Breaking News

16 वर्षीय युवती के अपहरण तथा बलात्कार के आरोपी को 10 वर्ष का सश्रम कारावास व 8000 रूपये का अर्थदण्ड

मंदसौर। माननीय प्रथम अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश मन्दसौर श्री राजवर्द्धन गुप्ता द्वारा थाना अफजलपुर जिला मन्दसौर के सन् 2009 के एक में आरोपी कन्हैयालाल पिता वजेराम निवासी अरनियागुर्जर को सोलह वर्षीय युवती के अपहरण व बलात्कार के आरोप में दोषी मानकर धारा 363 भा.द.वि. में तीन वर्ष सश्रम कारावास व एक हजार रूपये अर्थदण्ड, धारा 366 भा.द.वि. में तीन वर्ष सश्रम कारावास व एक हजार रूपये अर्थदण्ड, धारा 376 भा.द.वि. में दस वर्ष सश्रम कारावास व पाँच हजार रूपये अर्थदण्ड, धारा 506 भा.द.वि. में दो वर्ष का सश्रम कारावास व एक हजार रुपये अर्थदण्ड, सभी सजाएँ एक साथ भुगताई जावेगी, कुल दस वर्ष का सश्रम कारावास व आठ हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया है।

लोक अभियोजक प्रफुल्ल यजुर्वेदी ने बताया कि 20.05.2009 को कन्हैयालाल पिता नानुराम निवासी फतेहगढ़ ने रिपोर्ट की थी कि उसकी सोलह वर्षीय पुत्री बिना बताये कहीं चली गई है। पुलिस अफजलपुर द्वारा आरोपी कन्हैयालाल के आधिपत्य से युवती को 27 अगस्त 2009 को बरामद कर युवती से पूछताछ की गई तो युवती ने बताया 19मई 2009 को आरोपी अपने साथ बहला फुसला कर उसे जोधपुर ले गया तथा जान से मारने की धमकी देकर अपने कब्जे में रखा तथा उसके साथ बलात्कार किया। पुलिस अफजलपुर द्वारा आरोपी कन्हैयालाल को गिरफ्तार कर बालिका का चिकित्सकीय परीक्षण करवाया व अन्य साक्ष्य एकत्रित की। प्रकरण में अभियोजन द्वारा अपहर्ता बालिका सहित दस साक्षियों के कथन करवाये। प्रकरण में परिक्षित साक्षियों के कथन व प्रदर्शित दस्तावेजों के आधार पर माननीय न्यायालय द्वारा अभियुक्त कन्हैयालाल पिता वजेराम निवासी अरनियागुर्जर के विरूद्ध प्रकरण संदेह से परे सिद्ध होना पाया गया तथा दस वर्ष का सश्रम कारावास व आठ हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts