हो गई। संभागीय संगठन मंत्री प्रदीप जोशी के जिले में दौरे की खबर के साथ सुबह से ही पार्षदों ने सक्रियता दिखाते हुए संपर्क करने के साथ अपने प्रयास शुरु कर दिए थे। भाजपा कार्यालय पर पहुंचने की सूचना थी, ऐसे में पार्षद वहां इंतजार करते रहे, लेकिन जोशी ने गोपनीय स्थान पर कोर कमेटी की बैठक ली। चुनाव से पहले ही से जोर आजमाईश में जुटे पार्षदों ने चुनाव के बाद दबाव बनाना शुरु किया। नपाध्यक्ष से लेकर विधायक व जिले के अन्य भाजपा के नेताओं से संपर्क के साथ बदलाव की मांग पार्षदों ने तेज की तो वहीं जो वर्तमान में सभापति हैवह भी बने रहने के लिए अपने प्रयासों में लग गए है।

दिनभर रही हलचल
अप्रैल माह में सभापति को लेकर चली उठापटक के बीच मामला भोपाल तक पहुंचा था। उस समय पार्षदों को विधानसभा चुनाव के बाद सभापति बदलने का भरोसा देकर इस्तीफे लिए थे और स्थिति को यथावत रखा था। ऐसे में पार्षद जो सभापति बनने की कतार में खड़े है। वह चुनाव से पहले ही संगठन नेताओं के संपर्क में आ चुके थे लेकिन अब जब चुनाव पूरे हुए तो सक्रियता बढ़ाते हुए मांग पार्टी फोरम पर शुरु कर दी। पिछले दिनों संगठन मंत्री ने भरोसा दिया था। ऐसे में जब शनिवार को क्षेत्र में संगठन मंत्री का दौरा था तो सभापति बनने के लिए कतार में खडे पार्षद दिनभर लोकेशन लेते रहे तो जो सभापति हैवह भी ऊपर-नीचे होते रहे। ऐसे में भाजपा के पार्षदों व नपा की राजनीति में दिनभर हलचल रही।

पार्षद करते रहे इंतजार गोपनीय जगह हो गई बैठक
दोपहर में भाजपा पार्षदों को सूचना मिल गई थी कि संगठन मंत्री भानपुरा, गरोठ व सुवासरा क्षेत्रमें है। पहले से संपर्क में होने के बाद उन्होंने फिर संपर्क शुरु किया तो उन्हें जानकारी मिली की शाम को संगठन मंत्री मंदसौर पहुंचेगे और भाजपा कार्यालय पर उनसे मिलेंगे। ऐसे में सभापति की आस लगाए बैठे भाजपा के पार्षद कार्यालय पर रात तक संगठन मंत्री के आने का इंतजार करते रहे। लेकिन गोपनीय रुप से संगठन मंत्री की भाजपा के जिला पदाधिकारी के यहां इसी मामले को लेकर बैठक हुई। इसमें संगठन मंत्री ने सभापति मामले को लेकर विधायक, नपाध्यक्ष, जिला पदाधिकारियों के साथ मंडल के पदाधिकारियों के साथ कोर कमेटी की बैठक ली। बैठक को पूरी तरह से गोपनीय रखा गया। लेकिन दिनभर से इसमें लगे पार्षद लोकेशन लेते रहे तो बैठक के अंदर क्या हुआ। इसकी जानकारी भी लेते रहे।

कुछ कहना ठीक नहीं
मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है। मैं बाहर गया था। संभागीय संगठन मंत्री क्षेत्र में आए थे। यहां उन्होंने पूर्व विधायक से मुलाकात की है। इसके बाद मंदसौर के बारें में जानकारी नहीं। सभापति वाले मामले से लेकर अन्य मामलों को लेकर कुछ कहना ठीक नहीं होगा।
-चंदरसिंह सिसौदिया, जिलाध्यक्ष

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts