Breaking News

सहकारी उपायुक्त चौहान लोकायुक्त के मामले में निलंबित, कार्यप्रणाली को लेकर भी रहे है विवादों में

मंदसौर निप्र। सहकारी उपायुक्त भारतसिंह चौहान को लोकायुक्त के एक मामले में 20 नवम्बर को सस्पेंड कर दिया गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार मंदसौर में पदस्थी के पूर्व श्री चौहान वर्ष 2012 में उज्जैन में पदस्थ थे तब उनके विरूद्ध एक लोकायुक्त का प्रकरण पंजीबद्ध हुआ था। जिस हेतु श्री चौहान 20 नवम्बर 2017 से मंदसौर सहकारी उपायुक्त के पद से निलंबित कर दिया गया है। हालांकि अभी श्री चौहान का प्रभार आधिकारिक रूप से किसी को नहीं दिया गया है।

लगते रहे अनेक आरोप: श्री चौहान का मंदसौर से गहरा नाता रहा है। श्री चौहान मंदसौर सहकारी उपपंजीयक कार्यालय में ही वर्ष 2006 में सहायक उपायुक्त थे और वर्तमान में पदोन्न्ति के बाद उपायुक्त के पद पर कार्यरत् थे। लेकिन श्री चौहान का विवादों से पुराना नाता रहा है। मप्र विद्युत कर्मचारी सहकारी संस्था में हुए उलटफेर का मामला हो या नगर में संचालित हो रही साख सहकारी संस्थाओं का मामला हो सभी में श्री चौहान की कार्यप्रणाली संदेह के घेरे में ही रही है।

कलेक्टर के नोटिस पर भी नहीं कि थी कार्यवाही: निलंबित उपायुक्त श्री चौहान को नगर में संचालित हो रही साख संस्थाओं की जॉच हेतु कलेक्टर ने नोटिस जारी किया था। लेकिन श्री चौहान ने कलेक्टर के नोटिस का भी पालन नहीं किया था। यही नहीं नवचेतन सहकारी साख संस्था में भी हुआ गडबड़झाला की जॉच का दायित्व कलेक्टर ने निलंबित श्री चौहान को सौंपा था। लेकिन उसकी भी जॉच अंजाम तक नहीं पहुॅच सकी। उपायुक्त श्री चौहान के निलंबन के संबंध में कलेक्टर ओ पी श्रीवास्तव ने कहा कि उन्हें निलंबित तो कर दिया गया है लेकिन अभी मेरे पास लिखित कोई आदेश नहीं आया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts