Breaking News

सिंधिया ने चलाये बीजेपी पर बाण, किसान आन्दोलन को किया ताज़ा

मंदसौर । गोली उनके शासन के द्वारा चलाई और मुखिया उपवास पर बैठ जाए। इससे बड़ा नाटक हमने टेलीविजन पर नहीं देखा। शिवराज सिंह जी को मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहिए। उनको मुंबई जाकर बालीवुड में एक्टर बनना चाहिए। तमाशा देखा है कभी ऐसा। यदि मैं शिवराज सिंह जी की जगह होता तो मैं झोली फैलाकर भीख मांगकर उन परिजनों से माफी मांगता। यह बात कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के चैअरमेन एवं सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कही। वे मंगलवार को नारायणगढ़ में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जो घटना यहां घटी है। मैं मानता जलियावाला बाग के बाद कोई नरसंहार हुआ है तो वह पिपलियामंडी में हुआ है। कैसा कलयुग का जमाना है। जो शासक कहता है मैं सेवक हूं उसी शासक के कार्यकाल में अन्नदाता का रक्त गोली के आधार पर इस पावन धरती पर टपकता है। इससे शर्म की बात पूरे मध्यप्रदेश में नहीं हो सकती। कैसी सरकार है यह, एक तरफ तो सरकार लगाती किसान की छाती पर गोली और दूसरी तरफ शिवराज सिंह लगाते उनकी जान बोली। मेरे बेशर्म मुख्यमंत्री गए थे। उनको १३ दिन मेेंं जाने की कोई मोहलत नहीं मिली, २५ दिन बाद गए। हाथ में एक करोड का चेक लेकर। क्या बोला अलका जी, बालाराम जी को चिंता मत करो मैं हूं ना। मैं दाद देता हूं उस विधवा बहन को जिसने शिवराज सिंह जी को घूमकर कहा कि यदि आप मुझे एक करोड़ का चेेक थमा रहो है मेरे पति के छाती पर गोली लगाकर। मैं आपको दो करोड़ का चेक दूंगी मुझे मेरा पति वापस दिला दो।

ठूंस-ठूंस कर ले गए 
सिंधिया ने कहा कि भोपाल में पांच करोड़ का टेंट गुजरात से मंगवाया गया। तीन दिन बाद जब उपवास और नहीं चल पाया।जो कहते है हिंदू धर्म हमारी बपौती है। उनके मंत्री यहां आए थे पिपलियामंडी मंदसौर में।हमारे हिंदू धर्म में बताया जाता है कि जिस घर में गमी हो जाए।उस घर के लोगों १३ दिन कष्ट नहीं देते।हम उन के घर जाते हैउनका संबल बढ़ाने के लिए, सांत्वना देने के लिए। लेकिन यह ङ्क्षहदू धर्म के बपौती वाले एक-एक के घर गए और वहां से गाड़ी में ठूंस-ठूंस कर ४०० किलोमीटर दूर भोपाल शिवराज जी के पांच करोड़ के एसी वाले टेंट में ले गए। ताकि उनका उपवास तोड़ पाए और चंादी के गिलास से शिवराज जी को नारियल का पानी पिला पाए। इससे ज्यादा घोर अन्याय क्या हो सकता है।

चुनाव आते है तो टपक-टपक के आते है मंत्री-संत्री
सिंधिया ने कहा नरेंद्र मोदी जी आ रहे है 23 तारीख को। जिस प्रदेश में उनकी सरकार है जिस सरकार ने बंदूक से किसानों पर गोली चलाईथी। यहां आने का समय डेढ़ साल में उनको नहीं मिला।लेकिन जब चुनाव का समय आ जाता है तो वोट लेने का समय आ जाता है तो टपक-टपक कर मंत्री संत्री, मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री यहां आते है। मैंने संसद में कहा था प्रधानमंत्री जी को, २१ हजार किसानों ने आत्महत्या की है। बहुत देख लिया आपने बर्लिन को, टोकियो और लंदन को। कब देखेगों आप मेरे देश के किसान को। डेढ़ साल बाद आ रहे हैजिस सरकार ने आपके ऊपर नोटंबदी लगाई, जिस सरकार ने छह जून २०१८ को किसान बंदी लगाई, २५-२५ हजार के अभिषेक पाटीदार के भाईऊपर बांड लगवाया। उन पर २८ नवबंर को वोटबंदी कर देना।

सिंधिया ने बताई विज्ञापन वाली शिवराज की स्टाईल
उन्होंने कहा २०१४ में मोदी जी एक-एक सभा में कहते थे कि बताइए पेट्रोल के दाम घटना चाहिए कि नहीं, डीजल के दाम घटना चाहिए कि नहीं, गैस के दाम घटना चाहिए की नहीं।अब कहते है भाईयो और बहनों में बुलेट ट्रेन लाऊंगा मुंबई से अहमदबाद। बुलैट टे्रन तो नहीं आई।लेकिन खाद और गैस का दाम बुलैट की तरह ऊपर चला गया। आज ५५ रूपए का डीजल ७० रूपए, 414 रूपए का गैस 100 हजार पर चल रही है। खाद की बात ही मत करो।खात तो मिल ही नहीं रहा है। यह कहते जीडीपी दर हम बढ़ाएंगे।इनका जीडीपी का मतलब है बढ़ता हुआ गैस का दाम, बढ़ता डीजल का दाम और बढ़ता हुआ बिजली का दाम। बिजली की तो बात ही मत करना।एक ओर हमारे करिश्माईजो बिहार के चुनाव में गए थे।वहां कहा था बिहारी बाबू मेरे मध्यप्रदेश में आओ मैंने एक-एक गांव में २४ घंटे बिजली पहुंचा दी।और एक-एक अखबार में विज्ञापन आया, ऐसे। इनको ऋण माफी करने के लिए पैसा नहीं है इनको दो हजार करोड़ का इस्तीहार करने के लिए पैसा है।बिजली नहीं मिलती लेकिन एक-एक लाख रूपए का बिल आ जाता है। भ्रष्टाचार का आलम मध्यप्रदेश में, खसरा खतौनी लेना है तो पैसा, वृ़द्धा अवस्था पेंशन लेना है तो पैसा, तो विधवा पेंशन लेना है तो पैसा, गरीबी रेखा की सूची देखा तो गरीबों के नाम काटे गए। अमीरों और भाजपा के नेताओं का नाम जोड़ा गया। रोजगार गारंटी के तहत आपके डेढ़ करोड़ का पेमेंट पिछले पांच साल से नहीं हुआ है। खा गए यह सब। कहते है ना खा गए शकर पी गए तेल यही है भाजपा का असली खेल। घोषणावीर जी आए थे यहां उन्होंने कहा था कि ३० बिस्तर का अस्पताल बनवाएंगे बनवाया क्या, इसबगोल का प्लंाट लगवाएंगे लगवाया क्या, इनकी आंखों में तो केवल अमरीका जैसी सडक़े देखती है। और बिचारे मासूम हैउनकी गलती नहीं है, क्योंकि जो व्यक्ति पूरे १५ साल उडऩखोटले से उड़ता रहे उसको क्या मालूम गड्ढा या मखमल है।मैं कहता हूं शिवराज ङ्क्षसह जी यहां सडक़े नहीं है। सैकड़ों गड्ढे है मौत के अड्डे है। घोषणवीर जी यहां आकर कई घोषणा कर गए।मैं घोषणावीर नहीं हूं। कांग्रेस की विचारधारा रही है जान जाए पर वचना ना जाए। भाजपा का वचन जाए पर जान ना जाए। व्यापमं का कांड कर लिया।रफेल का कांड कर लिया। सिंहस्थ कांड कर लिया धर्म के कुंभ को भ्रष्टाचार कुंभ कर लिया है। भाजपाई के बारे में एक ही कहावत है जले को आग कहते है बुझे को राख कहते है। जो जिनकी कालेकारनामों के सबूत जल जाए उनको भाजपा कहते है।एक है मोदी तो दूसरे योगी जी तो तीसरे हैढोंगी जी। सिंधिया ने कहा कि उपज बेचने जाए तो किसानों को सात दिन लाइन में खड़ा रहना पड़ता और फिर चेक थमा दिया जाता हैऔर फिरराशि के लिए सात दिन बैंक के चक्कर लगाना पड़ते है। कांग्रेस सरकार में तीन दिन के भीतर राशि दिलवाईजाएगी। प्रधानमंत्री की फसल बीमा योजना, प्रजातंत्र में आपकी अनुमति के बिना आपके खाते से पैसा काटा जाता है।छह हजार करोड़ हर वर्षमध्यप्रदेश सरकार किसानों के खातों से काट रही है। वह पैसा किसी सरकारी कंपनी में नहीं जाता है।वह पैसा शिवराज सिंह जी के दोस्तो की कंपनी में जाता है। सूट ***** वालों के यहां निजी क्षेत्र में। फसल बीमा सरकारी कंपनी से करवाया जाएगा। मंच पर पूर्वसंासद मीनाक्षी नटराजन, कांग्रेस प्रत्याशी परशुराम  सीसौदिया, पूर्व विधायक नवकृष्ण पाटिल, नंदकिशोर पटेल, जिलाध्यक्ष प्रकाश रातडिय़ा, मुकेश काला, राजेंद्र सिंह गौतम, राघवेंद्र सिंह तोमर, मृतक अभिषेक पाटीदार की माता अलका पाटीदार, मृतक घनश्याम धाकड़ के पिता दुर्गालाल, बबीता सिंह तोमर सिंह अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

 

सिंधिया ने चलाए शब्दो के बाण, किसे कहा ढोंगी

चुनाव आ गए तो प्रधानमंत्री मोदी को किसान याद आ गए और २३ नवंबर को उन्होंने मंदसौर का दौरा बना लिया। यह बात कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहीं। वे मंंगलवार को नारायणगढ़ में आयोजित आमसभा को संबोधित कर रहे थे। सिंधिया मल्हारगढ़ विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी परशुराम सिसौदिया के समर्थन में जनसंपर्क करने आए थे। उन्होंने मोदी, योगी के नाम के साथ ढोंगी शब्द का उपयोग किया। ढोंगी शब्द का प्रयोग उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के लिए किया। उन्होंने कहा कि शिवराज ने २ हजार करोड़ रुपए के विज्ञापन छपा लिए, लेकिन किसानों की सुध नहीं ली। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि शिवराज को बॉलीवुड में एक्टिंग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनती है तो १० दिनों में किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा। मंडी में फसल बेचने पर तीन के अंदर किसानों को राशि मिलेगी।

सिंधिया हेलीकॉप्टर से दोपहर करीब १२ बजे नारायणगढ़ के समीप पहेड़ा में बनाए गए हेलीपेड़ पर उतरे। यहां से वे मंच पर पहुंचे और आमसभा को संबोधित किया।सिंधिया ने कहा कि ये, चुनाव आपका भविष्य तय करने वाला चुनाव है। मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि प्रदेश में अब अर्जी से चलने वाली सरकार नहीं, बल्कि जतना की मर्जी से चलने वाली सरकार होगी। उन्होंने लोगो से अपील करते हुए कहा, कि अब प्रदेश में बदलाव का वक्त है और इसके लिए आप लोग कांग्रेस का साथ दें। उन्होंने शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला। सिंधिया ने कहा कि अब वक्त आ गया है जब मेरे अन्नदाताओं के सीने पर गोली चलाने वाले राक्षसों को प्रदेश से उखाड़ फेंकेंगे।

उन्होंने मंच पर कांग्रेस नेता श्यामलाल जोकचंद को समझाईश दी। साथ ही एकजुटता से कांग्रेस प्रत्याशी सिसौदिया को जीताने के लिए प्रयास करने की बात कहीं। उल्लेखनीय है कि श्यामलाल को टिकट नहीं मिलने के कारण उन्होंने निर्दलीय चुनाव लडऩे की घोषणा की थी। सोमवार को श्यामलाल का नामांकन फार्म निरस्त हो गया था। वहीं श्यामलाल ने परशुराम के समर्थन में जनसंपर्क भी सुबह से प्रारंभ कर दिया था। सभा को पूर्व सांसद मीनाक्षी नटराजन ने भी संबोधित किया। सभा के बाद सिंधिया लोगो से मिले। कई लोगो ने उनके साथ सेल्फी ली। जावद, गरोठ, सुवासरा और जावरा में बागियों को साधने के लिए नटराजन और राजेंद्रसिंह गौतम के बीच चर्चा भी हुई। इस दौरान कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रकाश रातडिय़ा, राजेंद्रसिंह गौतम मुकेश काला, राघवेंद्रसिंह तोमर सहित कई लोग उपस्थित थे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts