Breaking News

सीकर से नासिक जा रही बस पलटी, 15 घायल

Hello MDS Android App

पिपलियामंडी। सीकर से नासिक जा रही एक बस रविवार-सोमवार की दरमियानी रात महू-नीमच राजमार्ग पर थड़ोद टोल के पास पलट गई। हादसे में 15 यात्री घायल हो गए। मौके पर 108 एंबुलेंस और पुलिस के देर से पहुंचने के कारण टोल कर्मियों और अन्य लोगों ने कांच तोड़कर घायलों और अन्य यात्रियों को बाहर निकाला। बस ट्रांसफॉर्मर से कुछ ही दूर रह गई। यदि करंट फैल जाता तो प्रभावितों की संख्या ज्यादा हो सकती थी।

गौरतलब है कि लंबी दूरी और जल्दी पहुंचने की होड़ में स्लीपर कोच और वीडियो कोच बसें 100-120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ रही है। इसका खामियाजा यात्री भुगत रहे हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार-सोमवार की दरमियानी रात लगभग 1 बजे सीकर से नासिक जा रही बस (आरजे-23/पीए-7397) महू-नीमच राजमार्ग पर ग्राम थड़ोद के टोल प्लाजा से होकर निकली ही थी कि थोड़ी ही दूर सामने से अचानक वाहन आने पर बस चालक ने तेजी से ब्रेक लगाए। 100 किमी प्रति घंटे की गति होने के कारण बस असंतुलित होकर सड़क के पास की खाई में उतरकर पलट गई। इससे बस में सवार 15 सवारियां घायल हो गईं। घटना की सूचना देने के बाद भी काफी समय तक 108 एंबुलेंस और पिपलियामंडी पुलिस नहीं पहुंची। इस पर टोलकर्मियों और अन्य लोगों ने बस के कांच तोड़कर घायलों और यात्रियों को बाहर निकाला। टोलकर्मियों ने यात्रियों का प्राथमिक उपचार कर उन्हें जिला अस्पताल भेजा।

चालक ने पी रखी थी शराब
जिला अस्पताल पहुंचे घायलों में मंजू भाटी, उमाशंकर भाटी निवासी कुचामन सिटी जिला नागौर, संजय राव रुपनगढ़, सत्यनारायण चौहान मालेगांव, कपिल राव, सुमन पति संजय राव, संतोषी पिता विनोद राव, जयश्री पिता विनोद राव, संजना राव (5) आदि शामिल हैं। इनका कहना था कि रात 10.30 बजे सभी चित्तौड़ के पास ढाबे पर रुके थे। और वहां चालक ने शराब भी पी थी। उसके बाद से ही वह बस को तेज गति से चला रहा था।

नहीं है कोई नियंत्रण
स्लीपर कोच, वॉल्वों और वीडियो कोच बसों के मालिकों के प्रभावशाली होने के कारण परिवहन विभाग का इन पर नियंत्रण ही नहीं है। बस ऑल इंडिया परमिट के नाम पर चल रही है और जगह-जगह से यात्री बैठाए जा रहे हैं। मंदसौर शहर में ही प्रतिदिन लगभग 50 बसें आती-जाती हैं। इनमें इंदौर, भोपाल, पूना, उदयपुर, अहमदाबाद, जयपुर, अजमेर, कोटा, सूरत, शिर्डी, नाथद्वारा, उज्जैन की ओर प्रतिदिन बसें आती-जाती हैं। शहर में ट्रैवल्स के ऑफिस जगह-जगह खुल गए हैं।

कई बार निर्णय पर पालन नहीं
शहर में जगह-जगह ट्रैवल्स ऑफिस खुलने और बसों से सामान उतारने-चढ़ाने के कारण यातायात जाम हो रहा था। इस पर दो साल पहले विधायक सिसौदिया और तत्कालीन एसपी एमएस वर्मा ने ट्रैवल्स संचालकों के साथ बैठक कर निर्णय किया था कि सभी बसें महाराणा प्रताप बस स्टैंड पर खड़ी करेंगे। वहीं से सामान उतारे, चढ़ाएं और यात्रियों को भी यही से बैठाएं, परंतु एक भी दिन इसका पालन नहीं हुआ।

ऑल इंडिया परमिट की बसों को शहर में एक जगह महाराणा प्रताप बस स्टैंड पर ही रुकने का तय किया था, पर क्यों नहीं रुक रही है, दिखवाते हैं। समय की मारामारी के कारण आपसी होड़ में हो रही दुर्घटनाओं पर रोक लगाने के लिए भी कार्रवाई करेंगे। शहर में अनधिकृत रूप से आने वाली बसों के संचालकों पर भी चालानी कार्रवाई की जाएगी। – संतोष मालवीय, अतिरिक्त क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *