Breaking News

BBC और अमर उजाला में वरिष्ठ पदों पर रह चुके पत्रकार विनोद वर्मा गिरफ्तार

Hello MDS Android App

गाजियाबाद/रायपुर। बीबीसी और अमर उजाला में वरिष्ठ पदों पर रह चुके पत्रकार विनोद वर्मा को छत्तीसगढ़ पुलिस ने ब्लैकमेल और उगाही के आरोपों में तड़के उनके आवास से गिरफ्तार कर लिया। रायपुर जिले के पुलिस अधीक्षक संजीव शुक्ला ने बताया कि करीब 500 पोर्न सीडी, दो लाख रुपए नकद, एक पेन ड्राइव, लैपटॉप और एक डायरी पत्रकार के घर से बरामद की गई है। इसबीच, पत्रकार ने दावा किया है कि उनके पास ‘‘छत्तीसगढ़ के एक नेता की सेक्स सीडी’’ थी, जिसकी वजह से छत्तीसगढ़ पुलिस उनसे खफा थी।

इंद्रापुरम पुलिस थाने से अदालत ले जाते समय, सीडी बनाने के आरोपों पर विनोद वर्मा ने कहा, ‘‘केवल एक पेन ड्राइव….और कुछ भी नहीं…। मेरा उन सभी सीडी से कोई नाता नहीं है… सीडी पहले ही सार्वजनिक हो चुकी है।’’ वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (गाजियाबाद) एच एन सिंह ने बताया कि विनोद वर्मा को राष्ट्रीय राजधानी की बाहरी सीमा पर स्थित महागुन मेंशन अपार्टमेंट से छत्तीसगढ़ पुलिस की एक टीम ने गाजियाबाद पुलिस की मदद से गिरफ्तार किया था। उनके अनुसार छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले के पंडरी पुलिस थाने में पत्रकार के खिलाफ ब्लैकमेल और उगाही का मामला दर्ज किया गया है।

रायपुर के डीएसपी शुक्ला ने बताया कि वर्मा पर सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रकाश बजाज नामक व्यक्ति ने एक शिकायत दर्ज की थी। शुक्ला ने कहा,‘‘ शिकायतकर्ता ने रायपुर के पंडरी पुलिस थाने में एक अज्ञात कॉलर द्वारा फोन पर परेशान किए जाने की शिकायत दर्ज कराई थी। फोन करने वाले व्यक्ति ने उसे कहा था कि उसके पास उसके आका की एक सीडी है।’’ बजाज ने पुलिस को बताया कि फोन करने वाले ने उसे धमकी दी थी कि उसकी मांग पूरी न होने पर वह सीडी बांट देगा। अधिकारी ने बताया कि एक खोजी दल पत्रकार का पता लगाने दिल्ली पहुंचा था।

शुक्ला ने कहा, ‘‘जांच के दौरान, पुलिस को उस दुकान का पता चला जहां से इस सीडी को कॉपी कराया गया था। दुकानदार ने बताया कि विनोद वर्मा नामक व्यक्ति ने सीडी की एक हजार कॉपी तैयार कराई थी।’’ उन्होंने बताया कि इसके बाद उन्होंने गाजियाबाद में अपने समकक्ष से संपर्क कर पत्रकार को उसके घर से गिरफ्तार किया और वहां से सीडी तथा अन्य सामग्री जब्त की। बीबीसी और अमर उजाला के पूर्व पत्रकार की गिरफ्तारी की खबर बाहर आने के बाद इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया के अनेक वरिष्ठ पत्रकार गाजियाबाद पुलिस स्टेशन के बाहर एकत्रित हो गए। आप नेता एवं पूर्व पत्रकार आशुतोष ने इसे ‘‘प्रेस पर हमला’’ करार दिया। उत्तर प्रदेश पुलिस को अपने एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि वर्मा की ‘‘रहस्मय’’ तरीके से गिरफ्तारी प्रेस की स्वतंत्रता पर हमले के समान है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *