Breaking News

हिन्दू नेताओं के विरूद्ध झूठे प्रकरण दर्ज करने के विरोध में मंदसौर जिला रहा पूर्ण बंद

मंदसौर। हिंदू जागरण मंच के आह्वान पर सोमवार को पूरा जिला स्वैच्छिक रूप से बंद रहा जिसके चलते जिले वासियों को आवश्यक सामग्री क्रय करने में परेशानी झेलना पड़ी दूध व सब्जी की आपूर्ति जारी रहने से लोगों को थोड़ी राहत मिली रविवार को साप्ताहिक अवकाश था इसके अगले दिन सोमवार को भी इस स्वैच्छिक बंद से दो दिनों तक व्यापारियों के प्रतिष्ठान बंद रहने से उनके व्यवसाय पर भी प्रतिकूल असर दिखाई पड़ा। बंद का आव्ह्ान हिन्दू जागरण मंच के बेनर तले किया गया था।

स्मरण रहे कि सीतामउ में हिन्दू समाज के वरिष्ठ लोगों के विरूद्ध पुलिस द्वारा झूठे एवं आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के विरोध में किया गया था। रविवार को हिन्दू जागरण मंच ने एक रैली निकालकर महामहिम राज्यपाल के नाम ज्ञापन भी सौंपा था। मंदसौर बंद के दौरान कहीं कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। सुबह से ही व्यापारीक प्रतिष्ठान बंद थे। बंद का असर लोकपरिवहन पर देखने को नहीं मिला। जबकि विद्यालयों में परिक्षाओं के चलते शिक्षण संस्थाएं भी चालू थी। बंद के आव्ह्ान को देखते हुए नगर के सभी चौक चौराहों पर पुलिस प्रशासन ने चौकसी की पर्याप्त व्यवस्था की थी।

सीतामउ में सौंपा ज्ञापन- रविवार को हिंदू जागरण मंच द्वारा तहसील मुख्यालय में धरना प्रदर्शन आयोजित कर राज्यपाल के नाम दिए गए ज्ञापन में सोमवार को नगर बंद का जिक्र किया गया यह बात सोशल मीडिया व व्हाट्सएप के जरिए जन-जन तक पहुंची लेकिन बंद के आह्वान को लेकर सार्वजनिक सूचना का प्रसारण नहीं हुआ। फिर भी सोमवार को प्रातः से ही सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे गली मोहल्लों व चौराहों पर इक्का-दुक्का दुकानें खुली पाई गई। बंद का आह्वान शांतिपूर्ण रहा। सुरक्षा की दृष्टि से नगर में जगह-जगह पुलिस बल तैनात रहा है एवं प्रशासन व पुलिस के अधिकारी दिन भर अलर्ट आ रहे ।अधिकारियों की टोली सतत रूप से नगर व अंचल का भ्रमण करते रही। यात्री बसों के संचालन पर बंद का असर नहीं दिखाई दिया।

ज्ञापन में इन तथ्यों का उल्लेख रहा- रविवार को हिंदू जागरण मंच द्वारा दिए गए ज्ञापन में बताया गया कि विगत दिनों नगर में धार्मिक आयोजनों के दौरान अशांति की स्थिति निर्मित हुई थी इस संदर्भ में प्रशासन द्वारा की गई कार्रवाई का विरोध व्यक्त करते हुए आरोप लगाया कि प्रशासन ने हिंदू लोगों के विरुद्ध असत्य प्रकरण दर्ज किए गए जिसको लेकर हिंदू समाज में व्यापक रोष व्याप्त है एवं झूठे प्रकरण वापस लिए जाने की मांग भी की गई नगर में बंद के दौरान चर्चा रही कि प्रशासन द्वारा समय रहते उचित कदम उठा लिए जाते तो सोमवार को बंद की स्थिति निर्मित नहीं होती।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts