Breaking News

बुरे आचरण को छोड ,सही आर्दशो को अपनाना है ,समरसता के माध्यम से अनेको समाज को जोडने का कार्य हुआ – श्री बग्गा

सकल वाल्मीकी समाज द्वारा वाल्मीकी जी की जयंती बनाई गई

मंदसौर निप्र। सकल वाल्मीकी समाज द्वारा स्थान श्यामबाबा मंदिर परीसर मे वाल्मीकी जी की जयंती बडें धुमधाम से बनाई गई जिसमे अतिथि गुरूचरण बग्गा संघ प्रमुख, प्रहलाद बंधवार नगर पालीका अध्यक्ष, सुरजगल गर्ग(चाचा) समरसता मंच, सत्यनारायण सोमानी, विनोद मेहता, अरूण शर्मा, श्री सोनगरा, श्री मोदी, ब्रजेश आर्य आदि उपस्थित थे।
गुरूचरण बग्गा ने कहा के बुरे आचरण को छोड हमे सही आर्दशो को अपनाना चाहिये। हमने समरसता के माध्यम से हमने अनेको समाज को जोडा है। प्रहलाद बंधवार ने कहा देश मे जो स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा उसमे सबसे बडा योगदान वाल्मिकी समाज का है जिसका उदाहरण हैं तो भी आज छुटठी होने पर भी मन्दसौर शहर स्वच्छ है श्री बधवार ने वाल्मीकी जयंती पर सभी वाल्मीकी समाज के बन्धुओ को बधाई दी । वाल्मिकी समाज के पटेल मुकेश चनाल कहा की एक क्रोच पक्षी को जब एक शिकारी ने बाण मारा उस समय वाल्मीकी अपनी तपस्या मे लिन थे, उसी समय बाड़ लगने से वो पक्षी मुर्छीत होकर उनके सामने गिरा उस वाल्मीकी को बहुत अघात हुआ जो उनके कंठ से उद्गार शब्द निकले वो संसार की कविता का पहला छंद बना इसी लिए वाल्मिकी को आदी कवि कहते है।

इस कार्यक्रम मे उपस्थित वरीष्ठजनो मे प्रकाश मकवाना, ईश्वर गोसर, बाबुलाल हंस, प्रकाश तंवर, घीसालाल केसरीया, जीवन तंवर, मनहोर तंवर, विजय परमार, दीपक तंवर, संजय रिल, मनहोर फतरोण रवि डागर, शक्ति डागर, जितेन्द्र चनाल, रमेश खोकर, विजेन्द्र चनाल एवं कई महिलाए भी अधिक संख्या मे उपस्थित थी। इस कार्यक्रम का संचालन राजाराम तंवर ने किया आभार कार्यक्रम के अध्यक्ष बंसत परमार ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts