Breaking News

सुवासरा पुलिस द्वारा अंधे कत्ल का शिनाख्तगी के तीन दिवस मे किया खुलासा

Hello MDS Android App
  • रुपयो के लालच मे किया अपने राखी बंधन के रिश्तेदार का कत्ल
  • गांव से घुमाने की बात कह कर साथ लाया व शराब पिला कर गला दबा कर कि हत्या
  • अंधे कत्ल के बाद मृतक के शरीर से निकाले आभुषण
  • सुवासरा पुलिस ने तत्काल शिनाख्तगी कर तीन दिन मे किया खुलासा
  • आरोपी बनेलाल पिता हिरालाल जाति चमार उम्र 35 साल निवासी डोकर खेडी थाना सुवासरा को गिरफ्तार कर कब्जे से मृतक के कान की सोने कि मरकी, चांदी के कडे, मृतक का मोबाईल, नगदी 2000 रुपये जप्त किये।

पुलिस अधीक्षक मंदसौर श्री मनोज कुमार साहब के निर्देशन एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डां. श्री इन्द्रजीत बाकलवार साहब एवं एसडीओपी सीतामऊ श्री विनोद शर्मा जी के कुशल मार्गदर्शन मे दिये गये सही दिशा निर्देशो से थाना प्रभारी सुवासरा उप निरीक्षक राकेश चौधरी एवं टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही कर अज्ञात मृतक कि तत्काल पहचान की एवं अंधे कत्ल का तत्काल तीन दिवस मे खुलासा किया

घटना का संक्षिप्त विवरण – दिनांक को डोकर खेडी के जंगल मे मिट्टी मे दबी एक लाश मिलने की सुचना मिली सूचना पर से क्रमाकं 16/18 धारा 174 जा.फो. का कायम कर जांच मे लिया मोके पर जाकर जांच करते पाया की एक पुरुष जो करीबन 55-60  वर्ष की उम्र का होकर घोती कमीज पहने है जिसकी किसी ने हत्या कर दी व शब को छुपाने की नियत से वन विभाग द्वारा खोदी गई खाई मे डाल दिया तथा उपर से मिट्टी डाल दी ताकी किसी को दिखे नही जब दो तीन दिन बाद शव को जंगली जानवर खाने लगे एवं लाश सड कर बदबु आने लगी तब बकरी चराने वाले नारायणसिंह पिता अन्दरसिहं निवासी डोकर खेडी ने देखी व गावं के चोकीदार को बताया जिस पर से जांच शुरु हुई। शव पुराना होने के कारण सड चुका था लाश पुर्णतः क्षत विक्षिप्त हो चुकी थी जिसकी पहचान होना बहुत मुश्किल था मोके पर एफएसएल अधिकारी डॉ चंदा आंजना द्वारा घटना स्थल का बारिकी से निरीक्षण किया गया शव पोस्ट मार्टम करवाया शव के पहचान के प्रयास किये पहचान नही हो पाई जो शव को विधिवत् गढवाया गया बाद पी.एम रिपोर्ट प्राप्त कर अपराध क्रमांक 127/18 धारा 302,201 भादवि का कायम किया

शव की पहचान एवं घटना का खुलासा – बाद शव के फोटो सोशल मिडीया के माध्यम से सभी जगह प्रसारित किये एवं अज्ञात शव की सुचना सभी न्युज एवं सोशल मिडीया पर दी गई जिसने मृतक के परिजन सूचना पर मृतक पुरीलाल की तलाश करते सुवासरा आये जिन्होने मृतक के कपडे एंव पास से मिले सामान से मृतक की पहचान की गई पहचान सही पाये जाने पर शव को विधीवत् निकलावा कर परिजन के जिम्मे किया गया जो परिजनो से पुछताछ मे पाया की बनेलाल पिता हिरालाल निवासी डोकर खेडी आया था जो की पुरीलाल को अपने साथ घुमाने  का कह कर लाया था बनेलाल पर संदेह होने पर बनेलाल की तलाश की जो आम्बा के पास से मिला जिससे पुछताछ करते पहले तो अनभिज्ञता जाहीर की बाद शक्ति से पुछताछ करने पर जुर्म स्वीकार किया।

घटना को इस प्रकार दिया अंजाम – बनेलाल मृतक के गावं रामपुरिया कला के पास का रहने वाला है एवं मृतक व आरोपी मे राखी का संबंध था जो आरोपी बनेलाल मृतक के घर गया दोनो एक रात मृतक के घर साथ मे रहे फिर आरोपी बनेलाल मृतक को डोकर खेडी जहा आरोपी वर्तमान मे रह रहा है 2-3 दिन घुमाने का बोल कर ले आया जब ले कर आ रहा था तो रास्ते मे पगारिया से आरोपी ने शऱाब ली व मृतक को वही बैठ कर थोडी पीलाई व आरोपी के मन मे पुरीलाल के पास की कान की मुरकी हाथ के क़डे व नगदी देखकर मन मे लालच आ गया और उसने पुरीलाल को मारने व सारे आभुषण नगदी लेने का प्लान किया और इसके लिये और भी शऱाब खरीदी तथा अपनी मोटर सायकल पर बैठा कर डोकर खेडी के जंगल मे लाया शराब पिलाई जब पुरीलाल काफी नशे मे हो गया तो उसी के गले की साफी(गमचा) से उसका गला घोट कर उसकी हत्या कर दी व उसके कान की मुरकी एवं हाथ का कडा मोबाईल व नगदी निकाल लिये एवं लाश को कंधे पर उठा कर रोड से साईड़ मे वन विभाग द्वारा खोदी गई खाई मे ले जाकर डाली दी एवं उपर से आसपास की मिट्टी डाल दी।

 

   उक्त प्रकरण मे आरोपी बनेलाल पिता हिरालाल उम्र 35 साल जाति चमार निवासी मुल निवासी ग्राम धोलखेडा तह. इकलेरा जिला झालावाड़ हाल मु. ग्राम डोकर खेडी थाना सुवासरा जिला मंदसौर को मृतक पुरीलाल पिता पांचुलाल उम्र 55-60 करीबन जाति तंवर राजपूत निवासी रामपुरिया कला तह. इकलेरा जिला झालावाड की हत्या के जुर्म मे गिरफ्तार किया गया तथा आरोपी के कब्जे से मृतक पुरीलाल का मोबाईल कान कि मुरकी हाथ के कडे एवं नगदी रुपये जप्त किये गये।

 

   उक्त सरहानीय कार्य मे टिम थाना प्रभारी उप निरीक्षक राकेश चौधरी, उप निरीक्षक मनोज महाजन, सउनि अर्जुनसिंह परिहार, सउनि एस.के.रावल प्र.आर. महेश गिरोटिया प्र.आर. धन्नालाल आर. पप्पुसिंह आर तरुण आर बनवारी आर. पवन आर. चतर आर. कोशलेन्द्र, आर. आशीष सायबर सेल  का महत्वपुर्ण योगदान रहा ।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *