Breaking News

सामाजिक समरसता दीपावली मिलन समारोह सम्पन्न

उच नीच का भेद मिटाकर राष्ट्र को सुदृढ़ बनाने का संकल्प लेवे

मंदसौर। हमारे देश की सांस्कृतिक परम्परा पुरे विश्व को एक परिवार मानने की है इसीलिये दुनिया सबसें श्रेष्ठ सामाजिक व्यवस्था भारत की है। समाज है तो राष्ट्र है, भारतीय समाज समरसता के भाव लिये ही है। हमारे अवतारी पुरूषों ने हमें समभाव व समदृष्टि का संदेश दिया है, भवगान श्री राम ने शबरी के झूठे बेर खाकर मानवता को समभाव का संदेश दिया, हमारी संस्कृति में अस्पृश्यता जैसा कोई शब्द नहीं है।

ये विचार सामाजिक सामाजिक समरसता दीपावली मिलन समारोह  में मालवा प्रांत के सुप्रसिद्ध चिंतक व राष्ट्रवादी विचारक ब्रजकिशोर भार्गव ने व्यक्त किए। यह आयोजन माहेश्वरी धर्मशाला में सपन्न हुआ, अध्यक्षता वरिष्ठ समाजसेवी व ऋषियानंद आश्रम ट्रस्ट के अध्यक्ष ओमप्रकाश पोरवाल ने की। आयोजन समिति के संयोजक सूरजमल गर्ग चाचा थी मंचासीन थे।

मुख्यवक्ता भार्गव ने कहा कि सामाजिक सररसता का सृजन करते हुए हम उच नीच के भेद को मिटा कर भारत को सशक्त राष्ट्र बनाने का संकल्प लें। आपने कहा कि हमारा समाज की है। जिसने अपने देश को माता माना, भारत माता कोई देश ऐसा उदाहरण नही दे सके, हमारी संस्कृति सनातन है जो हमे प्रेम, सहयोग सद्भाव सिखाती है। इसलिये तो एक समय ऐसा था जब भारत सोने की चिडि़या कहा गया था। हमारे देश की सामाजिक एकता से भी इसे विश्वगुरू बनाना था, हमें फिर से ये यह गौरव प्राप्त करना है।

आरंभ में मंचासीन महानुभावों ने भारत माता की तस्वीर पर माल्यार्पण दीप प्रल्लवन व पूजन अर्चना की। समारोह का शुभारंभ किया । सामाजिक समरसता समिति के सचिव प्रदीप भाटी ने समारोह की प्रस्तावना रखी, हरिओम शर्मा व उनके दल ने आरंभ में गीत प्रस्तुत व भजन आयुषी देशमुख व तनिष्ठका ने व्यक्तिगत गीत प्रस्तुत की। अतिथियों का शाल व श्रीफल से सम्मान समिति के कोषाध्यक्ष कन्हैयालाल सोनगरा, मंत्री रूपनारायण मोदी, सहसचिव ब्रजेश आर्य ने किया। सभाग्रह में सामाजिक समरसता समिति के संरक्षक गुरूचरण बग्गा, मार्गर्शक विनोद मेहता, गोपाल कृष्ण पाटिल, रविप्रकाश बुदेला, समिति के पूर्व अध्यक्ष नरेन्द्र मेहता, विश्व हिन्दु परिषद के जिलाध्यक्ष प्रकाश पालीवाल, पू सिंधी भाईबंध पंचायत के अध्यक्ष  नदुभाई अडवाणी, वरिष्ठ पत्रकार, डॉ घनश्याम बटवाल, चतेन जोशी, भगवानदास ज्ञानानी आदि प्रमुख रूप से उपस्थित थे। संचालन ब्रजेश जोशी ने किया आभार दाउभाई विजयवर्गीय ने माना। समारोह में नगर के सभी समाजों के प्रतिनिध सम्मिलित हुए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts