Breaking News

हिन्दी दिवस पर मप्र हिंदी साहित्य सम्मेलन ने निकाली रैली व एक संगोष्ठी का आयोजन किया

मन्दसौर । हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी में इतनी क्षमता व सम्पन्नता है कि इस देश को अंग्रेजी की जरूरत ही नहीं है। लेकिन दुर्भाग्य है कि हिन्दी अब एक ज्वलंत मुद्दा हो गई है, इसका समर्थन व इसका विरोध करना दो पहलू हो गये है जिनका स्वार्थवश समय-समय पर उपयोग किया जाता है।

यह बात जिला एवं सत्र न्यायाधीश तारकेश्वर सिंह ने कहीं। वे मप्र हिन्दी साहित्य सम्मेलन की जिला इकाई द्वारा हिन्दी दिवस पर आयोजित संगोष्ठी को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अंग्रेजी परस्त मानसिकता से हिन्दी के साथ सौतेला व्यवहार किया जाता है तथा कथित श्रेष्ठी वर्ग अंग्रेजी को ही अपनी भाषा मान बैठा है। विश्व साहित्य की सबसे समृद्ध भाषा हिन्दी है। सिंह ने कहा कि देश में कई प्रतिष्ठित हिन्दी पत्रिकाओं का बंद होना चिन्ता की बात है, हिन्दी को जनमानस तक लोकप्रिय व सम्पर्क भाषा बनाने में पत्र-पत्रिकाओं का काफी योगदान रहा है। उन्होंने सरकारी कामकाज में अंग्रेजी के उपयोग को गैऱ जरूरी बताया व कहा कि मैं जिला एवं सत्र न्यायाधीश के पद पर रहते हुए कोई भी फैसला अंग्रेजी में नहीं लिखवाऊंगा। संविधान ने राष्ट्रभाषा के लिए राज्यों का दायित्व निर्धारण किया है।

हिन्दी से हुआ है संस्कार व संस्कृति का सृजन 
कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने कहा कि हिन्दी के प्रति केवल भावनात्मक विलाप करने से कुछ नहीं होगा, हिन्दी को रोजगार की भाषा के साथ समाज उपयोगी भाषा भी बनाना है। हम अंग्रेजी के दुश्मन नहीं है किन्तु हमारी मातृभाषा हिन्दी की जगह अंग्रेजी ले ले यह तो कतई मंजूर नहीं है। हिन्दी को लेकर कुछ समस्याएं हम स्वयं ही बुन रहे हैं, मातृभाषा जो देश की भी भाषा है उसे लेकर किसी तरह का विरोधाभास नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी भाषा का मूल उसकी लिपी होती है। हिन्दी की जड़ देवनागरी लिपी है। हिन्दी की समृद्ध परम्परा रही है, हिन्दी को विश्व की सबसे सम्पन्न भाषा माना जाता है, संस्कार व संस्कृति का सृजन हिन्दी से हुआ है। हिन्दी में पूरी भारतीयता समाई हुई है। बैंक कर्मी नेता महेश मिश्रा ने भी संबोधित किया। मप्र हिन्दी साहित्य सम्मेलन के संरक्षकगण सौभाग्यमल जैन, डॉ. ज्ञानचन्द खिमेसरा, नरेन्द्रसिंह सिपानी, डॉ. घनश्याम बटवाल भी उपस्थित थे।

यह भी रहे उपस्थित
समारोह में न्यायाधीश रूपेश कुमार गुप्ता, अनिरूद्ध जैन, एसडीएम शिवलाल शाक्य, सीएसपी राकेश मोहन शुक्ला, सीएमओ सविता प्रधान, वायडी नगर थाना प्रभारी विनोद कुमार कुशवाह तथा विक्रम विद्यार्थी, राव विजयसिंह, डॉ. देवेन्द्र पुराणिक, रूपनारायण जोशी, आलोक पंजाबी, बालूसिंह सिसौदिया उपस्थित थे। संगोष्ठी में युवा प्रतिभा दीक्षा नागोरे, दीपशिखा नागराज, धु्रव जैन, वरिष्ठ रचनाकार लाल बहादुर श्रीवास्तव व श्रीमती आरती तिवारी ने काव्य पाठ किया। संचालन ब्रजेश जोशी ने किया। आभार जयेश नागर ने माना।

 

मप्र हिंदी साहित्य सम्मेलन ने निकाली रैली

मप्र हिंदी साहित्य सम्मेलन की जिला इकाई के तत्वावधान में हिंदी दिवस पर बीपीएल चौराहे से भारत माता चौराहे तक हिंदी जागरूकता रैली निकाली गई। रैली में नगर के साहित्यकार, कवि, पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता व भारतीय विद्या मंदिर के विद्यार्थी सम्मिलित हुए। सभी हिंदी भाषा के प्रति सम्मान का संदेश लिखी पट्टिका लेकर और राष्ट्रभाषा हिंदी की जय-जयकार का उद्घोष करते हुए चल रहे थे।

रैली के समापन पर हुई नुक्कड़ सभा में संबोधित करते हुए बैंक कर्मी नेता व चिंतक महेश मिश्रा ने कहा कि हमें अपने आचरण में हिंदी अपनाना चाहिए। अंग्रेजी शोषण की भाषा है। दक्षिण में हिंदी का विरोध राजनीतिक लाभ के लिए किया जाता है। हमारी अंग्रेजीपरक मानसिकता ने हिंदी को बहुत नुकसान पहुंचाया है। राजनीतिक दल अपने घोषणा पत्र में हिंदी भाषा के लिए कोई घोषणा नहीं करते हैं। हिंदी प्रेमी अब यह कहेंगे कि हिंदी नहीं तो वोट नहीं। कृषि वैज्ञानिक नरेंद्रसिंह सिपानी ने कहा कि हिंदी व्यवहार व लोकाचार की भाषा है, इसे हर जगह महत्व मिलना चाहिए। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद में हर काम हिंदी में होता है। वरिष्ठ पत्रकार डॉ. घनश्याम बटवाल ने कहा कि हमारे देश के नीति नियंताओं का हिंदी पर ध्यान नहीं है यह दुर्भाग्य की बात है। वरिष्ठ पत्रकार महावीर अग्रवाल ने कहा कि अन्य भाषाओं को भी सम्मान दे लेकिन हमारी मातृभाषा ही सर्वोपरि है। हिंदी ही देश की एकमात्र संपर्क भाषा है। दशपुर प्रेस क्लब अध्यक्ष नेमीचंद राठौर ने कहा कि इससे बड़े दुर्भाग्य की बात क्या होगी कि हमें अपने ही देश में हिंदी को सम्मान देने सड़कों पर उतरना पड़ रहा है। शिक्षाविद रमेशचंद्र चंद्रे ने कहा कि नई पीढ़ी के लिए हिंदी भाषा में आकर्षण पैदा करना पड़ेगा। वर्तमान सरकार से हिंदी के प्रति कुछ अच्छा करने की उम्मीद है। जय भारत मंच संयोजक विनय दुबेला, सामाजिक कार्यकर्ता सुनील बंसल, राजाराम तंवर, बालूसिंह सिसोदिया ने भी संबोधित किया। मप्र हिंदी साहित्य सम्मेलन उपाध्यक्ष बंशीलाल टांक, कोषाध्यक्ष राव विजयसिंह, वरिष्ठ पत्रकार गायत्रीप्रसाद शर्मा, लालबहादुर श्रीवास्तव, भारतीय विद्या मंदिर संचालक बिंदु चंद्रे, जिला प्रेस क्लब अध्यक्ष नरेंद्र अग्रवाल आदि उपस्थित थे। संचालन सत्येंद्रसिंह सोम ने किया। आभार सम्मेलन जिला सचिव जयेश नागर ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts