Breaking News

स्कूलों में अभिभावकों की बैठक हुई, बच्चों में होगा गुणात्मक विकास

मन्दसौर। जिले के शासकीय स्कूलों में पालक-शिक्षक मीटिंग आयोजित की गयी। स्कूलों में पैरंट्स मीटिंग के दौरान शासकीय माध्यमिक विद्यालय धतूरिया, अफजलपुर, दलौदा, शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 2 मंदसौर के अभिभावक ओंकार लाल, करूलाल, तुलसीराम, मुकेश, प्रभुलाल से बात की गई। चर्चा के दौरान उन्होंने बताया कि इस तरह की मीटिंग स्कूलों में पहली बार देखने को मिली। इस मीटिंग के माध्यम से बच्चों की परीक्षाओं की कॉपियां, उनको प्राप्त होने वाले अंक, उनकी रुचि, उनके भविष्य को लेकर और अच्छा क्या कर सकते हैं आदि के बारे में स्कूल के बच्चों, अध्यापकों से विस्तार से चर्चा की गई। सरकार की इस पहल से बच्चों मे गुणात्मक परिवर्तन होंगे। अगर बच्चों के अंदर कुछ कमियां हैं, तो वह समय रहते सुधारी जा सकती है।

अभिभावकों का कहना है कि शासकीय स्कूलों में पालक-शिक्षक मीटिंग आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य पालकों को उनके बच्चे की शैक्षणिक जानकारी देना तथा स्कूल की अकादमीक गतिविधियों से अवगत कराना और उनके सुझाव प्राप्त करना एवं बच्चों को प्रेरित कर शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के लिए पालकों को जागरूक करना है। शिक्षकों के द्वारा हमारे बच्चों की अर्धवार्षिक परीक्षा/प्रतिभा पर्व की कॉपियां दिखाई गयी। बच्चे किन विषयों में कमजोर है, उन्हें ओर अभ्यास की अधिक आवश्यकता है, के संबंध में जानकारी भी दी गयी। बच्चे नियमित रूप से स्कूल जाए इसके लिए प्रेरित किया गया। बच्चों को स्कूल में पूछे गए प्रश्न उनके दिए गए जवाब, जवाब की तत्परता, बच्चों की एक्टिवनेस के बारे में भी बताया गया। साथ ही शिक्षक बच्चों के पालकों से उनके बच्चों की व्यक्तिगत आदतों, व्यवहार, कक्षा में अध्ययन आदि बिंदुओं पर भी व्यक्तिगत रूप से चर्चा की गयी। विचार-विमर्श के पश्चात हमारा बच्चा किस विषय में कमजोर हैं। उस विषय के अध्यापक से भी मिलवाया गया। जिस पर संबंधित अध्यापक ने कहा कि कैसे बच्चे को इस विषय में और अच्छा मजबूत कर सकते हैं। घर पर भी पढ़ाई के लिए विशेष ध्यान देने की जरूरत है। यह सरकार की स्कूल के बच्चों को लेकर बहुत ही सराहनीय पर हैं।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts