Breaking News
संपादकीय

शहर को साधने में लगे दोनो प्रत्याशी : कांग्रेस हमेेशा मंदसौर नगर हारती आई है

शहर को साधने में लगे दोनो प्रत्याशी : कांग्रेस हमेेशा मंदसौर नगर हारती आई है
मंदसौर। विधानसभा चुनाव का माहौल अपने चरम पर चल रहा है। चुनावी प्रचार पूरे जोर शोर के साथ किया जा रहा है। चुनावी प्रचार के शुरूआती दिनों में जहां मंदसौर विधानसभा के भाजपा...
Read more

सीबीआई की परतें और प्याज के छिलके ( डॉ . घनश्याम बटवाल , मंदसौर )

सीबीआई की परतें और प्याज के छिलके ( डॉ . घनश्याम बटवाल , मंदसौर )
भारत की  केन्द्रीय जाँच एजेंसी सी बी आई को उसके ही कारकूनों ने  मजाक बना दिया है, और सरकार चुप है | प्याज के छिलकों की तरह रोज एक परत उतर रही है और सर्वोच्च न्यायलय में द...
Read more

कौन सी खबर “पेड न्यूज है” कौन सी नहीं (ब्रजेश जोशी सदस्य एम.सी.एस.सी)

कौन सी खबर
मंदसौर। स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव प्रक्रिया के लिये चुनाव आयोग द्वारा आचार संहिता बनाई गई है।  इसी कड़ी में प्रिन्ट, इलेक्ट्रानिक मीडिया एवं राजनैतिक दलो व अभ...
Read more

मंदसौर कौन किस पर पड़ेगा भारी : क्योंकि इस बार है सिसोदिया ओर नाहटा की है उम्मीदवारी

मंदसौर कौन किस पर पड़ेगा भारी : क्योंकि इस बार है सिसोदिया ओर नाहटा की है उम्मीदवारी
मन्दसौर (Brajesh Arya)। मन्दसौर विधान सभा के नाम को लेकर जो अंधेरा था वो दिपावली की सांयकाल को प्रदेश कांग्रेस ने नरेन्द्र नाहटा के नाम सूची में जोड़ कर उजाला कर दिया। जो...
Read more

पाश्चात्य की चपेट में भारतीय संस्कृति

पाश्चात्य की चपेट में भारतीय संस्कृति
पाश्चात्य की चपेट में भारतीय संस्कृति आज के दौर में जाती हुई दिखाई दे रही है स्त्री-पुरुष संबंधों के बारे में सर्वोच्च न्यायालय ने जो फैसला दिया है, ज्यादातर लोग उसकी तार...
Read more

दिल नहीं दिमाग से हो मतदान

दिल नहीं दिमाग से हो मतदान
भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, देश की लोकतांत्रिक प्रणाली को विश्व में बड़े सम्मान, स्वंछच्दता के साथ देखा जाता है। इस महान लोकतांत्रिक परंपरा के महायज्ञ का...
Read more

विवादित बयानों की राजनीति बन्द हो

विवादित बयानों की राजनीति बन्द हो
दिल्ली के मुख्यमंत्री का गाय को लेकर दिया गया विवादित बयान अत्यन्त निराशाजनक, अमर्यादित एवं भड़काऊ है। दो दिन पूर्व उनकी ओर से लखनऊ में गत दिवस हुए विवेक तिवारी हत्याकांड...
Read more

मुफ्त के मजदूर कार्यकर्ता ?

मुफ्त के मजदूर कार्यकर्ता ?
चुनाव और किसी भी पार्टी के कार्यक्रम में एक बड़ी से फ़ौज देखने को मिलती है जो अपने नेता और दल के विकास के खातिर कुछ भी कर गुजरने के लिए हर वक्त आतुर रहते हैं यह वो लोग होते...
Read more

इंटरनेट ने जीवन शैली में तेजी से बदलाव का दौर ला दिया है

इंटरनेट ने जीवन शैली में तेजी से बदलाव का दौर ला दिया है
इंटरनेट नित नयी तरक्की कर रहा है, इंटरनेट ने जबसे अपने पाँव भारत में पसारे हैं तबसे हर जगत में तरक्की के सिक्के गाड़ रहा है। इंटरनेट न सिर्फ संचार जगत में क्रांतिकारी बदला...
Read more

क्या है नाम बदलने की राजनीति? बीजेपी के साथ कांग्रेस भी नहीं है पीछे!

क्या है नाम बदलने की राजनीति? बीजेपी के साथ कांग्रेस भी नहीं है पीछे!
मासूम और भोलेभाले लोग, जो की किसी खास विचारधारा के मानसिक गुलाम होते है, उन्हें लगता है कि सरकार से जुड़े लोग उनकी भावनाओं के लिये कोई ऐसा कोई काम करते है… सोचने विच...
Read more

स्मृति शेष-  ओ जाने वाले हो सके तो लौट कर आना (विक्रम विद्यार्थी)

स्मृति शेष-  ओ जाने वाले हो सके तो लौट कर आना (विक्रम विद्यार्थी)
लगभग 44 साल पुरानी दोस्ती 7 अक्टूबर को पूरी हो गई। सबके प्रिय श्री कमल जैन का घातक बीमारी के कारण निधन हो गया। ग्राम काचरिया कदमाला में पारिवारिक कार्यक्रम में था, उसी सम...
Read more

सामाजिक समरसता आज समाज के लिए क्यो आवश्यक है ओर इसका असली अर्थ क्या है?

सामाजिक समरसता आज समाज के लिए क्यो आवश्यक है ओर इसका असली अर्थ क्या है?
‘सामाजिक समरसता’ एक ऐसा विषय है जिसकी चर्चा करना एवं इसे ठीक प्रकार से कार्यान्वित करना आज समाज एवं राष्ट्र की मूलभूत आवश्यकता है। इसके लिए हमें सर्वप्रथम ...
Read more

हिंदी भाषा के बारे में रोचक तथ्य

हिंदी भाषा के बारे में रोचक तथ्य
जिस देश की कोई रास्ट्रीय भाषा नही होती उसका कोई अस्तित्व नही है तभी तो कहते है राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र गूँगा है। तो आज हम अपनी अपने हिन्दुस्तान की रास्ट्रीय भाषा की ब...
Read more

हिंदुस्तान में हिन्दी दिवस क्यो मनाया जाता है क्या ये mother ओर father day जैसा नहीं है ?

हिंदुस्तान में हिन्दी दिवस क्यो मनाया जाता है क्या ये mother ओर father day जैसा नहीं है ?
एक तरफ हम कहते है की mother, father day ओर भी इसप्रकार के दिन मनाना या उस विशेष दिन नाटक नोटंकी करना हमारी संस्कृति का हिस्सा नहीं है ओर हम फिर उसी परिपाटी पर हिन्दी दिवस...
Read more