Breaking News

ABVP के कार्यकर्ताओं द्वारा NSUI उम्मीदवार को धमकी देने का आरोप 

Story Highlights

  • एक ऑडियो भी हुआ वायरल जिसमें कॉलेज नहीं आने की धमकी दी गई
  • NSUI उम्मीदवार रक्षा भादविया ने भी धमकी देने के लगाए आरोप

मंदसौर। छात्रसंघ चुनाव के दौरान छात्र संगठन के कार्यकर्ताओं ने किस तरह जीत हासिल करने के प्रयास किए इसके उदाहरण भी सामने आने लगे हैं। शाम को एक ऑडियो वायरल हुआ है। इसमें अभाविप का पदाधिकारी कहता नजर रहा है कि कॉलेज आए तो ठीक नहीं होगा। इसी तरह एनएसयूआई की उम्मीदवार रक्षा भादविया ने भी जिला कांग्रेस कार्यालय में प्रेस वार्ता कर बताया कि अभाविप कार्यकर्ता द्वारा फोन पर डराया धमकाया एवं कॉलेज नहीं आने की धमकी दी। जो मतदाता मुझे वोट करने आए थे, उन्हें बाहर ही रोक लिया। उनके आईसी छीन लिए गए। इस कारण मैं अध्यक्ष का फॉर्म ही नहीं भर पाई। मेरा एनएसयूआई से चुनाव लड़ने का मकसद ही यही था कि अभाविप की गुंडागर्दी पर रोक लगाई जा सके। इस अवसर पर एनएसयूआई जिलाध्यक्ष सुनील बसेर, एनएसयूआई पूर्व जिलाध्यक्ष राजेश सौलंकी, इंटक नेता सुरेन्द्र कुमावत, हेमन्त शर्मा, तरूण शर्मा, अशांशु संचेती, दिलीप पिण्डा, जितेन्द्रसिंह सौलंकी, मनीष शर्मा, राहुल सीनम, सत्यनारायण चौहान, मनीष चन्द्रावत, विजेश राठौर, आदर्श जोशी, कुलदीपसिंह मण्डलोई, उमेश मुंदड़ा भी उपस्थित थे।

गांव के सरपंच को जमा करा दो रसीद और आईडी

इधर वायरल हुए ऑडियो में कथित रूप से अभाविप का नगर उपाध्यक्ष कुणाल घोड़पकर एक उम्मीदवार सूर्यवंशी को कह रहा है कि अपने गांव के सरपंच के पास आईडी, फीस कार्ड और कॉलेज से मिली रसीद जमा करा दो। ऑप कल कॉलेज नहीं आओ तो ठीक रहेगा। इधर से सूर्यवंशी ने नाम पूछा तो वह बोला कि विद्यार्थी परिषद, दो-तीन बार पूछा तो बताया कुणाल। सूर्यवंशी ने कहा कि क्यों नहीं आ सकते हैं तो कुणाल ने बताया कि कॉलेज आ जाओ फिर देखते हैं कि तू चुनाव लड़ लेगा और विद्यार्थी परिषद से जीत जाएगा क्या। जब सूर्यवंशी ने पूछा कि मैं तो निर्दलीय लड़ रहा हूं तो सामने से यह कहकर फोन काट दिया कि ठीक है अब कॉलेज आओ देखते हैं।

इस संबंध में अभाविप के विभाग संयोजक मिलिन व्यास ने बताया कि संगठन के कार्यकर्ताओं पर लगाए गए सभी आरोप गलत हैं। परिषद ने पूरी मेहनत के साथ चुनाव में जीत दर्ज की है।

Viral Audio

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts