Breaking News

दादा की हत्या के बाद से सर्दी में भी गुमटियों को लेकर पारा गर्म है!

मंदसौर. नगर पालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या करने वाले आरोपी मनीष बैरागी की गुमटी हटाने के बाद से शहर में लगी अवैध गुमटियों का मामला तूल पकड़ रहा है। हालांकि लगातार गुमटियों का मामला उठने के बाद भी अब किसी भी स्तर से इन्हें हटाने की पहल शुरु नहीं हुई है। गुमटियों पर शहर में अब राजनीति का दौर शुरु हो गया है।

पहले विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने गुमटियां हटाने और भविष्य में अवैध गुमटी कही पर नहीं लगे ऐसी व्यवस्था करने का बयान गत दिनों एक बैठक में दिया था। इस बयान पर अब पूर्व मंत्री नरेंद्र नाहटा ने तंज कसते हुए कहा कि १० सालों से वह विधायक है और इससे पहले नपा के अध्यक्ष रहे। राज्य से लेकर केंद्र में उनकी सरकार रही तब क्यों नहीं इन गुमटियों को हटाने की पहल की। गुमटियों का हटाने की पहल पहले खुद विधायक को करनी चाहिए। विधायक के बयान के बाद आए नाहटा के बयान पर अब शहर में भाजपा-कांग्रेस की राजनीति गरमाने लगी है। कारण भी स्पष्ट है गुमटियां दोनों दलों के नेताओं के संरक्षण से ही चल रही है।

यह कहा नाहटा ने 
पूर्व मंत्री नाहटा ने कहा कि सिसौदिया पिछले 10 सालों से विधायक है। इसके पहले वह नगर पालिका अध्यक्ष रहें है। 15 सालों में नगर पालिका में उनके दल के अध्यक्ष रहें तथा राज्य में उनके दल की सरकार रही। यदि सिसौदिया अवैध गुमटियों के पक्ष में नही थे तो फिर शहर में इतनी अवैध गुमटिया किसके सहयोग से लगी। उन्होंने बयान में सीधे आरोप लगाते हुए कहा कि सारा शहर जानता है कि इन गुमटियो से गरीबों का भला कम नेताओं का ज्यादा हो रहा। जो इनका किराया वसूल रहें है। गुमटियों के लिए सिसौदिया की सहमति नही थी तो क्या दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध कार्रवाई करने के लिए वह सहमति देगे।
नाहटा ने कहा कि सिसौदिया गुमटियां हटाने के मामले में गभींर है तो उनके दल के पार्षदो से चर्चा करने के बाद इस पर निर्णय उन्हें लेना चाहिए। केवल गुमटिया ही नही नगर पालिका के सरक्षंण में ऐसी अनेक गतिविधिया हो रही है जिन पर अकुंश लगना चाहिए।

नेताओं व रसूखदारों ने लगवा रखी है गुमटियां
अवैध गुमटियां शहर में बड़ा मुद्दा है। इसका कारण यह है कि अधिकांश जगहों पर अवैध रुप से गुमटियां दोनों दलो के नेताओं ने लगवा रखी है और नेताओं के संरक्षण के कारण ही शहर में अवैध गुमटियों की संख्या दिनोदिन बढ़ती जा रही है। नेताओं से लेकर रसूखदारों ने करीब 5 हजार से अधिक गुमटियां शहर में लगवा रखी है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts