Breaking News

सीसीटीवी कैमरे के फुटेज से नहीं मिला सुराग, कॉल डिटेल से आस

डायमंड ज्वेलर्स की दुकान पर हुए चार फायर के बाद से शहर में सनसनी का माहौल है। शुक्रवार को पुलिस मामले में अपने सूत्रों को टटोलती रही। एफएसएल अधिकारियों ने दुकान पर पहुंचकर टूटे हुए कांच से गोलियों का बारूद व अन्य सेंपल लिए। हालांकि पुलिस को अभी तक इस घटना के पीछे के वास्तविक कारण पता नहीं लगे हैं। घटना के समय दुकान के अंदर के सीसीटीवी कैमरे तो चालू थे पर दुकान के बाहर का कैमरा बंद होने से भी आरोपियों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। अब कॉल डिटेल से कुछ आस है। इधर जानकारी मिली है कि शुक्रवार को भी दुकान संचालक को धमकी भरे फोन आए हैं।
शुक्रवार को पुलिस ने दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज खंगाले। दुकान के बाहर लगा कैमरा बंद होने से आरोपियों की तस्वीर नहीं मिल पाई। वहीं आस-पास की दुकानों में लगे कैमरों में उनकी तस्वीरें काफी धुंधली रिकॉर्ड हुई हैं। उच्च तकनीक से तस्वीरों को साफ कर बाइक सवारों को पहचानने का प्रयास किया गया, लेकिन सफलता नहीं मिली। आरोपियों द्वारा हेलमेट पहने होने के कारण भी सीसीटीवी फुटेज से खास मदद की उम्मीद नहीं है। बाइक नंबर के बारे में भी पुलिस को कुछ पता नहीं चल पाया। सुबह पुलिस के एफएसएल प्रभारी राजेंद्र चौखरे फोरेंसिक टीम के साथ दुकान पर पहुंचे। एक घंटे तक जांच पड़ताल की गई।

कोतवाली टीआई नरेंद्रसिंह ठाकुर ने बताया कि दुकान संचालक को पूर्व में धमकी मिली थी जिसमें 1 करोड़ रुपए की मांग की थी। अब कॉल डिटेल के माध्यम से आरोपियों की तलाश की जा रही है। फोरेंसिक टीम ने भी अपने स्तर पर जांच की है। पुलिस आरोपियों की तलाश में लगी है।

विवादों की जानकारी ली
पुलिस डायमंड ज्वैलरी दुकान के संचालकों अनिल सोनी व अजय सोनी के विवादों की भी जानकारी ले रही है। इसके अलावा यह भी पता लगाया जा रहा है कि फिरौती के लिए फोन के बाद दुकान पर फायरिंग करने का क्या संबंध है। एक साथ चार गोलियां चलाने का मकसद भी पुलिस की जांच का विषय है। हालांकि अभी कोई कड़ी नहीं मिलने से पुलिस अंधेरे में ही तीर चला रही है।

दिनभर की जांच
गुरुवार को शहर में चेन स्नैचिंग, बालिका के अपहरण के साथ सबसे व्यस्ततम क्षेत्र में गोली कांड हुआ था। एक साथ तीन बड़ी घटनाएं होने से नाराज एसपी मनोज शर्मा ने एएसपी, सीएसपी से लेकर टीआई तक की अच्छी खासी परेड ली थी। उसके बाद शुक्रवार को सभी थाना क्षेत्रों में मुख्य मार्गों पर जांच अभियान चलता रहा। वाहनों के कागजातों की जांच के साथ ही संदिग्धों से पूछताछ भी की गई। नई आबादी, प्रतापगढ़ रोड, महाराणा प्रताप बस स्टैंड सहित 6 जगहों पर पुलिस ने वाहन चालकों से पूछताछ की।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts