Breaking News

ATM कार्ड नं. पूछकर ग्राहक के खाते से निकली राशि मामले में बैंक की लापरवाही : उपभोक्ता फोरम मंदसौर ने दिया ऐतिहासिक फैसला 

मन्दसौर। जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण फोरम जिलापीठ मंदसौर ने प्रकरण क्र. 107/17 प्रभुलाल हिंदल विरूद्ध भारतीय स्टेट बैंक शाखा मंदसौर व पिपलियामंडी में महत्वपूर्ण आदेश देते हुए विपक्षी भारतीय स्टेट बैंक को आदेश दिनांक से एक माह के अन्दर परिवादी के खाते में अवैध तरीके से आहरित राशि 38760 रू. जमा कराने व परिवाद व्यय 2000 रू. का भुगतान करने का आदेश दिया गया।
परिवादी के अधिवक्ता नरेन्द्र हिन्दल ने प्रकरण की संक्षिप्त जानकारी देते हुए बताया कि परिवादी का विपक्षी बैंक भारतीय स्टेट बैंक की टीलाखेड़ा पिपलियामंडी शाखा में बचत खाता है। जिस पर एटीएम कार्ड प्राप्त किया हुआ है। परिवादी को दिनांक 27.05.2016 को फोन करके अज्ञात व्यक्ति द्वारा स्टेट बैंक की मुख्य शाखा से बोलना बतलाकर आपका एटीएम कार्ड बन्द होने व आधार कार्ड से लिंक करवाने की बात कहकर एटीएम के पीछे लिखे 19 अंक पूछे गये। इस पर परिवादी ने एटीएम के 19 नम्बर बताये जिस पर से 8 बार ट्रांजेक्शन करते हुए आनलाईन खरीदी करते हुए रूपये 42760 रू. निकाल लिये ये। जिसकी परिवादी द्वारा दिनांक 28.05.2016 को विपक्षी बैंक, पुलिस अधीक्षक व थाने को सूचना दी गई व उक्त परिवाद प्रस्तुत किया। निकाली गई राशि में से रू. 4000 वापस परिवादी के खाते में जमा हो गई किन्तु शेष राशि नहीं आई।
माननीय उपभोक्ता फोरम द्वारा परिवादी के परिवाद को स्वीकार करते हुए विपक्षी की इलेक्ट्रानिक माध्यम से किये जा रहे संव्यवहार को सुरक्षा में कहीं ना कहीं लापरवाही बरती होना मानते हुए विपक्षी को आहरित राशि 38760 रू. जमा कराने व परिवाद व्यय 2000 रू. का भुगतान करने का आदेश दिया गया।
परिवादी की ओर से सफल पैरवी अधिवक्ता नरेन्द्र कुमार हिन्दल एवं महेश कुमार शर्मा द्वारा की गई।
संलग्न- फोरम आदेश स्केन कॉपी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts