Breaking News

24 घंटे बाद भी नहीं बुझ सकी फैक्ट्री में लगी आग

मंदसौर. शहर के समीपस्थ गांव मुल्तानपुरा में स्थित भाजपा जिला महामंत्री महेंद्र चौरडिय़ा की फैक्ट्री में आग पर ३० घंटे बाद भी काबू नहीं पा गया है। सोमवार को भी सुबह से लेकर रात तक आग पर काबू पाने के लिए रूक-रुक कर फायर फाइटर का उपयोग किया गया। लेकिन रात आग पर काबू नहीं पाया गया। पटवारी परीक्षित चौहान सहित अन्य अधिकारी सुबह से लेकर रात तक मौके पर ही थे। अभी आग से कितना नुकसान हुआ है। इसको लेकर फैक्ट्री संचालक नहीं आंकलन नहीं लगाया है। फैक्ट्री संचालक महेंद्र चौरडिय़ा का कहना है कि आग पूरी तरह बुझ जाए उसके बाद ही पता चलेगा कितना नुकसान इससे हुआ है।

ग्राम पंचायत सचिव ओमप्रकाश अहिरवार ने बताया कि कार्य चलाने की अनुमति फैक्ट्री संचालक से मांगी गई थी। लेकिन हमें आज तक नहीं दी गई। पंचायत द्वारा फैक्ट्री को बंद करने के लिए जनसुनवाई में आवेदन भी दिया था। आवेदन में कारण बताया था कि इस फैक्ट्री से प्रदूषण फैल रहा है और बीमारी हो रही है। लेकिन आज तक कुछ नहीं हुआ। फैक्ट्री संचालक चौरडिया का कहना है कि पंचायत के द्वारा कौनसी अनुमति मांगी गई इसकी जानकारी मुझे नहीं है। मुल्तानपुरा की फैक्ट्री में काम करते समय आग से झुलसने वाले मजदूर राजीव पिता बूहराज उम्र ३०, नारायण पिता ननकू उम्र ३६, ललित पिता ननकू उम्र २५ साल तीनों निवासी निवासी रमईपुरा चित्रकूट और नरेश पिता फूलचंद उम्र १९ साल निवासी मारचंदा चित्रकूट गंभीर रूप से झुलस गए थे। चारों का जिला अस्पताल में प्राथमिक उपचार करने के बाद इंदौर रैफर किया गया था।एसडीएम एसएल शाक्य ने बताया कि आग पर काफी हद तक काबू पा लिया गया है। आग लगी उस दौरान जो मजदूर काम कर रहे थे। सभी को बाहर लाया गया था। उनमें से चार लोग घायल हो गए थे। जिनको इंदौर रैफर किया गया है।

 

मुल्तानपुरा में स्थित भाजपा जिला महामंत्री महेंद्र चौरड़िया की फैक्टरी में लगी आग का कारण पूरा सिस्टम ही है। जिन लोगों पर इन सभी को देखने की जिम्मेदारी थी, उनमें से एक ने भी अपना दायित्व ठीक से नहीं निभाया। फैक्टरी का न ठीक से फायर ऑडिट हो रहा था और न ही सेफ्टी ऑडिट हो रहा था। सत्ता की दादागिरी से ही यह फैक्टरी संचालित हो रही थी। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड दो बार फैक्टरी बंद करने का नोटिस भी दे चुका है, पर उसके आगे की कार्रवाई करने की उसकी भी हिम्मत नहीं हुई। अगर होती तो आज चार मजदूर जीवन और मौत से संघर्ष नहीं कर रहे होते। चार साल पहले तक उद्योग विभाग इस तरह की फैक्टरियों की अनुमति भी नहीं देता था। फिर भी आठ साल से यहां फैक्टरी चल रही थी।

पुराने टायरों व रबर के वेस्ट मटेरियल से ऑइल बनाने की फैक्टरी लगभग आठ सालों से मुल्तानपुरा-रलायता रोड पर चल रही थी। इससे पहले यही फैक्टरी कुछ समय तक महू-नीमच राजमार्ग पर औद्योगिक क्षेत्र में भी चली, पर महाप्रबंधक उद्योग प्रकाश इंदौरे की मानें तो उस समय इस तरह की फैक्टरी उद्योग की श्रेणी में नहीं आती थी। इसमें वेस्ट मटेरियल का उपयोग होता है और दूसरे देशों का कचरा हमारे यहां जलाकर प्रदूषण बढ़ाने का ही कार्य कर रहा है। हालांकि तीन-चार साल पहले उद्योग विभाग की सूची में यह शामिल हो गया है, पर इतने सालों तक अवैध चल रही फैक्टरी को लेकर कहीं कोई जिम्मेदार कुछ करने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। क्योंकि फैक्टरी भाजपा में पिछले कई सालों से विभिन्ना पदों पर रहे और अभी जिला महामंत्री महेंद्र चौरड़िया की है।

आग बुझाने के लिए रखे थे छोटे-छोटे फायर एक्सटेंशन

फैक्टरी में 10 बायलर लगे हैं, पर उनका न तो फायर ऑडिट हो रहा है और न ही सेफ्टी ऑडिट। फैक्टरी में एसा कोई फायर सिस्टम भी नहीं लगा था जिसे आग लगने के दौरान तत्काल इस्तेमाल किया जा सके। वहां दिखावे के लिए छोटे-छोटे फायर एक्सटेंशन लगे थे, जिनसे घर की आग भी नहीं बुझती है।

पूरा फैक्टरी परिसर भरा है ज्वलनशील पदार्थों से

लगभग 10 बीघा क्षेत्र में फैले फैक्टरी परिसर में जगह-जगह ज्वलनशील पदार्थों का ढेर लगा है। फैक्टरी में वेस्ट टायर, ट्यूब सहित अन्य सामानों के जगह-जगह ढेर लगे हैं। इसके अलावा बायलर में जलाने के लिए लकड़ियां, भूसा व अन्य सामान पड़ा था। इसके बाद भी यहां काम कर रहे मजदूरों की सुरक्षा के साथ ही फैक्टरी की सुरक्षा के भी कोई उपाय नहीं कर रखे थे। इसी कारण केमिकल की केन खोलने के दौरान विस्फोट हो गया और आग लग गई।

प्रभारी मंत्री आए थे, तब भी ले गए थे ग्रामीण

2013 में सरकार बनने के बाद शुरुआती दौर में मंदसौर जिले के प्रभारी मंत्री दीपक जोशी बने थे। उस दौरान एक बार ग्राम मुल्तानपुरा पहुंचने पर ग्रामीणों ने फैक्टरी से होने वाली परेशानियों, प्रदूषण, फसले खराब होने की शिकायत भी की थी। तब प्रभारी मंत्री जोशी खुद फैक्टरी तक पहुंचे थे, पर वहां भाजपा के पदाधिकारी महेंद्र चौरड़िया को देखकर वापस हो लिए। इसके बाद एक बार तत्कालीन कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव भी निरीक्षण कर चुके थे, पर वे भी सत्ता के दबाव में चुप रहे।

जनसुनवाई, सीएम हेल्पलाइन में भी शिकायत कर चुके हैं ग्रामीण

मुल्तानपुरा के ग्रामीण इस फैक्टरी से होने वाली परेशानी को लेकर कई बार जनसुनवाई से लेकर सीएम हेल्पलाइन से भी शिकायत कर चुके हैं, पर कोई कार्रवाई नहीं होने पर सभी चुप बैठ गए थे। रविवार को आग लगी तो फिर सभी ग्रामीण सक्रिय हुए। सोमवार को भी ग्रामीण कलेक्टोरेट पहुंचकर शिकायत दर्ज कराई है।

जानबूझकर जलाते रहे मटेरियल

सोमवार को टायर व अन्य वेस्ट मटेरियल को फैक्टरी संचालक बुझाने के बजाय जानबूझकर जलाते रहे। उनका कहना था कि अब यह किसी काम का नहीं है तो जल जाने दो। जबकि वहां दो फायर ब्रिगेड भी खड़ी थी। इससे प्रदूषण भी फैलता रहा। मौके पर मिले फैक्टरी संचालक पलाश चौरड़िया ने कहा कि फायर व सेफ्टी ऑडिट समय-समय पर कराते रहे हैं। अभी कुछ बता नहीं सकते हैं।

कई बार मांगे अनुमति के कागजात

मुल्तानपुरा ग्राम पंचायत के सचिव ओमप्रकाश अहीरवार ने बताया कि यह फैक्टरी लगभग आठ साल से लगी है। हमने भी संचालकों से फैक्टरी के लायसेंस व अनुमति संबंधी कागजात कई बार मांगे, पर कोई नहीं दे रहा है। फैक्टरी की वजह से हो रहे प्रदूषण से गांव के लोग भी बीमार हो रहे हैं। पंचायत से अनुमति नहीं दी गई है। ग्रामीणों ने कई बार जनसुनवाई में भी शिकायत की है। एक बार ग्रामीणों की शिकायत पर प्रभारी मंत्री दीपक जोशी भी आए थे।

– फैक्टरी में आग के बाद हमारी पहली प्राथमिकता थी कि आग में कोई फंसा हुआ तो नहीं है। इसके बाद अब सामने कई सारी बातें आ रही हैं। कोई कह रहा था कि फैक्टरी की जमीन सरकारी भी है। सेफ्टी ऑडिट, फायर ऑडिट सहित अन्य सारी चीजें अब देखेंगे। -धनराजू एस, कलेक्टर

-मंदसौर के मुल्तानपुरा के पास लगी टायर से ऑइल निकालने की फैक्टरी को दो बार नोटिस जारी कर चुके हैं, पर जवाब नहीं दिया गया। ———- त्रिवेदी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, उज्जैन

– इस फैक्टरी का सेफ्टी ऑडिट नहीं होता है। कुछ श्रमिकों ने बताया है कि श्रमिकों की सुरक्षा के लिए उपकरण दिए हुए थे। नवंबर 2018 में ही इस फैक्टरी का लायसेंस जारी हुआ है। अभी तक जो निर्देश हैं, उसके किसी कारखाने का आकस्मिक निरीक्षण करने का अधिकार नहीं है। ऑनलाइन आदेश आने पर ही किया जा सकता है। -हिमांशु सोलोमान, फैक्टरी निरीक्षक, श्रम विभाग

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts