Breaking News

200 से ज्यादा आपराधिक मामलों का निराकरण नहीं हुआ

ठंर्ड की शुरुआत से ही चोर सक्रिय हो चुके थे। जिलेभर में चोरी सहित अन्य बड़ी घटनाएं हुई हैं। जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों में गंभीर अपराधों की फेहरिस्त लंबी है। थानों में इन गंभीर अपराधों की पेडिंग सूची पर नजर डाली जाए तो सहज ही पुलिस की निष्क्रियता का अंदाजा लगाया जा सकता है। अधिकारियों के थानों पर जाकर निर्देश देने के बाद भी 200 से अधिक गंभीर अपराध पेडिंग पड़े हुए हैं। इसी वर्ष हुए कई अपराधों में आरोपियों की तलाश अधूरी है, तो एक साल पहले हुए कई अपराध अनसुलझी पहले बने हुए हैं।

एसपी को खुद जाना पड़ा फरियादी के यहां
पूर्व एसपी मनोज शर्मा ने कोतवाली से लगाकर जिले के अन्य थानों का दौर किया। नए साल से पहले पेडिंग अपराधों का निराकरण करने के निर्देश दिए गए, लेकिन थाना प्रभारियों ने निर्देशों को गंभीरता से नहीं लिया। इधर मल्हारगढ़ में 5 दिसंबर को रमेशचंद्र विजयवर्गीय के यहां 15 लाख रुपए की चोरी की वारदात हुई। इसी मकान में चार दिन बाद फिर ताले तोड़े गए। पुलिस को मामले में कोई सुराग नहीं लगा। एसपी ओपी त्रिपाठी को खुद फरियादी के घर जाकर जांच पड़ताल करना पड़ी। टीआई केके शर्मा को जल्द अपराधियों को पकड़ने के निर्देश दिए गए।

कोतवाली के 25 अपराध पेडिंग
जिला मुख्यालय के थानों की बात करें तो कोतवाली में सबसे ज्यादा 25 अपराध पेडिंग पड़े हुए हैं। इसके अलावा अफजलपुर में 32, गरोठ में 30, नाहरगढ़ में 27, पिपलियामंडी में 23, नाहरगढ़ में 27 अपराध लंबित पड़े हुए हैं। इसके अलावा भावगढ़ में 22, भानपुरा में 21, मल्हारगढ़ में 17, सीतामऊ में 16 और वायडी नगर में 9 अपराध पुलिस के सिरदर्द बने हुए हैं।

एलईडी चोर गिरफ्त से बाहर
अगस्त माह से चोरों की नजर ग्राम पंचायतों की एलईडी पर है। ग्राम पंचायत मानपुरा, दलावदा, धंधे़ड़ा, दीपाखेड़ा, राजनगर, कोचवी, सीहोर, लाऊखेड़ी, पटलावदा, हतुनिया, कटक्या, गुर्जरबर्डिया, पालड़ी, इशाकपुर, चिरमोलिया, गुलियाना सहित 50 से अधिक ग्राम पंचायतों से चोर सिर्फ 20 हजार कीमत की एलईडी ही चुराकर ले गए। जबकि कम्प्यूटर, सीपीयू सहित अन्य सामग्री छोड़ गए। एलईडी चोरों का पुलिस को सुराग नहीं लगा है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts