Breaking News

सद्भाव से रोशन हुआ मंदसौर का प्रत्येक घर मिल जुलकर एक परिवार के रूप में मनाई गई दीपावली

खिले चेहरों से मिला सुकुन, सबसे महत्वपूर्ण – सौमिल नाहटा

मन्दसौर। भारत देश का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार दीपावली माना जाता है। जिसे खुशियों का त्यौहार कहते है लेकिन इस त्यौहार पर कई परिवार ऐसे होते है जो खुशियों से वंचित रहते है। ऐसे ही परिवार के बीच सद्भाव सामाजिक संस्था द्वारा 18 अक्टूबर को दीपावली मनाई गई।

संस्था द्वारा नगर के कई क्षेत्रों मिठाई व नमकीन का वितरण कर हर घर में दीपावली मनाने का प्रयास किया। 18 अक्टूबर रूप चौदस के दिन संस्था ने वंचित परिवारों के घर घर जाकर खुशियॉ बॉटी। मिठाई वितरण के कार्यक्रम के बाद संस्था के सोमिल नाहटा ने कहा कि  वसुधैव कुटुंबकम की शुरुआत हम अपने शहर से करना चाहते थे जिससे में हम बहुत हद तक सफल भी हुए है। दीपावली जैसा त्यौहार सामूहिक रूप से  मनाने में जो खिले चेहरों ने हमारा स्वागत किया वह सर्वोपरी और सबसे महत्वपूर्ण है। नगर की जनता का आभार जिन्होने इस अभिनव पहल मेें हमारा सहयोग किया। आगामी वर्षो में हम इसे और अच्छा करने का प्रयास करेगे।

अपेक्षा से दौगुने एकत्र हुए मिठाई के पैकेट जिसने भी संस्था के इस पुनीत कार्य को देखा उन सभी ने संस्था व सौमिल नाहटा मित्र मंडल की इस अभिनव पहल की खूब तारीफ कर सराहना की। उल्लेखनीय है जब संस्था ने इस कार्य को प्रारंभ किया था तो उम्मीद नहीं लग रही थी कि लोगों का इतना सहयोग मिलेगा लेकिन कहते है ना नियत अच्छी हो तो बरकत भी अच्छी होती है। संस्था ने 1000 मिठाई के पैकेट जनता से एकत्र कर जरूरतमंद परिवारों में बांटने का लक्ष्य बनाया था लेकिन इस पुनीत कार्य को देखते हुए लोेगों ने भी इसे खूब सहयोग किया और संस्था के पास 18 अक्टूबर धनतेरस की रात्रि 11.30 बजे तक 1758 मिठाई के पैकेट एकत्र हो गये थे। जिन्हें रूपचौदस को प्रातः वितरित किया गया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts