36 वां वार्षिक ग्रीष्मकालीन निःयुद्ध प्रशिक्षण शिविर का हुआ समापन

Hello MDS Android App

मन्दसौर। निःयुद्ध भारत की सबसे प्राचीनतम निशस्त्र लड़ने की कला है। इस कला को एक स्वस्थ एवं रोमांचक खेल कला के रूप में विकसित करने के उद्देश्य से विगत 36 वर्षों से भारत के हृदय मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में प्रति वर्ष मार्शल आर्ट की नियुद्ध की विधाओं पर प्रशिक्षण शिविर आयोजित किये जा रहे है जिसमें मातृशक्ति के लिये आत्म रक्षा प्रशिक्षण शिविर पर भी ध्यान दिया जा रहा है। इसी परम्परा में दिनांक 7 मई से 15 जून 2018 तक खेल एवं युवक कल्याण विभाग तथा शिक्षा विभाग मंदसौर के निर्देशन में नियुद्ध  स्पोर्ट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया शाखा जिला नियुद्ध गुरूकुल मंदसौर के द्वारा वर्ल्ड नियुद्ध फेडरेशन तथा माननीय नियुद्ध गुरूकुल के नियमों के अनुसार एवं नियुद्ध एयरगन एवं तीरन्दाजी स्पोर्ट्स एसोसिऐशन विधाओं पर आयोजित किया गया। नियुद्ध स्पोर्ट फेडरेशन ऑफ इंडिया की मंदसौर जिला इकाई द्वारा उक्त प्रशिक्षण शिविर दिनांक 15 जून 2018 को पूर्ण कर 1 जुलाई 2018 को समापन किया गया।

इस अवसर पर नियुद्ध खेल के संस्थापक नरेन्द्र श्रीवास्तव एवं संस्था के अध्यक्ष राजेन्द्र अग्रवाल एवं संस्था के अन्य पदाधिकारियों द्वारा साधारण समारोह में सभी प्रशिक्षणार्थियों को शासन से प्राप्त प्रमाण पत्र एवं टीशर्ट और नियुद्ध स्पोर्ट्स फेडरेशन जिला इकाई नियुद्ध गुरूकुल मंदसौर तथा नियुद्ध एयरगन एवं तीरन्दाजी स्पोर्ट्स एसोसिऐशन द्वारा प्रमाण पत्र प्रदान किये गये। समारोह में प्रशिक्षणार्थियों के पालकगण भी उपस्थित रहे। कैम्प के समापन में 200 से अधिक बच्चों को प्रमाण पत्र दिये गये तथा अपना घर मंदसौर द्वारा लगाये गये कैम्प में 80 बच्चों ने भाग लिया। शिविर में प्रमाण पत्र हासिल किये। इस अवसर तकनिकी प्रशिक्षण इस शिविर के तकनिकी प्रशिक्षणगण नागेश्वर सूर्यवंशी, षष्ठांशी नियुद्ध गुरू, 7 डिग्री ब्लेक बेल्ट/स्कार्फ, प्रवीण भण्डारी, एकांशी नियुद्ध गुरू, ब्लेक बेल्ट/स्कार्फ, अजयसिंह चौहान, एकांशी नियुद्धगुरू ब्लेक बेल्ट/स्कार्फ, सुभाष भागर्व एकांशी नियुद्धगुरू ब्लेक बेल्ट/स्कार्फ तथा आदित्य सुराह नियुद्धगुरू ब्लेक बेल्ट/स्कार्फ, सनी घोड़ेला ब्लेक बेल्ट/स्कार्फ, महेश गेहलोद, राहुल कुमावत, नेनशी गंगवाल, अभिरूची नंद, कंकु अपना घर, संजना अपना घर, निलम अपना घर, मोनिका अपना घर, को भी नियुद्ध गुरूकुल के संस्थापक द्वारा सम्मानित किया गया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *