Breaking News

3 v/s 3 and 2 v/s 2 का गणित

मंदसौर. जिले की चारों विधानसभाओं की स्थिति नामांकन वापसी के बाद अब साफ हो चुकी है। दोनों दलों के आलानेताओं के मानमनोव्वल के बाद कुछ बागी माने तो कुछ ने नेताओं की बात को सिरे से खारीज कर चुनावी मैदान में है। इसके बाद अब केवल 39 उम्मीदवार चुनावी मैदान में है। इसमें गरोठ विधानसभा सीट और सुवासरा विधानसभा सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला होगा। तो मंदसौर और मल्हारगढ़ विधानसभा सीट पर भाजपा और कांग्रेस के बीच आमने-सामने की टक्कर होगी।

गरोठ सीट पर त्रिकोणीय हुआ मुकाबला 
गरोठ सीट पर कांग्रेस के बागी पूर्व जनपद पंचायत अध्यक्ष तुफान सिंह सिसौदिया के नाम वापस नहीं लेने के बाद भाजपा-काँग्रेस की आमने-सामने की टक्कर त्रिकोणीय मुकाबले में परिवर्तित हो गई है। यहां पर मुख्य मुकाबला निर्दलीय उम्मीदवार तुफान सिंह, कंाग्रेस उम्मीदवार सुभाष कुमार सोजतिया और भाजपा उम्मीदवार देवीलाल धाकड़ के बीच है।

सुवासरा सीट पर भी त्रिकोणीय मुकाबला 
सुवासरा विधानसभा सीट पर काँग्रेस के बागी ओम सिंह भाटी के निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैदान में रहने के बाद अब यहां भी त्रिकोणीय मुकाबला हो गया है। यहां पर अब निर्दलीय उम्मीदवार ओम सिंह भाटी, कांग्रेस उम्मीदवार हरदीप सिंह डंग और भाजपा उम्मीदवार राधेश्याम पाटीदार के बीच मुख्य मुकाबला है। इस सीट पर पोरवाल समाज, राजपूत समाज, सौंधिया राजपूत समाज सहित कुछ और समाज के भी बड़ी संख्या में मतदाता है। जो उम्मीदवार इन समाजों के साथ साथ अन्य मतदाताओं को साधेगा वह चुनाव में बाजी मारेगा।

मंदसौर और मल्हारगढ़ में आमने-सामने की टक्कर 
मंदसौर और मल्हारगढ़ विधानसभा में भाजपा और काँग्रेस उम्मीदवारों की आमने-सामने टक्कर है। दोनों ही सीटों पर दोनों दलों के उम्मीदवारों ने पूरी ताकत झौंक दी है। दोनों ही दल के उम्मीदवार सुबह से लेकर रात तक करीब 17 से 22 गांवों में पहुंचकर अपनी बात मतदाताओं के सामने रख रहे है। कुछ ही दिनों में स्टार प्रचारकों के द्वारा सभा एवं रैलियां भी होने वाली है।

 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts